सपा जिला पंचायत अध्यक्ष राम प्रवेश यादव की 16 करोड़ की सम्पत्ति कुर्क, पैतृक घर पर भी जड़ा प्रशासन का ताला

राम प्रवेश यादव के खिलाफ गैंगस्टर के तहत कार्रवाई की गई थी, इसी के बाद जिला मजिस्ट्रेट के आदेश पर पुलिस प्रशासन ने सम्पत्ति कुर्की की कार्रवाई की। राम प्रवेश यादव 2018 में युवक का अपहरण कर 10 करोड़ की जमीन जबरन रजिस्ट्री कराने का मामला सामने आने के बाद चर्चा में आए थे।

गोरखपुर/देवरिया. बाहुबलियों, माफिया और अपराधियों पर यूपी में पुलिस प्रशासन का ताबड़तोड़ एक्शन जारी है। देवरिया के जिला पंचायत अध्यक्ष और समाजवादी पार्टी के नेता राम प्रवेश यादव के खिलाफ कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने 16 करोड़ की सम्पत्तियां कुर्क कर लीं। एक के बाद एक करके सभी सम्पत्तियों पर ताला जड़ दिया गया। राम प्रवेश यादव पर देवरिया खास के दीपक मणि अपहरण काण्ड में गैंगस्टर की कार्रवाई की गई थी। उनके खिलाफ अपहरण कर जबरदस्ती जमीन की रजिस्ट्री कराने और फर्जी तरीके से जमीन पर कब्जा करने समेत कई मुकदमे दर्ज हैं। भू माफिया भी घेषित किये गए थे।

 

 

जिला मजिस्ट्रेट अमित किशोर के आदेश पर पुलिस अधीक्षक शिष्यपाल के नेतृत्व में कई थानों की पुलिस व पीएससी लेकर कार्रवाई को पहुंचे। पैतृक गांव रजला पहुुचकर रामप्रवेश की मौजूदगी में उनके जमीन के 21 प्लाॅट, ईंट भट्ठा, दो मकान, अंडा फर्म, तीन पोल्ट्री फाॅर्म, दो लग्जरी गाड़ियों व ट्रैक्टर के साथ ही चार दो पहिया वाहन, कुर्क किये गए। पुलिस प्रशासन के मुताबिक इन संपत्तियों की कीमत 16 करोड़ रुपये है।

 

एसपी देवरिया डाॅ. श्रीपति मिश्र ने मीडिया को दिये बयान में बताया है कि राम प्रवेश यादव की करीब 16 करोड़ की सम्पत्ति कुर्क की गई है। देवरिया खास में मकान के अलावा रजला में उसकी सम्पत्तियां थीं। पुलिस ने मकान और जमीन के साथ ही वाहन भी कुर्क किये हैं। कुर्क की गई सम्पत्ति का रिसीवर तहसीलदार सदर को किया गया है।

इसे भी पढ़ें

फरार सपा जिला पंचायत अध्यक्ष की मां को हिरासत में लिया गया, 10 हजार का ईनाम घोषित

दीपक मणि अपहरणकांड से चर्चा में आए सपा नेता जिला पंचायत अध्यक्ष राम प्रवेश यादव पर युवक दीपक मणि को अपहरण कर 10 करोड़ रुपये की जमीन जबरिया बैनामा कराने का आरोप है। पुलिस ने उस वक्त कार्रवाई करते हुए अपहृत दीपक को छुड़ाते हुए राम प्रवेश के भाई अमित कुमार यावद व उनके ड्राइवर समेत चार लोगों को हिरासत में लिया था। अपहरण 20 मार्च 2018 को हुआ था। तत्कालीन एसपी ने फरार जिला पंचायत अध्यक्ष राम प्रवेश यादव पर 50 हजार का ईनाम भी घोषित किया था। को 27 मई 2018 को नेपाल बाॅर्डर से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। राम प्रवेश को भू माफिया भी घोषित किया गया था। उनके खिलाफ गैंगस्टर की कार्रवाई भी की गई थी। पुलिस ने गैंगस्टर के रुप में अर्जित कमाई को कुर्क करने के लिए जिला मजिस्ट्रेट को रिपोर्ट सौंपी थी, जिसकी अनुमति मिलने के बाद कार्रवाई की गई।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned