GORAKHPUR TRAGEDY: सरकार की लापरवाही से गई मासूमों की जान: सुभाषिनी

माकपा का प्रतिनिधिमंडल पहुंचा गोरखपुर मेडिकल कॉलेज, परिजन से भी मिलने घर पहुंचे

By: sarveshwari Mishra

Published: 18 Aug 2017, 07:26 AM IST

गोरखपुर. बीआरडी मेडिकल कॉलेज में 10/11 अगस्त को हुई मासूमों की मौत पर प्रदेश व देश की राजनीति गरमा गई है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की वरिष्ठ नेता सुभाषिनी अली की अगुवाई में एक प्रतिनिधिमंडल ने मेडिकल कॉलेज का दौरा किया। इसके बाद पीड़ित परिजन से मुलाकात की।

 

 

पत्रकारों से बातचीत करते हुए सुभाषिनी अली ने कहा कि मासूमों की मौत लापरवाही से हुई। सरकार खुद को बचाने के लगी है। इस प्रकरण की न्यायिक जांच होनी चाहिए। सरकार अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करने में विफल रही है। मासूमों की मौत के प्रकरण में पीड़ित परिवार को मुआवजा प्रदेश सरकार दे। इसके साथ ही न्यायिक जांच हो और दोषी सभी जिम्मेदारों को सजा मिले।

 

 यह भी पढ़ें- बीआरडी मेडिकल कॉलेज से निलंबित प्राचार्य की पत्नी डॉ.पूर्णिमा की संबद्धता खत्म

 

 

परिवारीजन से मिलने के बाद प्रतिनिधिमंडल नेहरू चिकित्सालय गया। वहां उस दिन की घटना की पड़ताल की। वर्तमान परिदृश्य को भी देखा। मरीजों से बातचीत कर उनकी परेशानियों को जाना। नेताओं ने कहा कि सरकार की व्यवस्था बेहद लचर है। डॉक्टर और कर्मचारियों की बेहद कमी है। जो हैं उनके भी वेतन समय से नहीं आते। कई-कई महीने पर वेतन मिलता है। व्यवस्था भ्रष्टाचार की चपेट में है। कमीशन के चक्कर में समय से व्यवस्था दुरुस्त नहीं की जाती। सरकार को आमलोगों के बारे में सोचने की फुर्सत तक नहीं।

 

इस अस्पताल के अलावा गांव और ब्लॉक स्तर की स्वास्थ्य सेवाएं बिल्कुल ही ठप सी हो गई हैं। उन्होंने कहा इस समय पूरा पूर्वांचल बाढ़ की चपेट में है । उन्होंने सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि पूर्वान्चल बाढ़ की चपेट में है। यहां भी सरकार चूकी है। केवल दावे करने से कुछ नहीं होता काम करना पड़ता है। लेकिन यह सरकार काम ही नहीं कर रही। प्रतिनिधि मंडल में सुभाषिनी अली के अलावा मधु गर्ग (राज्य सचिव मण्डल सदस्य), मालती देवी (राज्य समिति सदस्य) शामिल रहे।

Show More
sarveshwari Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned