पिता का काम संभालने के साथ- साथ की पढ़ाई, आज बना टॉपर

पिता का काम संभालने के साथ- साथ की पढ़ाई, आज बना टॉपर
Shumbham pathak

ग्रेजुएशन के सात साल बाद हासिल किया यह मुकाम

गोरखपुर. काबिल बनो सफलता झक मार के आएगी। थ्री इडियट्स फिल्म का यह मशहूर डॉयलाग गोरखपुर के शुभम पाठक पर बिलकुल सटीक बैठती है। बिज़नेस मैनेजमेंट से स्नातक करने के बाद पिता के व्यवसाय में हाथ बंटाते हुए एक दिन शुभम के मन में एमबीए की सूझी। यूपीटीयू का फॉर्म भर दिया और आज जब रिजल्ट आया तो उन्होंने सबको पछाड़ते हुए एमबीए प्रवेश परीक्षा टॉप कर लिया है।

शुभम के अभिभावक उन अभिभावकों के लिए भी नजीर हैं जो यह सोचते हैं कि बच्चों पर परीक्षा और करियर का दबाव डालने से उनका भविष्य संवर जाएगा।

शुभम गोरखपुर शहर में सिंघड़िया स्थित गोरक्षनगर के रहने वाले हैं। पिता राकेश पाठक का लोहे का व्यवसाय है।
शुभम बताते हैं कि 2007 में उन्होंने महाराणा प्रताप इंटर कॉलेज से इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की। इसके बाद पिता के व्यवसाय में हाथ बंटाने के साथ ही बैंकिंग की तैयारियां करने लगे। ग्रेजुएशन करने के लिए दूरस्थ शिक्षा का सहारा लिया। सिक्किम मनिपाल यूनिवर्सिटी से बीबीए 2010 में कर लिया। ग्रेजुएशन के सात साल बाद उन्होंने एमबीए करने की सोची। यूपीटीयू के प्रवेश परीक्षा में भी बैठे और सबको चौका दिया।


यह भी पढ़ें: आईसीएसई बोर्ड के 10वीं और 12वीं के नतीजे घोषित, महीश और प्रज्ञा ने बढ़ाया यूपी के इस जिले का मान


शुभम की सफलता पर परिवार में ख़ुशी का माहौल है। छोटा भाई अनुराग कानपुर से बीटेक कर रहा। शुभम के पिता राकेश पाठक बताते हैं कि बेटे के साथ बेटी का भी आज रिजल्ट आया, वह भी आज एमए फाइनल की परीक्षा पास कर ली। घर में खुशियां दुगुनी हो गई हैं।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned