Makar Sankranti गोरक्षपीठाधीश्वर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बताया मकर संक्रांति का महात्म्य

प्रदेश की खुशहाली के लिए गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी भी चढ़ाया मुख्यमंत्री ने अपनी ओर से

By: धीरेन्द्र विक्रमादित्य

Published: 15 Jan 2018, 06:06 AM IST

Gorakhnath Temple, Gorakhpur, Uttar Pradesh, India

गोरखपुर। गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने मकर संक्रांति के महात्म्य के बारे में विस्तार से बताया। उन्होने बताया कि भगवान सूर्य जगत पिता हैं। वह इस पूरे जगत के नियंता हैं। भगवान सूर्य के सौर मंडल के 12 राशियों में सभी राशियां एक दूसरे में संक्रमण करती हैं। सूर्य की धनु राशि मकर में प्रवेश करती है तो संक्रांति होती। उन्होंने बताया कि इसका महत्व इसलिए भी है कि सूर्य दक्षिणायन से उतरायण होते हें। सूर्य उत्तरायण में प्रवेश करते है जो सनातन हिन्दू धर्म-संस्कृति में हर प्रकार के शुभ एव मांगलिक कार्यो को प्रारम्भ करने के लिये पुण्य माना जाता है।
उन्होंने कहा कि पूरे देश के अन्दर अलग-अलग नाम एवं रूप में यह पर्व मनाया जाता है। उत्तरी भारत में जहाॅ इसे ‘खिचड़ी महापर्व’ के रूप में इस त्योहार को मनाया जाता है वहीं दक्षिण भारत में ‘पोंगल’, पंजाब में ‘लोहड़ी’, बंगाल में ‘तिलवा संक्रान्ति’, असम में ‘बिहु’ आदि नामों से इस पर्व एवं त्योहार को मनाया जाता है। इस अवसर पर श्री गोरखनाथ मन्दिर में लगने वाला ऐतिहासिक खिचड़ी मेला प्रारम्भ हो रहा है।

 

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned