खुलासा: भाई की हत्या का बदला लेने के लिए गोलियों से भून दिया गया था दो प्रॉपर्टी डीलरों को

Highlights

- अजनारा ली गार्डन में हुए दोहरे हत्याकांड का खुलासा

- पुलिस ने दो आरोपियों को किया गिरफ्तार

- 7 सितंबर को टाटा हैरियर गाड़ी में बैठे डालचन्द पर की थी गोलियों की बौछार

By: lokesh verma

Published: 12 Sep 2020, 12:57 PM IST

ग्रेटर नोएडा. ग्रेनो वेस्ट के थाना बिसरख क्षेत्र में सात सितंबर की रात अजनारा ली गार्डन सोसायटी में हुई दो प्रॉपर्टी डीलरों की हत्या के मामले का पुलिन ने खुलासा कर दिया है। इस मामले में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरापियों ने पूछताछ में बताया कि उन्होंने पूर्व में कृष्णा नामक युवक की हत्या का बदला लेने के लिए प्रॉपर्टी डीलर डालचंद की हत्या की योजना बनाई थी। उसकी हत्या की सुपारी शार्प शूटरों को दी गई थी। घटना के दिन डालचंद के साथ कार में बैठे प्रॉपर्टी डीलर अरुण त्यागी भी बदमाशों की गोलियों के शिकार हो गए थे।

यह भी पढ़ें- इस जिले को सीएम योगी ने दी बड़ी सौगात, दो इंटर कॉलेज का जल्द होगा निर्माण

सूरजपुर में प्रेस कान्फ्रेंस में डीसीपी सेंट्रल हरीश चंद्र ने बताया कि बीती सात सितंबर को बिसरख थाना क्षेत्र के अजनारा ली गार्डन सोसायटी में कार में दो लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उस मामले में पुलिस ने घटना के मास्टरमाइंड गुरुग्राम निवासी सुरेश शर्मा और फ़रीदाबाद निवासी मोहित वत्स को ग्रेटर नोएडा वेस्ट स्थित गैलेक्सी वेगा सोसायटी के पास से गिरफ्तार किया है। दोनों अभियुक्तों से पूछताछ में पता चला कि इस दोहरे हत्याकांड को पुरानी रंजिश में अंजाम दिया गया है। पूर्व में सुरेश शर्मा के भाई कृष्ण की हत्या कर दी गई थी। उसका बदला लेने के लिए हरियाणा के बहादुर गढ़ निवासी टेकचन्द, डीलर उर्फ दयाचन्द उर्फ काली और ओम वीर पुत्र रामकिशन ने अपने साथियों के साथ मिलकर डालचंद की रेकी की। इसके बाद 7 सितंबर को टाटा हैरियर गाड़ी में बैठे डालचन्द पर गोलियों की बौछार कर दी। डालचंद के साथ कार में बैठे प्रॉपर्टी डीलर अरुण त्यागी भी बदमाशों की गोलियों के शिकार हो गए थे।

डीसीपी ने बताया कि मास्टरमाइंड सुरेश के पैरोल पर जेल से बाहर आने के बाद अभियुक्त मोहित वत्स ने उसे बताया कि जैकी उर्फ डालचन्द अपना नाम बदलकर नोएडा की सोसायटी में रह रहा है। उसकी रेकी करवा रखी है। आसानी से मारा जा सकता है। यह हत्या कृष्ण की हत्या का बदला लेने के लिए की गई है। अभियुक्त सुरेश हत्या के मुकदमे में आजीवन कारावास की सजा काट रहा था। 27 फरवरी 2020 को जेल से पैरोल पर छूटकर आया था। डीसीपी ने बताया कि दोहरे हत्याकांड में अभियुक्तों की गिरफ्तारी पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। बाद में इनाम राशि को 50 हजार रुपये करने के लिए उच्च अधिकारी को रिपोर्ट प्रेषित की गई है।

Show More
lokesh verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned