10 साल बाद ग्रेटर नोएडा में शुरू होगी गंगाजल की सप्लाई, लाखों लोगों को मिलेगा फायदा

Highlights:

-फरवरी से लोगों को 6 की जगह 12 घंटे मिलेगा पानी

-सभी सेक्टरों और गावों के लोगों तक पहुंचेगी पानी की सप्लाई

-योजना पर आएगा करीब 350 करोड़ का खर्च

ग्रेटर नोएडा। लाखों लोगों को लिए बड़ी राहत की खबर है। कारण, 10 साल से जिस योजना का लोग इंतजार कर रहे हैं वह अब धरातल पर उतरने जा रही है। दरअसल, ग्रेटर नोएडा में फरवरी माह से गंगाजल की सप्लाई शुरु होने जा रही है। जिसका लाभ सेक्टर और गांवों में रहने वाले लाखों लोगों को मिलेगा। योजना के अनुसार सभी सेक्टरों और 19 गांवों तक गंगाजल की सप्लाई की जाएगी। वहीं लोगों को 6 की जगह 12 घंटे पानी मिलेगा। इस योजना पर करीब 350 करोड़ का खर्च आएगा।

बता दें कि यह योजना 2010 में आई थी और इस पर जर्मनी की एक संस्था व एनसीआर प्लानिंग बोर्ड ने काम किया था। यह 2015 में शुरु होने वाली था। लेकिन जमीन अधिग्रहण के चलते इसमें दस वर्ष की देरी हो गई। अभी तक ग्रेटर नोएडा में 70 क्यूसेक ग्राउंड वॉटर की सप्लाई हो रही है। लेकिन यह पानी पीने में खारा है। जिसके चलते लोगों की लगातार शिकायतें आती रहती हैं। इसको ध्यान में रखते हुए प्राधिकरण ने ग्रेटर नोएडा में 85 क्यूसेक गंगाजल की सप्लाई करने की योजना बनाई है।

यह भी पढ़ें: रफ्तार के शौकीनों के लिए अच्छी खबर, बुद्ध इंटरनेशनल सर्किट में फिर से फर्राटा भरेंगी रेसिंग कार

गाजियाबाद से आएगा गंगाजल

अधिकारियों के मुताबिक गंगाजल की सप्लाई गाजियाबाद के जरिए ग्रेटर नोएडा पहुंचेगी। इसके लिए गाजियाबाद में देहरा के पास से पाइप लाइन डाली गई है। वहीं गंगाजल को ट्रीट करने के लिए जगह-जगह वाटर ट्रीटमेंट प्लांट भी बनाए जा रहे हैं। पहला ट्रीटमेंट प्लांट देहरा से करीब 11 किलोमीटर दूरी पर है। जबकि दूसरा प्लांट वहां से 18 किलोमीटर दूर पल्ला में बनाया गया है। इसी रास्ते से होकर ग्रेटर नोएडा के मास्टर रिजर्व वायर तक गंगाजल लाया जाएगा। फिर यहां से सप्लाई के लिए बने रिजर्व वायर तक गंगाजल पहुंचाया जाएगा और आखिर में ओवरहेड टैंक के जरिए पूरे ग्रेटर नोएडा में गंगाजल की आपूर्ति की जाएगी।

यह भी देखें: नगर पालिका परिषद की बिल्डिंग पूरी तरह जर्जर हालत में

जनवरी में योजना शुरू करने का हुआ था ऐलान

गौरतलब है कि अभी ग्रेटर नोएडा में पेयजल की आपूर्ति पूरी तरह भूगर्भ जल पर निर्भर है। जिसके चलते शहर में ग्राउंड वाटर लेवल तो तेजी के साथ गिर रहा है, साथ ही पानी में खारेपन के चलते लोग इसे सही से इस्तेमाल भी नहीं कर पा रहे हैं। राज्य के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने इस 85 क्यूसेक गंगाजल परियोजना को जनवरी में चालू करने को कहा था। हालांकि अधिकारियों का दावा है कि फरवरी के अंत तक शहर में गंगाजल की सप्लाई शुरू हो जाएगी।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned