ये है योगी सरकार के युवा मोर्चा संगठन का फर्जी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष

ये है योगी सरकार के युवा मोर्चा संगठन का फर्जी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष
fake neta

ट्रॉसफर, पोस्टिंग के नाम पर अफसरों को लगाता था चुना, नौकरी दिलाने के लिए लोगों से कर चुका है ठगी

ग्रेटर नोएडा. लखनउ और मुंबई के बाद में एक जालसाज ने जालसाजी करने का नया ठिकाना दिल्ली—एनसीआर बना लिया था। यह आरोपी कभी बीजेपी युवा मोर्चा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनकर लोगों से ठगी करता तो कभी गवर्नर का एडीसी बनकर। 2010 में लखनउ में महाराष्ट्र का गवर्नर बनकर गनर समेत अन्य सुविधाएं हासिल की थी। उस दौरान भी वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया और पुलिस ने उसे जेल भेज दिया। आरोपी गौतमबुद्धनगर में एक व्यक्ति से रुपये ऐंठने की फिराक में था। उससे पहले ही ​बीजेपी के कार्यकर्ताओं को भनक लग गई। कार्यकर्ताओंं ने आरोपी के खिलाफ बादलपुर कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई थी। तभी से पुलिस उसकी तलाश में जुटी थी। पुलिस ने बुधवार को अरेस्ट कर जेल भेज दिया है।

जालसाजी कर लाया था इटयोस कार

एसपी देहात सुनीति सिंह ने बताया कि मुखबिर से सूचना मिली थी एक फर्जी युवा मोर्चा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष गौतमबुद्धनगर में लोगों से रुपये ऐठनें की फिराक में है। वह इटयोस कार में सवार होकर बिसरख आने वाला है। सूचना मिलने पर बादलपुर कोतवाली पुलिस ने बिसरख मोड के पास में वाहन चैकिंग शुरू कर दी। इसी दौरान पुलिस ने उसे रोक लिया। उन्होंने बताया कि पहले तो वह बीजेपी का युवा मोर्चा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का रौब झाड़ने लगा। पूलिस ने कड़ी पूछताछ की तो उसने सच्चाई उगल दी। पुलिस ने आरोपी की पहचान दक्षेंद्र शर्मा के रुप में की है। पुलिस ने आरोपी के पास से इटयोस कार व फर्जी चेकबुक बरामद की है। इटयोस कार लखनउ के रहने वाले पूर्व सचान अधिशासी अभियंता सिचाई मुन्नालाल की है। आरोपी उन्हें झांसा देकर 2 लाख रुपये और कार लेकर फरार हो गया था।

ऐसे करता था जालसाजी

एसपी देहात सुनीति सिंह ने बताया कि उसने हालही में अमरोहा के एक एसडीएम को ट्रॉसफर के नाम पर तीन लाख का चुना लगाया था। उससे पहले भी वह फर्जी नेता बनकर आईएएस, आईपीएस समेत कर्मचारियों को ट्रॉसफर और पोस्टिंग के नाम पर रुपये ऐंठ चुका है। वहीं लोगों से नौकरी व अन्य कार्य कराने के नाम पर लाखों रुपये की ठगी कर चुका है।  

लखनउ में गवर्नर और महाराष्ट्र में गवर्नर का एडीसी बनकर झाड़ चुका है रौब

एसपी देहात ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी बीजेपी युवा मोर्चा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व गवर्नर बनकर लोगों व अफसरों से ठगी किया करता था। पूछताछ में सामने आया है कि वह 2010 में लखनउ में महाराष्ट्र का गवर्नर बनकर होटल में ठहरा था। इस दौरान गनर समेत कई सुविधाओं का लाभ भी उठाया था। उन्होंने बताया कि पुलिस पर रौब भी झाड़ता था। पुलिस ने उसे दौरान भी जेल भेजा था। वहीं मुंबई में गवर्नर का एडीसी बनकर होटल में ठहरा था। पुलिस ने आरोपी को जेल भेज दिया है।   
    













खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned