बीजेपी के स्वच्छता अभियान को मुंह चिढ़ा रही मुख्यमंत्री योगी के शहर की गंदगी

शनिवार से स्वच्छता अभियान की शुरुआत कर रही है बीजेपी, पर उन्हीं के मुख्यमंत्री का शहर है इस कदर गंदा।

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश में कल से बीजेपी स्वच्छ यूपी स्वस्थ यूपी के नारे के साथ स्वच्छता अभियान की शुरुआत कर रही। स्वच्छता व सफाई पर जोर देने वाली बीजेपी सरकार के मुखिया का ही शहर गन्दगी के चपेट में है। शहर का कोई गली-मोहल्ला नहीं है जो जिसे कहा जा सके वहां कूड़े के ढेर नहीं हैं। मुख्यमंत्री के शहर का आलम ऐसा देख आसानी से अन्य शहरों के बारे में भी अंदाजा लगाया जा सकता है।

 

Swachata Abhiyan in Gorakhpur

शहर के सबसे पॉश मोहल्ले सिविल लाइन्स में जिलाधिकारी का आवास है। उनके आवास से कुछ सौ मीटर दूर आरटीओ रोड पर कूड़े के ढेर से निकल रही बदबू सफाई व्यवस्था की कहानी बयां कर रही। फैले कूड़े और बरसात की वजह से सड़न से बदबू ने राहगीरों को परेशान कर रखा है। पास में पीडब्ल्यूडी ऑफिस व ढेर सारे आवास हैं लेकिन किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। आसपास के दूकानदार बताते हैं कि सफाई के नाम पर इस मोहल्ले में कोई काम नहीं दिखता। कूड़ा सड़ने लगता है तो कई दिन पर निगम इसे उठवाने की जहमत उठाता है।

 

Swachata Abhiyan in Gorakhpur
IMAGE CREDIT: Patrika

जिला महिला अस्पताल के पीछे जगह जगह पड़े कूड़े आने जाने वालों की परेशानी का सबब है। तमाम डॉक्टर्स, नर्स इसी इलाके में रहती हैं। लेकिन सफाई के नाम पर यहां भी दिखावा ही है। कूड़े का ढेर मुख्यमंत्री के शहर में सफाई की पोल खोल रहा।  शहर का दुर्गाबाड़ी क्षेत्र काफी पुराना मोहल्ला है। यहां भी सफाई के नाम पर जगह जगह गन्दगी मिल जाएगी। कूड़े के ढेर को लेकर आये दिन मोहल्ला वे लोग परेशान हो शिकायत करते हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होती। शहर के सबसे व्यस्ततम चौराहा विजय चौक पर भी गंदगी और कूड़ा किसी को विचलित कर सकता है। लेकिन किसी भी ज़िम्मेदार को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है।

 

 

Swachata Abhiyan in Gorakhpur
IMAGE CREDIT: Patrika

इस शहर में बीजेपी की ही है लोकल सरकार

गोरखपुर शहर की लोकल सरकार बीजेपी की है। यहां मेयर डॉ.सत्या पांडेय रही हैं जिनका कार्यकाल अभी कुछ दिन पहले ही पूरा हुआ है। स्थानीय विधायक भी 89 से बीजेपी ला ही है। जबकि सांसद भी पांच बार से योगी आदित्यनाथ हैं। हर पद पर बीजेपी का कब्ज़ा होने के बाद भी शहर की सूरत सामान्य शहर से भी बदतर है।

 

Swachata Abhiyan in Gorakhpur
IMAGE CREDIT: Patrika

मुख्यमंत्री बनने के बाद भी शहर के ज़िम्मेदार बेपरवाह

गोरखपुर शहर ने सूबे को योगी आदित्यनाथ के रूप में एक मुख्यमंत्री दिया है। लेकिन शहर में घुसते ही किसी प्रकार का एहसास नहीं होता कि यह कोई वीआईपी शहर है। चहुँओर गंदगी और कूड़े के ढेर से आती बदबू आपका शहर के इस्तकबाल करते हैं। जबकि प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री लगातार सफाई अभियान के लिए लोगों को जागरूक कर रहे।

 

कल स्वच्छ यूपी की शुरुआत करेंगे मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कल पूरे प्रदेश में स्वच्छ यूपी स्वस्थ यूपी की शुरुआत करेंगे। बीजेपी ने इस कार्यक्रम के लिए पूरे जोरशोर से तैयारियां शुरू कर दी हैं। सेक्टर वार जिम्मेदारी तय की जा रही। लेकिन जिसकी सरकार है वह अपने विभागों की जवाबदेही तय नहीं कर सका, सफाई कर्मियों की लंबी चौड़ी फ़ौज पर अंकुश लगाकर स्वच्छता का संदेश नहीं दे सका उस दल का अभियान किस ओर जाएगा इसका अंदाजा आसानी से लग सकता है।

by DHIRENDRA GOPAL

 

 

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned