जनता दरबार में गिने- चुने लोगों से मिले योगी, फरियादियों को मिली निराशा 

जनता दरबार में गिने- चुने लोगों से मिले योगी, फरियादियों को मिली निराशा 
Yogi adityanath

कईयों के मन की आस रही अधूरी, सीएम को नहीं सुना पाये व्यथा

गोरखपुर. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर फरियाद करने वाले लोगों को मायूस होकर लौटना पड़ा। गुरुवार को जनता दरबार में फरियादी इस आस के साथ आये थे कि मुख्यमंत्री से मुलाकात लार अपनी पीड़ा बयां करेंगे लेकिन समयाभाव की वजह से वह समय नहीं दे सके। इसमें कई तो एक दिन पहले ही आ कर डेरा डाल लिए थे। हालांकि, मंदिर और सीएम के साथ चलने वाले कर्मचारियों ने प्रार्थना पत्रों को लेकर समस्या समाधान का आश्वासन देते रहे। योगी आदित्यनाथ केवल कुछ लोगों से ही मुलाकात कर सके।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जब गोरखपुर दौरे पर होते हैं तब आसपास के जिलों के लोग अपनी व्यथा सुनाने मंदिर आते हैं। यह सिलसिला काफी पुराना है। मंदिर का हर महंत क्षेत्रवासियों की समस्याओं को सुनता रहा है और उनके निराकरण का प्रयास भी होता रहा है। लेकिन योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने में बाद यहाँ आने वाले फरियादियों की संख्या काफी बढ़ गयी है।


यह भी पढ़ें: 


बुधवार को गोरखपुर दौरे पर आये योगी को अपनी व्यथा सुनाने को भोर से ही मंदिर परिसर में फरियादियों के आने का सिलसिला शुरू हो गया। लगातार भीड़ बढ़ने से प्रशासन पर दबाव भी बढ़ रहा था। बेचैन अधिकारी अचानक सक्रिय हो गए। इनका हाथ बंटाने को मंदिर के कर्मचारी भी साथ हो लिए। क़तार में खड़े लोगों के हाथों से प्रार्थना पत्रों का एकत्रीकरण शुरू कर दिया और खुद ही समस्या समाधान के बाबत आश्वासन भी देने लगे। लोगों को लग रहा था कि वे अपनी व्यथा सीधे मुख्यमंत्री से नहीं कह पा रहे हैं। 
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned