गैस सिलेंडर विस्फोट में दो और लोगों की मौत, एक ही परिवार के 9 लोगों की गई जान

अहमदाबाद से 6 शवों को लेकर गुना के बेरवास गांव पहुंची एंबुलेंस...गांव में पसरा मातम..

By: Shailendra Sharma

Published: 24 Jul 2021, 08:26 PM IST

गुना. अहमदाबाद की सोम फैक्ट्री परिसर में गैस विस्फोट में सात लोगों की मौत के बाद दो और लोगों की शुक्रवार को जानें चली गईं। इस विस्फोट में अभी तक गुना जिले के सड़क किनारे लगे बेरवास गांव के अहिरवार समाज के एक ही परिवार के 9 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। विस्फोट में बारह लोग झुलस गए थे, जिनमें एक की हालत गंभीर बनी हुई है उनका इलाज अहमदाबाद के अस्पताल में चल रहा है। इस विस्फोट से राजू उसकी पत्नी सीमा, बेटी पायल, वैशाली और बेटा नीतेश के साथ-साथ राजू के भाई सोनू की पत्नी सरजू बाई और उसके दो वर्षीय बेटा आकाश राजू और सोनू का पूरा परिवार उजड़ गया।

ये भी पढ़ें- दाने-दाने को मोहताज शहीद का परिवार, बूढ़े माता-पिता को मदद का इंतजार, देखें वीडियो

guna_accident.jpg

गांव में पसरा मातम
गुना जिला मुख्यालय से 7० किलोमीटर दूर बसे ग्राम पंचायत बेरवास में जब पत्रिका टीम पहुंची तो पूरे गांव में माहौल गमगीन दिखा। यहां अहिरवार समाज की अलग बस्ती है। इसके अलावा इसी गांव में मीना, राजपूत समाज भी निवास करता है। राजू और सोनू के बड़े भाई अमृतलाल और हीरा अपने परिजनों व गांवों के लोगों के साथ घर के दरवाजे पर बैठे हुए गांव के रास्ते की तरफ निहारते हुए दिखे। अहमदाबाद से दोपहर 2.16 मिनट पर छह लाशें तीन एम्बुलेंस के साथ निकली थीं जो देर रात बेरवास पहुंची। शवों को लेकर जैसे ही एंबुलेंस गांव में पहुंची तो मौजूद लोगों की आंखें नम हो गईं और महिलाएं फूट-फूट कर रोने लगीं। बीते रोज ही राजू, उसकी तीन साल की बेटी पायल और दस साल की वैशाली का शव आया था, जिनका दाह संस्कार कर दिया था। शनिवार को राजू की पत्नी सीमा, सोनू और उनकी पत्नी सरजूबाई, सोनू का दो वर्षीय बेटा आकाश, राजू का सात साल का बेटा नीतेश, मां रामप्यारी के शव बेरवास पहुंचे थे। राघौगढ़ विधायक जयवर्धन सिंह घटना की जानकारी लगने के बाद गांव पहुंचे और पीड़ित परिवार को हर संभव मदद करने और कराने का आश्वासन दिया। उधर कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए और पुलिस अधीक्षक राजीव कुमार मिश्रा वहां पहुंचे, उन्होंने घटना की जानकारी ली और पीडि़त परिवार से चर्चा भी की।


ये भी पढ़ें- अहमदाबाद में सिलेंडर फटने से एमपी के 7 लोगों की मौत, शिवराज, सिंधिया और कमलनाथ ने जताया दुख

photo_2021-07-24_16-45-06.jpg

परिवार के सदस्य ने साझा किया दर्द
पीड़ित परिवार से जुड़े एक सदस्य ने बताया कि हमारे पास पट्टे की तीन-चार बीघा जमीन है, प्रधानमंत्री आवास भी नहीं मिला, कच्चे मकान में मृतक राजू, सोनू समेत हम सब लोग रहते थे। यहां काम न मिलने पर अहमदाबाद की काजू फैक्ट्री में काम करने 25 जून को गए थे। 2०-21 जुलाई की दरम्यानी रात को फैक्ट्री परिसर में रहने के लिए मिले एक कमरे में गैस सिलेण्डर लीकेज हो रहा था, राजू ने जैसे ही कमरे की लाइट जलाई, उससे विस्फोट हुआ और 12 लोग झुलस गए थे। इनमें मृतक के बड़े भाई अमृतलाल की पत्नी लीलाबाई और अमृत की बहन शीला और बहनोई फूलसिंह भी शामिल थे। उसका कहना था कि यहीं मजदूरी मिल जाती तो न हमारे परिवार के लोग मजदूरी करने न तो गुजरात जाते और न यह हादसा हो सकता। हमारा तो परिवार ही उजड़ गया।राजू और सोनू की पत्नी और बच्चे सभी नहीं रहे। इसके साथ ही हमारी 7० वर्षीय वृद्ध मां रामप्यारी भी चली गई।


देखें वीडियो- भूल गए शहादत, बूढ़े माता-पिता का दर्द

Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned