भारत में सिर्फ तस्वीरों में रह जाएंगी तितलियों की 1500 प्रजातियां, चौंकाने वाली रिपोर्ट आई सामने

खबर की मुख्य बातें-

-बचपन की बात करें तो हर किसी की यादें खेत-खलिहान, बाग-बगीचों, घर के द्वारे पर लगे फूल-पौधों से जरूर जुड़े होंगे

-इन्हीं पौधों पर मंडराती हुई तितलियां जिन्हें देखकर बच्चों के चेहरे खिल उठते थे

-ये तितलियां अब विलुप्त होने की कगार पर है

ग्रेटर नोएडा। आज के समय में अगर किसी से ये पूछा जाए कि उसे क्या चाहिए तो अमूनन लोगों का जवाब होगा बचपन वापस लौट आए। वहीं अगर बचपन की बात करें तो हर किसी की यादें खेत-खलिहान, बाग-बगीचों, घर के द्वारे पर लगे फूल-पौधों से जरूर जुड़े होंगे। इन्हीं पौधों पर मंडराती हुई तितलियां जिन्हें देखकर बच्चों के चेहरे खिल उठते थे।

यह भी पढ़ें : कांग्रेस और बसपा के फॉर्मूले को भाजपा ने भी अपनाया, पार्टी संगठन में होने जा बड़ा बदलाव

तितलियों को पकड़ने के लिए उनके पीछे दौड़ना तो कभी पंख पकड़कर उन्हें गौर से निहारना। वहीं जब हाथ से पकड़ने पर उसके पंख झड़ते तो मन कितना दुखी होते था। अब अगर कहें कि नन्ही जान की 1500 प्रजातियां खत्म होने की कगार पर हैं। तो सोचिए कि ये कितना गंभीर विषय है।

यह भी पढ़ें: BJP MLA ने बच्‍चों को बताया, समाज के सबसे निचले तबके में पैदा हुए हैं प्रधानमंत्री मोदी- देखें वीडियो

दरअसल, ग्रेटर नोएडा स्थित एक्स्पो मार्ट में चल रहे संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन के कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टीज में बुधवार को यह जानकारी दी गई। इस दौरान ज्यूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया के स्टॉल पर ठंडे इलाके में समुद्र तल से 500 मीटर ऊंचे इलाकों में मिलने वालीं तितलियों के अवशेष भी दिखाए गए। यहां जानकारी देते हुए सीनियर ज्यूलॉजिकल असिस्टेंट डॉ. एम. कमलाकनन ने बताया कि देश में 1500 तितलियों की प्रजातियां खत्म होने की कगार पर हैं।

यह भी पढ़ें : बसपा सरकार में हुआ था 'घोटाला', मुलायम सिंह ने शुरू कराई थी जांच, अब योगी सरकार लेने जा रही बड़ा एक्शन

इसका कारण बदलता मौसम और मनुष्यों का लालच है। रासायनिक खाद के अंधाधुंध इस्तेमाल ने इन नन्हें जीवों की सांस रोक दी है। इतना ही नहीं, घरों को सजाने के लिए भी लोगों ने तितलियों का शिकार किया। हर वर्ष करीब 50 हजार तितलियों का निर्यात हो रहा है। अब भी समय है, अगर हम लोग नहीं संभले तो आने वाले समय में अपने बच्चों को फोटो में ही तितलियां दिखाएंगे।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned