पीएम मोदी के इस ड्रीम प्रोजेक्ट से ग्रेटर नोएडा में बरसेंगी 15 लाख नौकरियाँ, योजना को मिली मंजूरी

ग्रेटर नोएडा में बनेगा विशेष आर्थिक जोन, एजूकेशन और आईटी का बनेगा हब

By: amit2 sharma

Published: 11 Sep 2017, 06:34 PM IST

ग्रेटर नोएडा। प्रधानमंत्री के मेक इन इंडिया अभियान से ग्रेटर नोएडा के आसपास रहने वाले लोगों को बड़ा फायदा मिलने जा रहा है. यूपी सरकार ने दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर (डीएमआईसी) के अन्तर्गत बनाए जाने वाले नोएडा-गाजियाबाद-बुलंदशहर विशेष निवेश जोन को प्रदेश सरकार से हरी झंडी मिल गई है। इससे इस क्षेत्र में लगभग १५ लाख नई नौकरियों के अवसर बनेंगे. इसके आलावा अप्रत्यक्ष रूप से भी क्षेत्र के लोगों को रोजगार के विशेष अवसर उपलब्ध होंगे.

 

सरकार ने कदम बढ़ाते हुए क्षेत्र में हजारों करोड़ रुपये की पूंजी निवेश कर एरिया के विकास को बढ़ावा दिया है। निवेश क्षेत्र बनने के बाद में प्रधानमंत्री के अभियान मेक इन इंडिया को पंख लग जाएंगे। विदेशी कंपनियों के साथ-साथ में देश की कंपनी भी विशेष निवेश जोन में सहभागिता साझा करेंगी। इस एरिया में आईटी, ट्रॉसपोर्ट कम्यूनिकेशन लिंक, रेजीडेंशियल समेत कॉम्प्लेक्स भी बनाए जाएंगे। डीएमआईसी प्रोजेक्ट भारत व जापान सरकार का संयुक्त प्रयास है।

 

15 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार, किसानों को मिलेगा विशेष मौका

 

सूत्रों की मानें तो इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट डिपार्टमेंट की ओर से अधिसूचना जारी कर दी गई है। डीएमआईसी प्रोजेक्ट के तहत बसाए जाने वाले नोएडा—गाजियाबाद—बुलंदशहर को लेकर राज्य सरकार ने बजट की मंजूरी दे दी है। ग्रेनो अथॉरिटी इस प्रोजेक्ट के तहत अलग—अलग शहर का मास्टरप्लान तैयार होगा। विशेष निवेश जोन के लिए गौतमबुद्धनगर व बुलंदशहर के 80 गांवों को शामिल किए जाएंगे। विशेष निवेश जोन बनने के बाद में एरिया के विकास के साथ—साथ में करीब 15 लाख लोगों को रोजगार भी मिलेगा। सरकार की माने तो रोजगार में स्थानीय नागरिकों की भी भागीदारी होगी। किसानपुत्रों को भी रोजगार दिया जाएगा। डीएमआईसी प्रोजेक्ट के तहत बनने वाले विशेष निवेेश जोन बड़ी संख्या में देश के उद्योगपतियों को निवेश करने का मौका दिया जाएगा।

 

ये एरिया होंगे शामिल

 

दादरी से मुंबई के जवाहर लाल नेहरु बंदरगाह तक दिल्ली मुंबई इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाया जाएगा। इसके लिए केंद्र सरकार से यूपी सरकार का करार हो चुका है। योजना के तहत ग्रेटर नोएडा, यमुना और बुलंदशहर-खुर्जा विकास अथॉरिटी के 200 वर्ग किमी एरिया को दादरी-नोएडा-गाजियाबाद पूंजी निवेश में शामिल कर डेवलप किया जाएगा। गौतम बुद्ध नगर और बुलन्दशहर के 80 गांवों को शामिल किया गया है।


यहां पर औद्योगिक नगर की स्थापना की जाएगी। यहां 218 वर्ग किलो में कंपनियां लगाई जानी है। इसके तहत कोर फूड, ऑटो, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रनिक्स, आईटी, बॉयोटेक और हाइटेक इंडस्ट्री लगाई जाएगी। शहर का इन्फ्रास्ट्रक्चर बेहतरीन होगा। कम्यूनिकेशन के इंतजाम किए जाएंगे। यहां के गांवों में वाई—फाई की सुविधा भी दी जाएगी। साथ ही हाई क्वलिटी के रेजिडेंशियल सेक्टर, कर्मिशयल और कर्मिशयल कॉम्प्लेक्स भी डेवलप किए जाएंगे। यूपी सब रीजनल प्लान-2021 के अनुसार डीएमआईसी परियोजना के 200 किमी के एरिया में निवेश क्षेत्र को विकसित किया जाएगा। निवेश क्षेत्र में 30 हजार करोड़ से अधिक की पूंजी निवेश होगी।

amit2 sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned