मुख्यमंत्री के शहर में नवजातों को दी जा रही जानलेवा दवा, नगर विधायक डॉ.आरएमडी ने पकड़ी लापरवाही

मुख्यमंत्री के शहर में नवजातों को दी जा रही जानलेवा दवा, नगर विधायक डॉ.आरएमडी ने पकड़ी लापरवाही

Dheerendra Vikramdittya | Publish: Dec, 08 2017 11:54:09 AM (IST) Gorakhpur, Uttar Pradesh, India

एक ऐसी दवाई सरकारी अस्पताल में आपूर्ति की जा रही जो नवजात के लिए प्राणघातक है

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जिले में स्वास्थ्य महकमा नवजात व बच्चों के स्वास्थ्य संग खिलवाड़ कर रहा। ऐसी दवाइयां बच्चों को दे दी जा रही जो प्रतिबंधित तो हैं ही मासूमों के लिए जानलेवा साबित हो सकती हैं।
शुक्र है गोरखपुर शहर के विधायक या पेशे से डॉक्टर डॉ.राधामोहन दास अग्रवाल की नजर इस लापरवाही की ओर चली गई। उन्होंने तत्काल जिम्मेदारों से बात की। इस मामले में नाराजगी जताते हुए तुरंत से इस दवा के इस्तेमाल नहीं किये जाने का निर्देश दिया। इस बाबत उन्होंने सूबे के स्वास्थ्य मंत्री से भी बात की।
हुआ यह कि नगर विधायक डॉ.आरएमडी अग्रवाल गुरुवार को जिला महिला अस्पताल में मिशन इंद्रधनुष की शुरुआत करने गए थे। योजना का शुभारंभ करने की औपचारिकता पूरी कराने के बाद डॉ.आरएमडी अग्रवाल सीधे अस्पताल का निरीक्षण करने पहुँच गये। अपने निरीक्षण के दौरान वह मरीजों व उनके परिवारीजन से भी जानकारी हासिल कर रहे थे।
इसी बीच एक प्रसूता ने अपने नवजात के आंखों को दिखाते हुए दवाई देने के बाद नहीं ठीक होने की शिकायत की। उसने यह भी बताया कि डॉक्टर की लिखी हुई दवाई उसे बाहर से मंगानी पड़ रही। जब महिला ने दवा दिखाई तो नगर विधायक जो खुद भी एक चिकित्सक हैं अवाक् रह गये।
नगर विधायक डॉ.आरएमडी ने तत्काल प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डॉ.दिनेश सोनकर को तलब किया। विधायक ने क्लोरमफेनिकल आईड्राप के बारे में पूछा। एसआईसी ने बताया कि अस्पताल में यह दवा मौजूद है साथ ही दवाइयों की सूची में भी यह दर्ज है। तुरंत दवाइयों की लिस्ट तलब की गई।सूची में नाम होने पर नगर विधायक सोच में पड़ गए। उन्होंने
बताया कि क्लोरमफेनिकाल आईड्राप दो साल से कम उम्र के बच्चों को देना जानलेवा साबित हो सकता है।

हैरान विधायक ने तत्काल ही स्वास्थ्यमंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह को बात बताई। आपत्ति दर्ज कराते हुए तत्काल इस दवाई के प्रयोग को प्रतिबंधित करने व इसकी आपूर्ति का आर्डर देने वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

 

 

 

 

 

Ad Block is Banned