मानदेय बढ़ाने की मांग को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सौंपेंगी ज्ञापन

सीटू के राज्यव्यापी आव्हान पर होगा प्रदर्शन

By: दीपेश तिवारी

Published: 16 May 2018, 11:20 AM IST

गुना। लंबे समय से पेंडिंग पड़ी अपनी मांगों को लेकर अब आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका उग्र आंदोलन की राह पर आगे बढ़ेंगी। इस संबंध में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका एकता यूनियन की जरूरी बैठक डाक बंगला स्थित सीटू के कार्यालय में रखी गई। इसके तहत डाक बंगला गुना से आंगनबाड़ी कर्मियों की रैली शुरू होगी, जो हनुमान चौराहे से होते हुए कलेक्ट्रेट कार्यालय पर सभा में तब्दील हो जाएगी। इस दौरान अपनी मांगों से जुड़ा मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन भी कलेक्टर को सौंपा जाएगा। सभा को सीटू सहित यूनियन के नेता संबोधित करेंगे।

यूनियन की अध्यक्ष किरण तिवारी ने बताया कि लंबे संघर्ष के बाद 8 अप्रैल को मुख्यमंत्री ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता का मौजूदा मानदेय ५ से १० हजार एवं सहायिका का मानदेय २५०० से बढ़ाकर ५ हजार रुपए प्रतिमाह करने की घोषणा की है। इसके अलावा रिटायरमेंट की आयु ६२ वर्ष करने, रिटायरमेंट पर कार्यकर्ता को एक लाख रुपए और सहायिका को ७५ हजार रुपए देने की घोषणा शामिल है। लेकिन इस घोषणा को किए एक माह से भी ऊपर का समय गुजर चुका है, जिसका लाभ आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाओं को अभी तक नहीं मिला है और न ही यह बताया जा रहा है कि उन्हें इन घोषणाओं का लाभ कब से मिलना शुरू हो जाएगा।

इससे नाराज आंगनबाड़ी कार्यकर्ता तथा सहायिकाएं सीटू के नेतृत्व में बुधवार दोपहर को प्रदर्शन व आंदोलन कर ज्ञापन दिया जाएगा। इसके बाद भी यदि मांगें पूरी नहीं होती हैं, तो आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिकाएं उग्र आंदोलन को मजबूर होंगी।

प्रदेश में कई जगह आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अपने मानदेय को लेकर प्रदर्शन कर चुकी है। उन्होंने विरोध का हर तरीका अपनाया हुआ है। प्रदेश के हर क्षेत्र में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की यही स्थिति लंबे समय से बनी हुई है। जिससे वे काफी नाराज है। उनका कहना है कि सरकार से हम लंबे समय से इस बात में बात कर रहे है। पर, सरकार कोई भी ठोस कदम नहीं उठा रही है। न ही हमें किसी तरह का आश्वासन दे रही है। अगर सरकार हमारी बात नहीं सुनती है। आने वाले समय में यह सरकार दुबारा अपनी जगह नहीं बना पाएंगी।

दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned