हौती विद्रोहियों का एक और हमला, सऊदी अरब ने नष्ट की मिसाइल

हौती विद्रोहियों का एक और हमला, सऊदी अरब ने नष्ट की मिसाइल

Siddharth Priyadarshi | Publish: Sep, 16 2018 11:21:20 AM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 11:25:41 AM (IST) गल्फ

हौती विद्रोहियों की तरफ से दागी गई मिसाइल आवासीय क्षेत्रों के लिए जा रही थी।

रियाद। सऊदी अरब के नेतृत्व वाली गठबंधन सेना ने शनिवार को हौती विद्रोहियों द्वारा दागी गई मिसाइल नष्ट कर दी। यह मिसाइल सीमावर्ती शहर जजान की ओर दागी गई थी। संयुक्त अरब गठबंधन सेना के प्रवक्ता तुर्की अल मलीकी ने एक बयान जारी कर कहा है कि सऊदी अरब की वायुसेना ने मिसाइल को हवा में नष्ट कर दिया गया। इस घटना में किसी के हताहत होने के समाचार नहीं हैं। हौथिस अल-मसिरा मीडिया ने इस बात की पुष्टि करते हुए कहा कि रॉकेट फोर्स ने जजान के औद्योगिक शहर की तरफ दागी गई एक बैलिस्टिक मिसाइल बेअसर कर दी।

वीडियो: अमरीका में चोर उठा रहे हैं तूफान फ्लोरेंस का फायदा, कई जगहों पर लूट

हौती विद्रोहियों के लगातार हमले

ताजा हमले के साथ यमन की ओर से सऊदी अरब के शहरों की ओर दागी गई मिसाइलों की संख्या बढ़कर 196 हो गई है, जिनमें से अधिकतर को नष्ट कर दिया गया हैं। सऊदी राज्य समाचार एजेंसी ने सऊदी नेतृत्व वाले गठबंधन के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि यमन में हौती विद्रोहियों की तरफ से दागी गई मिसाइल आवासीय क्षेत्रों के लिए जा रही थी। ऐसा पहले भी किया जा चुका हैं।

हौती विद्रोहियों का पक्ष

हौती विद्रोहियों का कहना है कि राज्य पर मिसाइल हमला पश्चिम समर्थित अरब गठबंधन द्वारा यमन पर हवाई हमले के प्रतिशोध में हैं। बता दें कि राष्ट्रपति अब्द-रब्बू मंसूर हादी को बहाल करने की कोशिश के बाद 2015 में यमन गृहयुद्ध में प्रवेश कर चुका हैं। 2015 में हौदी द्वारा राजधानी साना से हदी को हटा दिया गया था। साल 2015 से यमन के हौती विद्रोहियों के निशाने पर सऊदी अरब रहा है। हौती विद्रोहियों का कहना है कि उनके मिसाइल हमलें यमन में हौती के नियंत्रण वाले क्षेत्रों में गठबंधन सेना के हवाई हमलों के मद्देनजर प्रतिक्रियास्वरूप किए जा रहे हैं।

अमरीका: तूफान फ्लोरेंस ने ली 11 लोगों की जान, उत्तरी कैरोलिना में भारी तबाही

क्यों अशांत हैं यमन

यमन में मुख्य लड़ाई राष्ट्रपति अब्दरब्बू मंसूर हादी के सैनिकों और शिया हौती विद्रोहियों के बीच है। राष्ट्रपति अब्दरब्बू मंसूर हादी को राजधानी सना छोड़कर सऊदी अरब में शरण लेनी पडी थी। उसके बाद पिछले कई महीनों से सऊदी अरब के नेतृत्व में यमन पर हवाई हमले हो रहे हैं। बता दें कि विद्रोहियों ने देश के एक बड़े हिस्से पर नियंत्रण कर रखा है जिनमें राजधानी सना भी शामिल है। विद्रोहियों ने पूरी सरकार को देश से भागने पर मजबूर कर दिया है। विद्रोहियों का आरोप है कि सरकार में भ्रष्टाचार है।

Ad Block is Banned