दक्षिण एशियाई जूडो चैंपियनशिप में विजय कुमार यादव ने स्वर्ण हासिल किया

Dheerendra Vikramadittya

Publish: Apr, 24 2018 08:08:08 AM (IST)

Gorakhpur, Uttar Pradesh, India
1/5

गोरखपुर। 8वीं दक्षिण एशियाई जूडो चैंपियनशिप 2018 में विजय कुमार यादव ने स्वर्ण पदक जीता है। देश के लिए 60 किलो के भारवर्ग में पदक जीने वाले विजय डीडीयू के छात्र हैं।
नेपाल के ललितपुर में 20-22 अप्रैल 2018 को 8वीं दक्षिण एशियाई जूडो चैंपियनशिप 2018 का आयोजन किया गया था। इस प्रतियोगिता में भारतीय टीम में दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के श्री गुरुकुल पी. जी. कॉलेज ददरी, बड़हलगंज के बी. ए. तृतीय वर्ष के छात्र विजय कुमार यादव भी शामिल थे। उन्होंने इस प्रतियोगिता में 60 किलो ग्राम वजन वर्ग में स्वर्ण पदक जीतकर विश्वविद्यालय एवं देश का नाम रोशन किया है।
इससे पहले भी इस वर्ष अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालय जूडो में स्वर्ण पदक एवं भारत की सीनियर जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक और सर्वश्रेष्ठ जूडो खिलाड़ी बनकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुके हैं।
उनकी इसी प्रतिभा और प्रदर्शन के आधार पर ओलंपिक, एशियाई एवं अन्य अंतरराष्ट्रीय जूडो प्रतियोगिताओं में भारत का प्रतिनिधित्व करने हेतु तैयारी के लिए युवा एवं खेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा चुना गया है।
सीनियर वर्ग की अंतरराष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिता में दीन दयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के किसी छात्र द्वारा जीता गया ये पहला स्वर्ण पदक है। विजय कुमार यादव की इस उपलब्धि पर विश्वविद्यालय द्वारा रु.40,000 का नकद पुरस्कार राशि एवं सम्मान पत्र प्रदान किया जाएगा।
विजय कुमार यादव की इस उपलब्धि और विश्वविद्यालय का मान अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऊंचा करने पर कुलपति प्रो. विजय कृष्ण सिंह, क्रीड़ा परिषद अध्यक्ष प्रो. हिमांशु चतुर्वेदी, उपाध्यक्ष प्रो. सुधीर कुमार श्रीवास्तव एवं प्रो. विनोद कुमार सिंह, कोषाध्यक्ष प्रो. उमा श्रीवास्तव, सचिव डॉ. विजय चाहल, संयुक्त सचिव डॉ. राजवीर सिंह ने बधाई और शुभकामनाएँ दी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned