scriptYamuna Authority canceled allotment of plots of 8 builders | योगी सरकार बनने के बाद 8 बिल्डरों के प्लॉट का आवंटन निरस्त, 27 करोड़ भी किए जब्त | Patrika News

योगी सरकार बनने के बाद 8 बिल्डरों के प्लॉट का आवंटन निरस्त, 27 करोड़ भी किए जब्त

यमुना प्राधिकरण के सीईओ ने बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 8 बिल्डरों के ग्रुप हाउसिंग वाले 9 प्लॉट का आवंटन निरस्त करते हुए उनके करीब 27.30 करोड़ रुपए जब्त कर लिए हैं। बताया जा रहा है कि ये सभी बिल्डर लीज डीड की शर्तों का पालन नहीं कर रहे थे। सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि इन प्लॉटों की दोबारा आवंटन की प्रक्रिया की घोषणा जल्द की जाएगी।

ग्रेटर नोएडा

Published: April 01, 2022 02:24:50 pm

उत्तर प्रदेश में दोबारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद सबसे पहले नोएडा-ग्रेटर नोएडा व यमुना विकास प्राधिकरण क्षेत्र में मनमानी करने वाले बिल्डरों के खिलाफ कार्यवाही शुरू हो गई है। यमुना प्राधिकरण के सीईओ ने बिल्डरों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए 8 बिल्डरों के ग्रुप हाउसिंग के 9 प्लॉट का आवंटन निरस्त कर दिया है। इन बिल्डरों से करीब 2,18,625 स्क्वायर मीटर जमीन वापस ले ली गई है। इतना ही नहीं बिल्डरों के करीब 27.30 करोड़ रुपए भी जब्त कर लिए गए हैं। बताया जा रहा है कि ये सभी बिल्डर लीज डीड की शर्तों का पालन नहीं कर रहे थे। सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि इन प्लॉटों की दोबारा आवंटन की प्रक्रिया की घोषणा जल्द की जाएगी।
yamuna-authority-canceled-allotment-of-plots-of-8-builders.jpg
बता दें कि जिन बिल्डर के प्लॉट आवंटन निरस्त किए गए हैं, उनमें अधिकांश के आवंटन लॉजिक्स बिल्डर को किए गए थे। लॉजिक्स बिल्डर ने ही बिल्डरों को आवंटित प्लॉट के टुकड़े करके बेचे थे। लेकिन, ये बिल्डर काम नहीं कर पाए और बिल्डरों ने जमीन आवंटन के बाद किस्त जमा करने के लिए रिशेड्यूलमेंट की मांग की यानी उनकी किस्तों को दोबारा से तय किया गया। इसके बाद भी उन्होंने बकाया जमा नहीं कराया और डिफॉल्टर की श्रेणी में आ गए। ऐसे में प्राधिकरण ने कार्रवाई करते हुए डिफॉल्टर बिल्डर की श्रेणी में आने पर इनके प्लॉट का आवंटन निरस्त कर दिया।
यह भी पढ़ें- सीएम योगी के अयोध्या आने से पहले पीड़िता के घर पहुंचे विधायक

प्राधिकरण के बार-बार नोटिस भेजने के बाद भी नहीं चुकाया बकाया

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने बताया कि भूमि का आवंटन लेने के बाद इन बिल्डरों ने प्राधिकरण की बकाया धनराशि नहीं चुकाई है। आवंटित भूमि पर परियोजना शुरू नहीं की गई है। बिल्डरों को बार-बार बकाया पैसा चुकाने के लिए नोटिस भेजे गए, लेकिन कोई जवाब नहीं दिया गया। इसलिए अब इनके आवंटन रद्द कर दिए गए हैं। कुल 2.18 लाख वर्गमीटर के प्लॉट निरस्त किए गए हैं और 27.30 करोड़ रुपये की राशि जब्त की गई है।
यह भी पढ़ें- योगी सरकार के दूसरे कार्यकाल में बदले जाएंगे इन दर्जनों स्थानों के नाम, देखें पूरी सूची

आवंटित जमीन को टुकड़ों में बेचने का खेल काफी पुराना

प्राधिकरणों के ग्रुप हाउसिंग विभाग की ओर से बिल्डरों को आवंटित जमीन के टुकड़े कर यानी प्लॉट के सब डिवीजन कर बेचने का खेल काफी पुराना है। नोएडा की स्पोर्ट्स सिटी में भी इस तरह की कारगुजारी अंजाम दी गई थी। इससे पूरा प्रोजेक्ट ध्वस्त हो गया। मुख्य बिल्डर जमीन आवंटन कराने के बाद दूसरे को जमीन बेच देता है और फायदा कमाकर निकल जाता है। वहीं दूसरे बिल्डर बीच मझधार में फंसकर रह जाते हैं। इससे प्राधिकरणों की योजनाएं भी अटक जाती हैं। इन मामलों में भी कुछ ऐसा ही हुआ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट से मंदिर-मस्जिद के सबूतों का नया अध्याय, एक्सक्लूसिव रिपोर्ट सिर्फ पत्रिका के पास, जानें क्या है इन सर्वे रिपोर्ट में...दिल्ली हाई कोर्ट से AAP सरकार को झटका, डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना पर लगाई रोकसुप्रीम कोर्ट का फैसला: रोड रेज केस में Navjot Singh Sidhu को एक साल जेल की सजा, जानें कांग्रेस नेता ने क्या दी प्रतिक्रियाGST पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, जीएसटी काउंसिल की सिफारिश मानने के लिए बाध्य नहीं सरकारेंIPL 2022 RCB vs GT live Updates: पावर प्ले में गुजरात 2 विकेट के नुकसान पर 38 रनों पर6 साल की बच्ची बनी AIIMS की सबसे कम उम्र की ऑर्गन डोनर; 5 लोगों को दिया नया जीवनGyanvapi Masjid-Shringar Gauri Case: सुप्रीम कोर्ट में 20 मई और वाराणसी सिविल कोर्ट में 23 मई को होगी सुनवाईपंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ BJP में शामिल, दिल्ली में जेपी नड्डा ने दिलाई पार्टी की सदस्यता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.