जेएनयू के छात्रों-शिक्षकों के समर्थन में उतरा गोरखपुर, दिल्ली पुलिस-एबीवीपी के विरोध में नारेबाजी

JNU

जेएनयू के छात्रों व शिक्षकों पर हमले के विरोध में सोमवार को एससी, एसटी, ओबीसी व अल्पसंख्यक छात्रों ने दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के मुख्य द्वार पर प्रदर्शन किया। दिल्ली पुलिस, एबीवीपी व केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए अपने गुस्से का इजहार किया। छात्रों के हाथों में पोस्टर भी थे, जिस पर लिखा था स्टैंड विथ जेएनयू, हमें चाहिए इंसाफ, हर छात्र को चाहिए इंसाफ, अंगेस्ट वायलेंस। छात्रों ने जेएनयू में हुई हिंसा की भर्त्सना की और असामाजिक ताकतों के खिलाफ एकजुटता दिखाई। छात्रों ने मांग किया कि जेएनयू हिंसा की उच्च स्तरीय जांच की जाए। दोषियों को चिह्नित कर कड़ी से कड़ी सजा दी जाए।

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे छात्र नेता भास्कर चौधरी ने कहा कि जेएनयू में छात्रों व शिक्षकों पर हुआ हमला निंदनीय है। प्रशासन का सहयोग लेकर यह हमला कराया गया। हमले के दोषियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाना चाहिए।

गोविवि छात्रसंघ अध्यक्ष अमन यादव ने कहा कि यह फासीवादी सरकार सत्ता के नशे में चूर है। अपने संरक्षित गुंडों से आए दिन अनेक विश्वविद्यालयों में छात्र-छात्राओं के ऊपर हमले करवा रही है। यह सरकार छात्रों की आवाज़ को दबाना चाहती है। हम ऐसा होने नहीं देंगे।

इस मौके पर दीपक यादव 'मनीष', सत्यपाल यादव, सचिन कुमार, अरुण यादव, महफुजुर्रहमान, अनूप यादव, सुधिराम रावत, अभय गौड़, राम प्रताप यादव, सत्येंद्र यादव, राहुल भाष्कर, मनोहर राजभर, मोहम्मद शाहिद, अभिषेक रमन, दीपक गुप्ता, हरेंद्र यादव, अजय यादव, चंद्रपाल, सुभाष भारती, अनिल यादव, आशुतोष गौतम, प्रशांत कनौजिया, पंकज यादव आदि छात्र मौजूद रहे।

धीरेन्द्र विक्रमादित्य
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned