कोहरे के अलावा ये है यमुना एक्सप्रेस-वे पर हादसों की वजह

कोहरे के साथ-साथ प्रशासन की ऐसी लापरवाही भी Yamuna Express Way पर हादसों की बड़ी वजह बन रही है।

By: pallavi kumari

Published: 10 Nov 2017, 11:26 AM IST

ग्रेटर नोएडा. यमुना एक्सप्रेस-वे पर खूनी एक्सप्रेस-वे बनता जा रहा है। स्मॉग में यह और भी खतरनाक हो जाता है। दरअसल में ग्रेटर नोएडा से लेकर आगरा तक एक्सप्रेस-वे पर फॉग लाइट नहीं लगाई गई है। साथ ही रिफ्लेक्टरों का अभाव है। इसकी वजह से हादसे होने की संभावना और बढ़ जाती है। वहीं प्रशासन की तरफ से भी कभी लोगों को कोहरा में चलने के लिए भी जागरुक नहीं किया जाता है।

लोगों की मानें तो समय-समय पर जागरुकता अभियान चलाने चाहिए। साथ ही कोहरा के दौरान चलने के दिशा-निर्देश भी प्रशासन की तरफ दिए जाए। डीएम की मानें तो हादसों को रोकने के लिए प्रशासन की तरफ से हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। साथ ही यमुना एक्सप्रेस-वे मैनेजमेंट को गाइडलाइन जारी कर दी गई है।

पिछले 2 दिनों से दिल्ली-एनसीआर में धुंध छाने लगी है। इसकी वजह से बुधवार को यमुना एक्सप्रेस-वे पर हादसा हुआ। हादसे में 12 से अधिक गाडियां टकरा गई थी। जिसमें 10 से अधिक लोग घायल हुए है। एक्सपर्ट की मानें तो यमुना एक्सप्रेस-वे पर हादसों को रोकने के लिए पर्याप्त उपाय नहीं किए गए है। जिसकी वजह से हादसे हो रहे हैं। यहां फॉग लाइट की व्यवस्था नहीं है, जबकि रिफ्लेक्टरों का भी अभाव है।

 

fog

लोगों की मानें तो ग्रेटर नोएडा से लेकर आगरा तक खुला एरिया है। जिसकी वजह से स्मॉग और बढ़ जाता है। यहां एक्सप्रेस-वे मैनेजमेंट को फॉग लाइट लगानी चाहिए थी। लेकिन ऐसा नही किया गया। वहीं रिफ्लेक्टरों की भी कमी है। दरअसल में बुधवार को यमुना एक्सप्रेस—वे पर जिस जगह हादसा हुआ। वहां इस्टर्न पेरीफेरल के लिए पुल बनाया जा रहा है। एक्सप्रेस-वे पर बोरे पड़े हुए थे। बोरा से सबसे पहले स्कॉर्पियों को टकराई थी। बाद में और भी वाहन स्कॉर्पियों से जा टकराए। आरोप है कि एक्सप्रेस-वे पर कोई देखरेख करने वाला भी नहीं है। इसकी वजह से और भी दिक्कतें बढ रही है।

यातायात माह भी नहीं उठाया जा रहा कोई कदम

जिले में यातायात माह चल रहा है। इस दौरान लोगों के चालान और वाहनों को चेक किया जा रहा है। लेकिन यमुना एक्सप्रेस-वे पर पुलिस की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। लोगों का आरोप है कि अगर यमुना एक्सप्रेस-वे पर पुलिस की तरफ से अभियान चनाया जाए तो हादसों में कमी आ सकती है।

ऐसे भी बढ़ रहे हैं हादसे

यमुना एक्सप्रेस-वे पर इनदिनों लोगों ने लगी तार फेसिंग को तोड़कर रास्ता बना लिया है। दरअसल में यमुना एक्सप्रेस-वे पर ग्रेटर नोएडा से लेकर आगरा तक तार फेसिंग की गई है। ताकि कोई भी पशु रोड पर न जा सके और हादसा न हो। लेकिन लोगों ने तार फेसिंग को तोड़ दिया है। आसानी के साथ में यमुना एक्सप्रेस-वे पर पहुंच जाते हैं। यहां से बस पकड़ते हैं। ऐसे में यमुना एक्सप्रेस-वे पर जंगली पशु आ सकते हैं। इसकी वजह से बड़ा हादसा हो सकता है। आरोप है कि इस तरफ प्रशासन का ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

Show More
pallavi kumari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned