Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा

Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा
Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा

Dheerendra Vikramadittya | Updated: 06 Oct 2019, 08:08:08 AM (IST) Gorakhpur, Gorakhpur, Uttar Pradesh, India


नाथ परंपरा के अनुसार अष्ठमी को ही महानिशा पूजा कराया जाता

गोरखनाथ मंदिर में नवरात्रि का हवन पूजन व महानिशा पूजा गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को संपन्न कराया।
नाथ संप्रदाय की परंपरा के अनुसार हवन और महानिशा पूजा रात्रि में अष्टमी होने पर ही होता है। शनिवार को अष्टमी लगने के कारण गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने गौरी गणेश पूजन के अलावा सभी देवी-देवताओं की पूजा की।

Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा

शनिवार को शाम सात बजे वेदी पर उगे जई को सीएम योगी आदित्यनाथ व आचार्याें ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच काटा। फिर हवन वेदी पर विष्णु, रूद्र और अग्नि देवता का आह्वान के बाद दुर्गा सप्तसती के संपूर्ण पाठ के साथ हवन किया गया।

Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा

बलि के रूप में नारियल, गन्ना, केला, जायफर आदि का सात्विक बलि दिया गया। आखिर में आरती और क्षमायाचना के बाद प्रसाद वितरण हुआ।

Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा

इसके बाद रात में अष्टमी की विशेष महानिशा पूजा को नाथ परंपरा के अनुसार वैदिक मंत्रों के बीच गोरक्षपीठाधीश्वर ने संपन्न कराया।

Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा

गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने बताया कि शारदीय नवरात्र शक्ति संग्रह का महापर्व है। नवरात्र में विधि पूर्वक महाकाली, महालक्ष्मी, महासरस्वती की समष्ठी रूप, अष्टभुजा दुर्गा के प्रत्यक्ष रूप से विधि पूर्वक पूजन करने का विधान शास्त्रों में बताया गया है।

Navratri Puja in Gorakhnath Mandir गोरक्षपीठाधीश्वर ने हवन के बाद रात में किया महानिशा पूजा

CM Yogio Adityanath ने बताया कि महाष्टमी का महानिशा पूजा और सात्विक पंचबलि से न केवल शारीरिक और मानसिक क्लेश दूर होते है अपितु शक्ति संचय के साथ-साथ यश और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned