862 करोड़ की लागत से जल्द दौड़ेगी देश की पहली पॉड टैक्सी, जानिए रूट और खासियत

Airport तक पहुंचने के लिए कारगार साबित होगी Pod Taxi। सरकार से मंजूरी मिलने पर तेजी से काम होगा शुरू। इसके निर्माण के लिए डीपीआर में तीन मॉडल पेश किए गए हैं।

ग्रेटर नोएडा। देश की पहली पॉड टैक्सी (pod taxi) नोएडा एयरपोर्ट से फिल्म सिटी के बीच चलेगी। इंडियन पोर्ट रेल एंड रोपवे कार्पोरेशन लिमिटेड ने नोएडा एयरपोर्ट (noida international airport) से फिल्म सिटी (film city) तक 14 किमी के बीच चलने वाली ड्राइवर लैस पॉड टैक्सी (driverless pod taxi) के लिए फाइनल डीपीआर यमुना अथॉरिटी में पेश कर दी है। जिसकी जानकारी देते हुए यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी के सीईओ डॉक्टर अरुणवीर सिंह ने बताया कि इस डीपीआर को अब यीडा बोर्ड के सामने रखा जाएगा। वहां से मंजूरी मिलने के बाद इसको सरकार को भेजा जाएगा। सरकार से मंजूरी मिलने के बाद इस दिशा में काम आगे बढ़ेगा।

यह भी पढ़ें: भारत जापान की दोस्ती का प्रतीक रुद्राक्ष बनकर तैयार, 15 को पीएम करेंगे उद्घाटन

दरअसल, नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट जेवर तक पहुंचने के लिए पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मजबूत करने की दिशा में एक और कदम बढ़ गया है। यमुना प्राधिकरण ने जेवर एयरपोर्ट और फ़िल्म सिटी के बीच पर्सनल रैपिड ट्रांजिट (पीआरटी) चलाने की योजना बनाई है। पॉड टैक्सी की डीपीआर बनाने के लिए इंडियन पोर्ट रेल एंड रोपवे कारपोरेशन लिमिटेड कंपनी का चयन किया गया।

सेक्टरों से जुड़ेगी पॉड टैक्सी

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से फिल्म सिटी की दूरी करीब 5.5 किलोमीटर है, इसकी उपयोगिता बढ़ाने के लिए इसको यीडा के सेक्टरों में भी इसका ट्रैक ले जाने का सुझाव डीपीआर में दिया गया है। यीडा के सेक्टर-21,28,29,32 व 33 होते हुए नोएडा एयरपोर्ट से फिल्म सिटी के बीच चलेगी यह पॉड टैक्सी। इसका हर सेक्टर में ठहराव निर्धारित किया गया है ताकि दुनिया के किसी कोने से नोएडा एयरपोर्ट आने वाले किसी भी सेक्टर में अपने हिसाब से उतर सके।

डीपीआर में पेश किए गए तीन मॉडल

यीडा के सीईओ ने बताया कि भारत सरकार की संस्था इंडियन पोर्ट रेल एंड रोपवे कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने फाइनल डीपीआर जो दिया है उसके हिसाब से इसको विकसित करने के लिए पीपीपी मॉडल पर तीन सुझाव दिए हैं। इन सुझावों पर बोर्ड की बैठक में चर्चा होने के बाद प्रदेश सरकार को मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। प्रदेश सरकार से मंजूरी लेकर ग्लोबल टेंडर के जरिए इसको विकसित करने के लिए कंपनी का चयन किया।

यह भी पढ़ें: यहां जिंदा तो दूर मुर्दों की भी हो रही दुर्दशा, फ्रीजर खराब होने से गर्मी में खराब हो रही लाशें

862 करोड़ का आएगा खर्च

जानकारी के अनुसार इस पॉड टैक्सी को चलाने के लिए प्रदेश सरकार को 862 करोड़ रुपये खर्च करने होंगे। पॉड टैक्सी को नोएडा की जमीन पर उतारने के लिए 50 से 60 करोड़ रुपये प्रति किमी का खर्च आएगा। इसकी फाइनल डीपीआर में 14 किमी के रूट पर करीब 862 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान लगाया गया है। बताया गया है कि सबकुछ ठीक रहा तो 2025 तक ग्रेटर नोएडा में पॉड टैक्सी दौड़ने लगेगी।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned