खाड़ी देशों में बढ़ा तनाव, नहर खोदकर कतर को अलग-अलग करेगा सऊदी अरब

खाड़ी देशों में बढ़ा तनाव, नहर खोदकर कतर को अलग-अलग करेगा सऊदी अरब

Mangala Prasad Yadav | Publish: Sep, 01 2018 04:09:19 PM (IST) गल्फ

खाड़ी देशों सऊदी अरब और कतर के बीच रिश्ते बेहद तनावपूर्ण हो गए हैं। सऊदी अरब के समर्थन में तीन अन्य देश भी आ गए हैं।

रियादः कतर से दुश्मनी निकालने के लिए सऊदी अरब नहर खोदने की योजना बना रहा है। दरअसल सऊदी अरब कतर को द्वीप बनाकर जमीनी संपर्क से उसे अलग-थलग करने की कोशिश कर रहा है। कतर से लगती सीमा पर नहर खोदने की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के सीनियर एडवाइजर ने बताया कि नहर प्रॉजेक्ट का वे बेसब्री से इंतजार कर रहे है। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के लागू होने के बाद कतर प्रायद्वीप जमीनी तौर पर सऊदी अरब से अलग हो जाएगा। फिलहाल कतर ने अभी तक इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

ये भी पढ़ेंः सऊदी अरब के युवराज ने खरीदा दुनिया का सबसे महंगा घर

14 महीनों से चल रहा विवाद
सऊदी अरब और कतर के बीच करीब 14 महीनों से विवाद चल रहा है। दोनों देशों के रिश्ते इतने खराब हो गए हैं कि सऊदी अरब ने कतर से अपने सारे संबंध खत्म कर दिए हैं। कतर का मिश्र, यूएई और बहरीन से भी विवाद चल रहा है। इन देशों ने जून 2017 में कतर के साथ राजनीतिक और कूटनीतिक संबंध खत्म कर लिए थे। इन चारों देशों का आरोप है कि कतर आतंकवाद का समर्थन कर रहा है। कतर के रिश्ते ईरान से बेहद करीबी हैं जिसकी वजह आतंकवाद को बढ़ावा मिल रहा है।

ये भी पढ़ेंःसऊदी अरब में महिला कार्यकर्ता का सिर कलम करने की तैयारी, पहली बार दी जाएगी ऐसी सजा

ऐसी होगी कतर सीमा पर नहर
कतर सीमा पर नहर 60 किलोमीटर लंबी और 200 मीटर चौड़ी खोदी जाएगी। नहर खोदने वाली पांच कंपनियों को बोली लगाने के लिए बुलाया गया है। इसी महीने नहर खोदने वाली कंपनी के नाम का ऐलान किया जाएगा। बताया जा रहा है कि नहर के एक हिस्से को सऊदी अरब न्यूक्लियर वेस्ट फैसिलिटी के तौर पर भी इस्तेमाल करने को सोच रहा है।

Ad Block is Banned