scriptVehicle Scrappage Policy | स्क्रैप पॉलिसी के तहत नई गाड़ियों पर लगवा सकेंगे कबाड़ हो चुकीं पुरानी गाड़ियों के नंबर, जाने क्या है व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी | Patrika News

स्क्रैप पॉलिसी के तहत नई गाड़ियों पर लगवा सकेंगे कबाड़ हो चुकीं पुरानी गाड़ियों के नंबर, जाने क्या है व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी

स्क्रैप पॉलिसी के तहत कबाड़ हो चुकीं पुरानी गाड़ियों के नंबर, अब नई गाड़ी पर लगवा सकेंगे। इसके लिए जरूरी है कि पुरानी और नई गाड़ियों के मालिक एक ही होने चाहिए।

गोरखपुर

Published: March 21, 2022 04:01:17 pm


स्क्रैप पॉलिसी के तहत अब देश में एक तय सीमा से पुराने वाहनों को अपना फिटनेस टेस्ट कराना होगा। ये टेस्ट वाहनों के इंजन की हालत, उनका एमिशन स्टेटस और फ्यूल एफिशिएंसी, सेफ्टी जैसे कई पैरामीटर पर होगा. यदि पुराने वाहन इस फिटनेस टेस्ट में फेल होते हैं, तो उनका पंजीकरण रद्द हो जाएगा और उन्हें स्क्रैप में भेज दिया जाएगा स्क्रैप पॉलिसी के तहत कबाड़ हो चुकीं पुरानी गाड़ियों के नंबर, अब नई गाड़ी पर लगवा सकेंगे। इसके लिए जरूरी है कि पुरानी और नई गाड़ियों के मालिक एक ही होने चाहिए।
scrap_policy_4.jpg


एआरटीओ प्रशासन श्याम लाल ने बताया कि कई जिलों में यह नियम लागू किया जा चुका है। यहां अभी मुख्यालय से आदेश नहीं आया है। आदेश आते ही इच्छुक वाहन स्वामी पुराने वाहन का नंबर नए वाहन के लिए ले सकेंगे।
जानकारी के मुताबिक, कबाड़ हो चुके वाहन को स्क्रैप सेंटर में देने के बाद उसका नंबर, वाहन स्वामी दोबारा उपयोग कर सकेंगे। इसके लिए वाहन स्वामी को संभागीय परिवहन विभाग में निर्धारित शुल्क जमा करने के साथ ही अन्य शर्तें पूरी करनी होंगी।
बता दें कि जिले में दस लाख 71 हजार वाहन पंजीकृत वाहनों में एक लाख से अधिक वाहन कबाड़ की श्रेणी में हैं। अब ये वाहन स्वामी भी इस योजना का लाभ उठा सकेंगे।
मोदी सरकार के आने के बाद लंबे समय से व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी को लाने की बात की जा रही थी। लेकिन इस साल जब 1 फरवरी 2021 को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट में इसकी घोषणा की तो साफ हो गया कि अब पुराने वाहनों को कबाड़ में भेजने की पॉलिसी इसी साल आएगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज इसे लॉन्च भी कर दिया
क्या है व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी

इस पॉलिसी के हिसाब से अब देश में एक तय सीमा से पुराने वाहनों को अपना फिटनेस टेस्ट कराना होगा। ये टेस्ट वाहनों के इंजन की हालत, उनका एमिशन स्टेटस और फ्यूल एफिशिएंसी, सेफ्टी जैसे कई पैरामीटर पर होगा. यदि पुराने वाहन इस फिटनेस टेस्ट में फेल होते हैं, तो उनका पंजीकरण रद्द हो जाएगा और उन्हें स्क्रैप में भेज दिया जाएगा।

कितनी लिमिट है व्हीकल के लिए

व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी के हिसाब से 10 साल से ज्यादा पुराने कमर्शियल व्हीकल और 15 साल पुराने प्राइवेट पैसेंजर व्हीकल को ये फिटनेस टेस्ट देना होगा। ये इस लिमिट में आने वाले पुराने वाहनों के लिए अनिवार्य होगा. भले ये गाड़ियां फिटनेस टेस्ट में पास भी हो जाएं तो भी उनका रजिस्ट्रेशन रीन्यू कराना होगा।
प्रदूषण होगा कम

व्हीकल स्क्रैप पॉलिसी से सरकार की मंशा शहरी इलाकों से ऐसे अनफिट पुराने व्हीकल को हटाना है जो ज्यादा प्रदूषण फैलाते हैं। देश में अब नए वाहन BS6 के अनुरूप आते हैं। ये प्रदूषण कम फैलाते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीचंडीमंदिर वेस्टर्न कमांड लाए गए श्योक नदी हादसे में बचे 19 सैनिकआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितराहुल गांधी ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा - 'नेहरू ने लोकतंत्र की जड़ों को किया मजबूत, 8 वर्षों में भाजपा ने किया कमजोर'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चIPL 2022, RR vs RCB Qualifier 2: राजस्थान ने बैंगलोर को 7 विकेट से हराया, दूसरी बार IPL फाइनल में बनाई जगहपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.