योगी की इस जेल में कैदी पालेंगे गाय, बहेगी दूध की गंगा

Iftekhar Ahmed

Publish: Sep, 16 2017 07:46:25 PM (IST)

Greater Noida, Uttar Pradesh, India
योगी की इस जेल में कैदी पालेंगे गाय, बहेगी दूध की गंगा

जेल के अंदर 25 एकड़ जमीन पर गौशाला के साथ-साथ चारा भी उगाया जाएगा।

ग्रेटर नोएडा. यूपी के सीएम योगी आदित्यानाथ की सरकार में लुक्सर जेल में गाय पालन होगा। इसका उद्देश्य दूग्ध उत्पादन को बढ़ावा देने के साथ ही गायों की सुरक्षा करना करना है। जेल के अंदर 25 एकड़ जमीन पर गौशाला के साथ-साथ चारा भी उगाया जाएगा। जेलर एमएल यादव का दावा है कि यह पहली जेल होगी, जहां गायों के पालन के साथ-साथ कैदियों को भी दुध उत्पादन से होने वाले प्रोफिट से सैलरी भी दी जाएगी। जेल में बंद कैदी गायों की देखरेख करेंगे। जेल प्रशासन की माने तो अभी तक 20 से अधिक गायों को चिहिन्नत कर उनके रखने की व्यवस्था कर ली गई है। जेल में दूध की डेरी चलाने के लिए एक सोसाइटी का रजिस्ट्रेशन भी कराया जा रहा है।

शर्मनाकः यूपी के इस शहर में 4 साल में रेप के मामले में 170 फीसदी से ज्यादा इजाफा

जेल के आस—पास के गांवों के लोगों से मीटिंग कर जेल प्रशासन ने गाए लेने का प्रस्ताव तैयार किया है। फिलहाल, गौशाला में 20 गाय रखने की व्यवस्था कर दी गई है। वहीं, कैंदियों के बैंक अकाउंट भी खुलवाए जा रहे हैं। ताकि, गौशाला की देखरेख करने वाले कैंदियों को सैलरी दी जा सके। जेलर एमएल यादव ने बताया कि शुरुआत में नो प्रोफिट, नो लॉस के आधार पर गौशाला चलाई जाएगी। बाद में होने वाली आमदनी से कैदियों की सैलरी और गौशाला के रखरखाव पर खर्च किया जाएगा। जेल में ही गायों के लिए चारा उगाया जाएगा। वहीं, कैदियों के लिए बनने वाला 2 से 3 क्विंटल खाना डेली बचता है। यह खाना भी खराब नही होगा, गायों को खिलाया जाएगा।

लिफ्ट देने के बाद हाईवे पर दौड़ती कार में युवती से किया गंदा काम, फिर सड़क पर फेंककर हो गए फरार
जेलर एमएल यादव ने बताया कि जेल में गऊशाला शुरू होने के बाद डेरी का संचालन भी किया जाएगा। डेरी संचालन के लिए वाकायदा एक सोसाइदटी रजिस्ट्रर्ड कराई जाएगी। इसमें कैदियों को शामिल किया जाएगा। लंबी सजा काट रहे या सजायाप्त कैदियों को ही सोसाइटी में शामिल किया जाएगा। गायों का लालन—पालन करने की जिम्मेदारी सोसाइटी में शामिल कैदियेां की होगी। जेल में गाय के गोबर और गौमूत्र को अलग-अलग स्थानों पर इक्टठा किया जाएगा। गौमूत्र से आयुवैर्दिक दवाइयां बनाने वाली कपनियों को बेचा जाएग, जबकि खाद्य के व्यवसायिक प्रयोग के लिए विभिन्न संस्थान और हॉर्टीकल्च्र के लिए दिया जाएगा।

Ad Block is Banned