पूर्वांचल पर मेहरबान योगी सरकार, ताबड़तोड़ दौरे और अरबों की सौगातें

  • अकेले नवंबर दिसंबर में ही अरबों रुपये की परियोजनओं का किया शिलान्यास और लोकार्पण
  • पूर्वांचल की जीत से ही होकर निकलता है यूपी की सत्ता का रास्ता

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

गोरखपुर. जिस तरह देश की राजनीति में उत्तर प्रदेश का एक अहम मकाम है, ठीक उसी तरह से यूपी की राजनीति में पूर्वांचल का भी अपना ही एक स्थान है। कहते हैं कि यूपी की सत्ता का रास्ता पूर्वांचल की जीत से होकर निकलता है। पिछली पिछले चुनावों में बसपा सपा से लेकर भाजपा ने भी पूर्वंचल को जीतकर ही सूबे की सत्ता पाई है। योगी सरकार पूर्वांचल में 2017 में मिली अपनी जीत को बरकरार रखना चाहती है। यही वजह है कि मुख्यमंत्री का पूरा जोर पूर्वांचल पर है।

 

 

अकेले दिसंबर के महीने में ही सीएम योगी ने पूर्वांल के कई जिलों में आधा दर्जन से अधिक दौरे किये और करोड़ों की योजनाओं का लोकार्पाण किया व नई परियोजनाओं की आधारशिला रखी। मुख्यमंत्री एक बार फिर गोरखपुर के दो दिवसीय दौरे पर हैं और दो दिनों में उन्होंने वहां करीब 590 करोड़ रुपये से अधिक की विकास कार्यों की सौगात दी है। इनमें सड़कों से लेकर छात्रावास और कौशल विकास केन्द्र समेत कई कार्य शामिल हैं।


सौगातों की लगा दी झड़ी

सीएम योगी आदित्यनाथ ने बीते नवंबर के अंत और दिसंबर में पूर्वांचल के कई शहरों के दौरे किये। नवंबर के अंत में सीएम योगी गोरखपुर पहुंचे और उनकी अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्री नितनि गडकरी के हाथों गोरखपुर और बस्ती मंडल के जिलों को 1100 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं की सौगात मिली। इसके तीन दिन बाद सीएम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये गोरखपुर को 21 सड़कों का तोहफा दिया। फिर तीन दिसंबर को सीएम गोरखपुर पहुंचे और उद्योग भवन का उद्घाटन किया।

 

 

नौ दिसंबर को तीन दिन के दौरे पर पहुंचे तो मुंडेरवा चीनी मिल में सल्फर प्लांट का उद्घाघाटन किया। 20 दिसंबर को सीएम गोरखपुर, वाराणसी और मऊ के दौरे पर निकले। गोरखपुर और बनारस में रैन बसेरों का निरीक्षण किया और विकास कार्यों की समीक्षा की तो 21 दिसंबर को मऊ में 136 करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। 16 लोकार्पण और 11 शिलान्यास किये।

 

 

31 दिसंबर को भदोही में 1940 करोड़ की 16 परियोजनाओं की सौगात दी। भव्य कार्पेट एक्सपो मार्ट का लोकार्पण किया। एक बार फिर गोरखपुर पहुंचे हैं और वहां 672 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात दी है। इसके अलावा यूपी में धार्मिक कार्यों के लिये बनने वाले निदेशालय का मुख्यालय योगी सरकार वाराणसी में बनाने जा रही है। 12 जनवरी को पूर्वंचल के पहले चिड़ियाघर गोरखपुर के अशफाकउल्लाह खां प्राणी उद्यान और इंडोर तितली पार्क का लोकार्पण भी प्रस्तावित है।


दाे दिन में 590 कराेड़ की परियाेजनाएं

सीएम योगी आदित्यनाथ शनिवार को गोरखपुर की दो दिवसीय यात्रा पर पहुंचे तो पहले दिन नौ करोड़ से अधिक की लागत में वकीलों के मल्टी स्टोरी चेंबर की आधारशिला रखी। मुख्यमंत्री की सौगातों का पिटारा दूसरे दिन खुला तो गोरखपुर और सहजनवां में 580.68 करोड़ की 37 विकास परियोजनाओं की सौगात दे डाली। गोरखपुर शहर, गोरखपुर ग्रामीण, पिपराइच, चौरी-चौरा और सहजनवां विधानसभा क्षेत्रों को करोड़ों की परियोजनाओं की सौगात दी। 430 करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास और 149.96 करोड़ की परियोजना का लोकार्पण किया। उन्होंने गोरखपुर क्लब में 21 परियोजनाओं का शिलान्यास और 15 का लोकार्पण जबकि सहजनवां में 7 नए कार्यों का शिलान्यास और पूरे हो चुके 6 विकास कार्यों का लोकार्पण कर जनता को समर्पित किया।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned