इराक: अमरीकी दूतावास के पास दो रॉकेट दागे गए, ईरान पर शक गहराया

 Highlights

  • यह अमरीकी दूतावास पर बीते दो साल में 26वां हमला है ।
  • आतंकी गुट मोर्टार और रॉकेट से ग्रीन जोन को अक्सर निशाना बनाता रहा है।

By: Mohit Saxena

Updated: 26 Mar 2020, 04:45 PM IST

बगदाद। इराक की राजधानी बगदाद के कड़े सुरक्षा क्षेत्र में गुरुवार की सुबह दो रॉकेट दागे गए। यह इलाका 'ग्रीन जोन' कहलाता है और यहां पर दूसरे देशों के दूतावास और सरकारी इमारतें मौजूद हैं। इराकी सेना ने इस हमले की जानकारी दी। एक रिपोर्ट के अनुसार ऐसा लगता है कि इस हमले का निशाना अमरीकी दूतावास था, जो उस जगह से कुछ ही दूरी पर है जहां ये रॉकेट आकर गिरे।

इराक में विदेशी सैनिकों या राजनयिकों के ठिकानों को निशाना बनाकर बीते साल अक्टूबर से हो रहे हमलों की कड़ी में यह 26वां हमला था। इस हमले में अभी तक किसी के हताहत की कोई जानकारी नहीं है। इस हमले के पीछे किसकी साजिश है इसका खुलासा नहीं हो पाया है। आतंकी गुट मोर्टार और रॉकेट से इस ग्रीन जोन को अक्सर निशाना बनाते हैं।

गौरतलब है कि अमरीका ने ईरान के शीर्ष कमांडर कासिम सुलेमानी को ड्रोन हमले मार डाला था। इसके बाद से अमरीकी दूतावासों पर हमले में तेजी आई थी। ईरान के बड़े नेता के मारे जाने के बाद ईरान में गुस्सा फूट पड़ा था। उसने अमरीका से बदला लेने का ऐलान किया। इसे बाद से लगातार अमरीकी दूतावास हमले किए जा रहे हैं।

ईरान के ये हमले संकेत देते हैं कि अभी उसका बदला बाकी है। ईरान में कोरोना वायरस ने भारी तबाही मचाई है। इस मामले में जब अमरीका ने मदद का हाथ बढ़ाया तो उसे नाकार दिया। ईराना का कहना है कि अमरीका जो दवा देगा वह मर्ज को और बढ़ाएगा। ये बयान संकेत देता है कि ईरान अमरीका से दूरी बनाकर रखना चाहता है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned