खाड़ी देशों में पाकिस्तानी डॉक्टरों की डिग्री अमान्य, भारतीय डॉक्टरों को ग्रीन सिग्नल

  • पाकिस्तान के MS और MD की डिग्री खाड़ी देशों में अमान्य
  • सऊदी अरब के बाद कतर, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन ने भी की डिग्री रद्द

By: Shweta Singh

Updated: 07 Aug 2019, 01:35 PM IST

रियाद। आतंकी पनाहगाही और आर्थिक तंगी से जूझ रहा पाकिस्तान पहले ही अलग-थलग पड़ चुका है, अब उसके मित्र कहे जाने वाले अरब देशों से भी उसके लिए बुरी खबरें ही आ रही हैं। इन देशों में काम कर रहे पाकिस्तानी डॉक्टरों के सामने एक बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई है। दरअसल, सऊदी अरब और कुछ अन्य अरब देशों ने पाकिस्तान की डॉक्टरी डिग्री को अस्वीकार कर दिया है।

सैकड़ों पाकिस्तानी डॉक्टरों की नौकरी पर खतरा

जानकारी मिल रही है कि इन देशों में सदियों पुराने स्नातकोत्तर डिग्री कार्यक्रम- एमएस (मास्टर ऑफ सर्जरी) और एमडी (डॉक्टर ऑफ मेडिसिन) को अस्वीकार करने की घोषणा की है। ऐसे में उन्‍होंने ऐसी डिग्री धारक डॉक्‍टरों को भी उच्चतम भुगतान की पात्रता सूची से बाहर करने का निर्णय लिया है। इस कदम के बाद कथित तौर पर पाकिस्‍तान के सैकड़ों उच्च योग्यता वाले डॉक्‍टरों की नौकरी पर मुसीबतों का पहाड़ टूट गया है।

पाकिस्तान के मंत्री ने सुषमा के निधन पर जताया शोक, कहा- ट्वीटर पर उनसे बहस हमेश यादगार रहेगी

डॉक्टरों को देश छोड़ने का आदेश

पाकिस्तान के ज्यादातर डॉक्टर सऊदी अरब में हैं। प्रशासन ने उन्हें इस फैसले के बाद देश छोड़ने का निर्देश दिया है, साथ ही चेतावनी भी दी है कि ऐसा न करने पर उन्‍हें निर्वासित कर दिया जाएगा। सऊदी के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दावा किया कि पाकिस्तान के एमएस/एमडी की डिग्री बिना संरचित प्रशिक्षण कार्यक्रम के ही दी जाती है। लेकिन महत्वपूर्ण पदों के लिए यह कार्यक्रम एक अनिवार्यता है, ऐसे में पाकिस्तान की डिग्री को अस्वीकार की जाती है।

इस्लामाबाद में लगे 'अखंड भारत-महाभारत' वाले पोस्टर, विरोधी बैनरों से पाक में मची खलबली

गौरतलब है कि सऊदी के स्वास्थ्य मंत्रालय की एक टीम ने साल 2016 में अधिकतर ऐसे डॉक्टरों को काम पर रखा था, जिनकी डिग्री इस फैसले के बाद अस्वीकार है। इन डॉक्टरों की नियुक्ती ऑनलाइन आवेदन से हुई थी। बाद में कराची, लाहौर और इस्लामाबाद में इंटरव्यू के जरिए इनका चयन हुआ था।

भारत समेत इन देशों की डिग्री वैध

सऊदी सरकार के फैसले के बाद, कतर, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन ने भी डिग्री रद्द करने की घोषणा की। हालांकि, इन्होंने भारत, मिस्‍त्र, सूडान और बांग्‍लादेश की डिग्रियों को वैधता प्रदान की है। इसका मतलब इन देशों के डिग्रीधारक डॉक्‍टर मेडिकल प्रैक्टिस जारी रख सकते हैं।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

 

Show More
Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned