परिवहन विभाग की फर्जी वेबसाइट से चालान भेजकर 20 हजार लोगों को ठगने वाले नटवरलाल गिफ्तार

अगर आपके पास ई-चालान आया है ताे उसे भुगतने से इस खबर काे जरूर पढ़ लें। नाेएडा पुलिस ने एक नटवरलाल काे गिरफ्तार किया है जाे 20 हजार लोगों काे चूना लगा चुका है।

ग्रेटर नोएडा। यूपी परिवहन की फर्जी वेब साइट बनाकर करीब 20 हजार लोगों से 80 लाख रुपये ठग चुके एक नटवरलाल काे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। ग्रेटर नाेएडा की कोतवाली पुलिस व साइबर सेल काे संयुक्त ऑपरेशन के बाद इसे गिरफ्तार करने में कामयाबी मिली है।

यह भी पढ़ें: नो पार्किंग में खड़ी आपकी गाड़ी अब नहीं उठा पाएगी ट्रैफिक पुलिस, नियम में बड़ा बदलाव

पूछताछ में पता चला कि, आरोपी पहले एक इंश्योरेंस कंपनी में नौकरी कर चुका है। वहीं से डाटा चुराकर उसने भारी संख्या में एक साथ लोगों को फर्जी संदेश भेजा था कि उनका चालान हो गया है। लोगों ने संदेश को असली समझकर चालान राशि फर्जी वेबसाइट पर जमा कर दी। पुलिस ने आरोपित के खाते में मिली रकम जब्त कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें: अब इस गंभीर बीमारी की वजह से हुई हाथी के बच्चे की मौत, वन विभाग में हड़कंप

गिरफ्तार रजत कुच्छल पर फर्जी वेबसाइट बनाकर फर्जी चालान के जरिए लोगों से ठगी करने के आराेप हैं। नॉलेज पार्क कोतवाली पुलिस व साइबर सेल काे इस फर्जीवाड़े का पता चला था। प्राथमिक जांच में मामला सही पाए जाने पर इसे गिरफ्तार कर लिया गया।

यह भी पढ़ें: Banking Correspondent Sakhi Yojana: घर-घर पैसे पहुंचाएगी सखी, जानें प्रदेश सरकारी की इस योजना में क्या है खास

डीसीपी ग्रेटर नोएडा राजेश कुमार सिंह ने बताया कि फर्जी चालान वेबसाइट बनाकर लोगों से ठगी करने की शिकायत मिलने पर नॉलेज पार्क कोतवाली व साइबर सेल प्रभारी बलजीत सिंह की टीम काे जांच में लगाया गया था। जांच के दाैरान कुछ हैरान कर देने वाली बाते सामने आई थी। इसी आधार पर सेक्टर 40 निवासी रजत कुच्छल काे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई ताे सारे मामले का खुलासा हाे गया।

फर्जी डेमिन खरीदकर बनाई थी वेबसाइट

पकड़े गए नटवरलाल ने इचालानपरिवहन के नाम से डेमिन खरीदा और फि फर्जी वेबसाइट बनाकर http://echallanparivahan.in इसे असली वेबसााइट की तरह ही डिजाइन किया। इसके बाद इंश्योरेंश कंपनी के डाटा के जरिए लाेगाें काे चालान के मैसेज भेजने शुरू किए। इस तरह करीब 20 हजार लाेगाें ने रुटीन में लिंक पर क्लिक करते हुए चालान भर दिया।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned