scriptBJP and Congress fight for tickets, opposing each other | भाजपा और कांग्रेस एक-दूसरे का कर रहे विरोध, चुनाव में दावेदार के लिए आजमा रहे हर दांव | Patrika News

भाजपा और कांग्रेस एक-दूसरे का कर रहे विरोध, चुनाव में दावेदार के लिए आजमा रहे हर दांव

- भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशी एक-दूसरे का कर रहे विरोध

- गुना नपा में पार्षद प्रत्याशी कितना कर सकेेंगे खर्च, पढ़ें यहां

गुना

Published: June 05, 2022 04:02:52 pm

गुना। गुना नगर पालिका की चाबी इस बार अध्यक्ष बनने वाली सामान्य वर्ग की महिला के हाथों रहेगी। 28 वर्ष बाद नगरपालिका अध्यक्ष पद का चुनाव जनता के जरिए नहीं चुने हुए पार्षदों के माध्यम से होगा। यही कारण हैं जिससे गुना शहर में वार्ड पार्षद बनने के लिए सरगर्मी तेज हो गई है।

guna-local_body_election_2022.png

अपना वार्ड दूसरे वर्ग के लिए आरक्षित हो जाने की हालत में अब लोग पड़ोसी के वार्ड में सेंध लगाने की तैयारी में हैं। इसके लिए जमावट के साथ ही संपर्क भी शुरू हो चुका है। उधर कांग्रेस हो या भाजपा, इन दोनों में अध्यक्ष पद की चाहत वाले नेताओं की संख्या चार से सात तक है, इससे आपस में विरोध के स्वर भी सुनने को मिलने लगे हैं।

कई दावेदार भाजपा और कांग्रेस के टिकट पर निर्भर हैं, लेकिन पार्टी की अनदेखी किए जाने पर वे अभी से निर्दलीय चुनाव लडऩे का मन भी बना चुके हैं।

बात साफ है कि अप्रत्यक्ष प्रणाली में जब पार्षदों को ही अध्यक्ष चुना जाना है, तो उसकी पूछ भी अधिक होना है। ऐसा मौका कोई नहीं चूकना चाहता। फिर कई तो अपने को अध्यक्ष पद का पुख्ता दावेदार तो कई बिल्ली के भाग्य से छींका टूट जाने जैसा मौका मिलने की आस में दावेदारी का दम भर रहे हैं।

कुल मिलाकर इस बार टिकट वितरण के लिए भारी मारामारी होने वाली है और टिकट की घोषणाओं के बाद बगावत भी खूब होने के आसार अभी से नजर आने लगे हैं। राजनेताओं के अनुसार इस बार निर्दलीयों की भी खूब पूछ परख होने वाली है। उधर 11 जून से नामांकन दाखिला शुरू होना है और निर्वाचन आयोग की गाइडलाइन के अनुसार पार्षद पद के प्रत्याशियों को नगर की जनसंख्या के मान से तय राशि खर्च करने की हिदायत भी जारी हो गई है।

पार्षद पद में खर्च पात्रता
राज्य शासन की गाइड लाइन अनुसार पार्षद पद के प्रत्याशियों को चुनाव में अपने खर्च का पूरा ब्योरा प्रस्तुत करना होगा। यह राशि जनसंख्या के आधार पर खर्च की जा सकेगी। आयोग के निर्देशानुसार 1 लाख से अधिक की जनसंख्या वाले शहरों में ढाई लाख रुपए तक हर प्रत्याशी की खर्च सीमा रखी गई है।

इस श्रेणी में गुना नगरपालिका आएगी, जबकि 50 हजार से 1 लाख की आबादी वाले नगरीय निकायों में खर्च सीमा डेढ़ लाख रखी गई है, जबकि सभी नगर परिषदों में पार्षद पद के प्रत्याशियों के लिए खर्च सीमा 75 हजार रुपए निर्धारित की गई है।

सक्रियता को ही आधार मानने का भरोसा: अनारक्षित महिला वर्ग के अध्यक्ष पद को देखते हुए भाजपा-कांग्रेस दोनों ही प्रमुख दलों में दावेदारों की लंबी फेहरिस्त है। हालात यह हैं कि पार्टी के किसी भी कार्यक्रम में सबसे ज्यादा संख्या अब उन्हीं लोगों की रहने लगी है, जो टिकट की दौड़ में शामिल हैं।

दोनों ही दलों के मुखिया भी कह चुके हैं कि पार्टी में खुद सक्रिय रहने वाली महिलाओं को ही टिकट दिया जाएगा, लेकिन यह भी पक्की बात है कि भले ही पार्टी जिलाध्यक्ष और स्थानीय नेता कुछ भी कहते रहें, कुछ भी भरोसा दिलाते रहें, लेकिन होगा वही जो भोपाल से आए संदेश में होगा।

इसलिए पार्षद का टिकट और फिर अध्यक्ष पद के लिए अधिकृत किया जाना आसान नहीं है। फिर भी दावेदार कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं। हर नेता, हर कार्यक्रम और हर प्रदर्शन में वे आगे रहकर नेताओं की नजरों में बने रहना चाहते हैं, ताकि उनकी सक्रियता का भी आकलन हो सके।
गड़बड़ नहीं होने देंगे
एसपी पंकज श्रीवास्तव के अनुसार पंचायत चुनाव और नगरीय निकाय चुनाव लगभग एक ही समय हैं। इसके लिए बाहर से भी पुलिस बल मंगाया जाएगा। किसी भी स्थिति में गड़बड़ी नहीं होने देंगे। कानून व्यवस्था बिगाड़न की कोशिश करने वालों से पुलिस सख्ती से निपटेगी।
नगरीय निकाय का ऐसा रहेगा चुनावी कार्यक्रम
: निर्वाचन की सूचना का प्रकाशन और नामांकन फार्म प्राप्त करने की प्रक्रिया 11 जून को सुबह साढ़े दस बजे।

: नामांकन फार्म भरने की अंतिम तिथि 18 जून को दोपहर तीन बजे तक।
: नाम वापस लेने की अंतिम तिथि 22 जून।

: निर्वाचन प्रतीकों का आवंटन अभ्यर्थिता से नाम वापसी के बाद यानि 22 जून को ही।

: गुना नगर पालिका में हैं वार्ड 37। इनके लिए बनाए जाएंगे195 मतदान केन्द्र।
: नगरीय निकायों में कुल मतदाताओं की संख्या 2 लाख 19 हजार 543। गुना नगर पालिका में एक लाख 52 हजार 296 मतदाता।

: गुना नगर पालिका में 57 संवेदनशील केन्द्र, आरोन नगर परिषद में 9, नगर परिषद कुंभराज तथा चांचौड़ा-बीनागंज में 8 -8 तथा नगर परिषद मधुसूदनगढ़ में 11 संवेदनशील केन्द्र।
: गुना नगर पालिका में मतदान 6 जुलाई को।

: कुंभराज, आरोन, बीनागंज-चांचौड़ा, मधुसूदनगढ़ नगर परिषद में मतदान 13 जुलाई को।

: मतदान सुबह सात से सायं पांच बजे तक होगा।

: गुना नगर पालिका की मतगणना 17 जुलाई को।
: कुंभराज-आरोन समेत अन्य नगर परिषदों की मतगणना 18 जुलाई को।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

रोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियागुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानलालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाMaharashtra Monsoon Session: व्हिप को लेकर आमने-सामने हुए शिंदे गुट और ठाकरे खेमा, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष का जमकर हंगामाBJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलजिम्बाब्वे दौरे पर गई भारतीय टीम को BCCI ने दी सख्त हिदायत, पूल में जाने से रोका, ज्यादा देर नहाने से भी किया मानाकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.