scriptBig issue: Police engaged in cutting challan leaving the root of the p | पत्रिका बिग इश्यू : समस्या की मूल जड़ को छोड़ चालान काटने में जुटी पुलिस | Patrika News

पत्रिका बिग इश्यू : समस्या की मूल जड़ को छोड़ चालान काटने में जुटी पुलिस

ट्रेक्टर की किश्त जमा करने आए किसान की बाइक उठा ले गया अमला
800 का चालान कटवाने के बाद मिल सकी बाइक
एबी रोड सहित प्रमुख मार्गों पर जाम के लिए जिम्मेदार लोगों पर अब तक कार्रवाई नहीं
बैंकों के पास नहीं है उपभोक्ताओं के वाहन पार्क करवाने जगह
नो पार्किंग जोन में वाहन खड़े करना आम जनता की मजबूरी

गुना

Published: December 23, 2021 12:41:27 am

गुना. वर्ष 2021 खत्म होने में नौ दिन शेष रह गए हैं। इसके बाद हर साल की तरह एक बार फिर नए नर्ष की शुरूआत हो जाएगी। लेकिन गुना शहर की सबसे ज्वलंत समस्या पार्किंग का अभाव, अतिक्रमण और पल-पल पर लगने वाले जाम के हालात जस के तस बने हुए हैं। इस गंभीर समस्या से निजात दिलाने के लिए अब तक प्रशासन ने न तो कोई कारगर रणनीति तैयार की है और न ही वैकल्पिक कदम उठाए गए हैं। ऐसे हालातों के बीच आए दिन यातायात विभाग की कार्रवाई ने आम जनता को काफी परेशान कर दिया है। क्योंकि हर बार विभाग समस्या की मूल जड़ या फिर कहें इसके लिए जिम्मेदार व्यक्ति को छोड़ आम जनता को कार्रवाई कर निशाना बना रहा है। बुधवार को भी कई ऐसे मामले सामने आए जब बैंक में जरूरी काम से आए उपभोक्ताओं के वाहन यातायात पुलिस उठा ले गई। इनमें एक किसान ऐसा भी था जो करीब 30 किमी दूर से अपने ट्रेक्टर की किश्त जमा करने गुरुद्वारा के पास स्थित बैँक आया था। कुछ देर बाद वह बाहर आया तो मौके से बाइक गायब थी। उसने देखा कि यातायात विभाग का विशेष अमला बैंक के बाहर खड़ी बाइकों को वाहन में रख रहा है। जब उसने पुलिसकर्मियों से अपनी बाइक के बारे में पूछा तब पता चला कि उसकी बाइक भी कार्रवाई की जद में आ चुकी है। किसान ने बताया कि बहुत दूर गांव से आया है बिना बाइक के कैसे जा पाएगा। ऐसी स्थिति में उसे चालान काटकर ही बाइक दी गई। यहां बता दें कि दिन भर पुलिस ने ऐसे कई वाहन चालकों पर चालानी कार्रवाई अंजाम दी। जिससे वह काफी नाराज नजर आए।
जानकारी के मुताबिक शहर की बिगड़ती ट्रेफिक व्यवस्था की मूल जड़ पार्किंग का अभाव, फुटपाथ पर कब्जे तथा बढ़ता अतिक्रमण है। इस समस्या को दूर करने की पहली जिम्मेदारी नगर पालिका की है। लेकिन वह इस दिशा में आज तक कोई कारगर कदम नहीं उठा सकी है। हालांकि तत्कालीन कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम के कार्यकाल के दौरान जरूर प्रशासन ने इस समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए दृंढ इच्छा शक्ति दिखाई थी। जिसके बाद एसडीएम से लेकर तहसीलदार तथा नपा सीएमओ ने पुलिस की मदद से एबी रोड पर संचालित विभिन्न बैँक, कोचिंग सेंटर व अन्य व्यवसायिक संस्थानों पर कार्रवाई का दबाव बनाया था। यहां तक कि उक्त संस्थाओं को एक निर्धारित समय तक सील तक कर दिया गया था। साथ ही भवन के तलघरों में पार्किंग बनाने के लिए अल्टीमेटम दिया। लगातार की गई इस कवायद का असर यह हुआ है कि कुछ बैंकिंग व निजी संस्थाओं ने तलघरों में पार्किंग सुविधा चालू कर दी। लेकिन जैसे ही प्रशासन ने इस ओर से अपना ध्यान हटा लिया, उसके बाद समस्या जस की तस हो गई है। वर्तमान में यह स्थिति है कि सोमवार से शनिवार तक एबी रोड से लेकर शहर के प्रमुख मार्गों में जाम के हालात निर्मित होते हैं। रविवार की छुट्टी के दिन ही सिर्फ जाम से दो चार नहीं होना पड़ता।
-
पत्रिका बिग इश्यू : समस्या की मूल जड़ को छोड़ चालान काटने में जुटी पुलिस
पत्रिका बिग इश्यू : समस्या की मूल जड़ को छोड़ चालान काटने में जुटी पुलिस

इन क्षेत्रों में बनते हैं जाम के हालात
नानाखेड़ी मंडी गेट, हनुमान चौराहा, तेलघानी चौराहा, बड़ा पुल, रेलवे स्टेशन रोड, हायर सेकेेंडरी स्कूल क्रमांक-2 के सामने, जाटपुरा रोड, जयस्तंभ चौराहा, गुरुद्वारा रोड, शास्त्री पार्क-जिला अस्पताल मार्ग, मानस भवन, नयापुरा, सदर बाजार, कोतवाली रोड, लक्ष्मीगंज क्षेत्र, हाट रोड, लोक निर्माण विभाग कार्यालय के सामने, टीआईटी कॉम्पलैक्स मार्ग, पुरानी गल्ला मंडी-हाट रोड मार्ग, कैंट गुना-अशोकनगर मार्ग पर सबसे ज्यादा अतिक्रमण होने की वजह से जाम के हालात निर्मित होते हैं।
-
जरा इनकी भी सुनो
मैं आज अपने भाई के साथ बाइक से ट्रेक्टर की किश्त व अन्य काम से आया था। बैंक के बाहर जहां बाइक रखने जगह मिली वहां रखकर अंदर चला गया। बाहर आया तो बाइक गायब मिली। पूछने पर पता चला कि यातायात पुलिस ने अपने वाहन में बाइक चढ़ा लीं। पुलिस अधिकारी को जब पूरी जानकारी दी तो उन्होंने एक बाइक के दो चालान काट दिए एक 500 रुपए की और दूसरी रसीद 300 रुपए की थी। इस तरह उसे 800 रुपए का नुकसान हुआ है।
रवि कुमार, ग्रामीण
-
यातायात पुलिस का इस तरह से वाहन चालकों का चालान काटना ठीक नहीं है। क्योंकि बैँक आने वाले उपभोक्ताओं को पार्किंग सुविधा देना उनका दायित्व है। जब उन्हें जगह नहीं मिलेगी तो वे अपने वाहन कहां रखेंगे। कुछ बैंकों ने तलघर में पार्किंग की व्यवस्था की है इसके बावजूद वहां वाहन रखने जगह नहीं मिलती। एक ही जगह पर दो से अधिक बैंक होने से स्टाफ की संख्या ही इतनी है कि वहां उनके वाहन रखे होने के बाद जगह ही नहीं बचती। जिसका खामियाजा आम उपभोक्ता को चालानी कार्रवाई के रूप में भुगतना पड़ रहा है।
राजेश कुमार, वाहन चालक

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Covid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 5,760 नए मामले, संक्रमण दर 11.79%Republic Day 2022 parade guidelines: कोरोना की दोनों वैक्सीन ले चुके लोग ही इस बार परेड देखने जा सकेंगे, जानिए पूरी गाइडलाइन्सएमपी में तैयार हो रही सैंकड़ों फूड प्रोसेसिंग यूनिट, हजारों लोगों को मिलेगा कामकांग्रेस के तीन घोषित प्रत्याशी पार्टी छोड़ कर भागे, प्रियंका गांधी हुई हैरानDelhi Metro: गणतंत्र दिवस पर इन रूटों पर नहीं कर सकेंगे सफर, DMRC ने जारी की एडवाइजरीवाटर टूरिज्म से बढ़ेंगे पर्यटक, रमौआ और तिघरा डैम में वाटर स्पोट्र्स एक्टिविटी की तैयारीदलित का घोड़े पर बैठना नहीं आया रास, दूल्हे के घर पर तोड़फोड़, महिलाओं को पीटाNational Voters' Day: पहली बार वोट देने वाले जानें अपने अधिकार और जिम्मेदारी के बारे में
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.