भारत का 25 प्रतिशत धनिया का उत्पादन एमपी के सिर्फ एक जिले से

- अब सरकार बना रही है ब्रांडिंग की योजना
- पूरे देश में प्रमुखतः 3 जिलों में होता है धनिया उत्पादन
- गुना में हर साल 3 लाख 32 हजार क्विंटल धनिया का उत्पादन

By: Hitendra Sharma

Published: 09 Apr 2021, 12:33 PM IST

गुना. हमारी रसोई में धनिया का महत्वपूर्ण स्थान है और सब्जी में स्वाद और स्वस्थ्य दोनों के लिये धनिया बहुत जरूरी माना जाता है। लेकिन आप जानते हैं कि पूरे देश में प्रमुखतः 3 जिले हैं जहां धनिये का सर्वाधिक उत्पादन होता है। जी ही इन तीन जिलों में पहले स्थान पर है मध्य प्रदेश का गुना जिला जो देश के कुल धनिया उत्पादन का 25 फीसदी धनिया पैदा करता है। अब प्रदेश सरकार एक जिला एक उत्पाद के अंतर्गत गुना जिले में धनिया उत्पादन को बढ़ावा दिया जा रहा है। गुना जिले में प्रति वर्ष 32,000 मीट्रिक टन धनिया का उत्पादन होता है।

यह तथ्य सामने आया है कि पूरे देश में 3 जिलों में धनिया का प्रमुखतः से उत्पादन होता है। इनमें गुना प्रथम, रामगंज मंडी राजस्थान द्वितीय और गोंडल गुजरात तृतीय क्रम पर है। गुना जिले के प्रमुख धनिया उत्पादक क्षेत्र कुंभराज, बमोरी, चांचौडा, मधुसूदनगढ, छोटा धनिया एवं मोटा धनिया दो प्रकार का धनिया पैदा होता है। गुना जिले का छोटा धनिया खुशबूदार होता है। इसकी महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली में भारी मांग रहती है।

मोटा धनिया मुख्यतः धनिया की दाल (मुखवास) निर्माण में उपयोग होता है। गुना जिले में चार इकाईयां धनियादाल का निर्माण करती हैं। इनकी क्षमता लगभग 1200 एमटी प्रतिवर्ष है। धनियादाल का निर्यात गुजरात एवं महाराष्ट्र में होता है। जिले में धनिया क्लीनिंग एवं धनिया पावडर की छोटी-बडी लगभग 100 इकाईयां कार्यरत हैं। जिनमें 12 करोड का स्थाई पूंजी विनियोजन होकर लगभग 1500 व्यक्तियों को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रोजगार मिला हुआ है। ये इकाई लगभग 10 हजार एमटी धनिया की प्रोसेसिंग कर रही हैं। इनमें एक इकाई मेसर्स पीसी कन्नन एंड कंपनी जो कि स्पाइसेस पार्क, ग्राम मावन तहसील गुना में स्थापित है।

गुना जिले में 5 धनिया प्रोसेसिंग इकाइयों ने वर्ष 2020-2021 में उत्पादन प्रारंभ कर दिया है। जिनमें 156 5 लाख का पूंजी विनियोजजन हुआ है। जिनमें लगभग 125 व्यक्तियों को प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से नवीन रोजगार प्राप्त होगा। गुना जिले में धनिया एवं धनिया उत्पाद की ब्रांडिंग एवं सार्टिंग कर गुना जिले के उद्यमियों एवं कृषकों का लाभ पहुंचाया जा रहा है।

1500 लोगों को मिल रहा रोजगार
जिला रोजगार अधिकारी बीएस मीना ने बताया कि एक जिला एक उत्पाद योजना के तहत जिले में 100 इकाइयां धनिया प्रोसेसिंग एवं धनिया पाउडर निर्माण भी कार्यरत हैं। इनमें12 करोड़ की पूंजी विनियोजन है। इन इकाइयों से करीब 1500 लोगों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार मिल रहा है।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned