कोरोना कर्फ्यू का असर पशुओं पर भी, हरा चारा न मिलने से परेशान

समाज सेवी ने की पहल, हनुमान चौराहा पर पानी की टंकी रखवाई, चारा भी खिलाया

By: Narendra Kushwah

Published: 03 May 2021, 12:38 AM IST

गुना। कोरोना कर्फ्यू की समयावधि बढऩे का असर इंसान के साथ-साथ जानवरों पर भी देखने को मिल रहा है। मंडियां बंद होने से यह परेशानी और भी ज्यादा गंभीर हो गई है। हालांकि मूक पशुओं की इस परेशानी को कुछ समाज सेवियों ने समझ लिया है और वे पशुओं की मदद के लिए सामने आए हैं।
जानकारी के मुताबिक कोरोना कर्फ्यू लंबा खिंचने से इंसानों के साथ-साथ पशु पक्षी, गौवंश भी चारे के अभाव में भूखा मरने की नौबत में आ गए हैं। चिंतन मंच जनसंवेदना के तहत शहरी एवं ग्रामीण अंचलों में भूख प्यास से पीडि़त गौवंश एवं पक्षियों के लिए चारा, दाना, पानी की व्यवस्था में सहयोग किया जा रहा है। विराट हिन्दु उत्सव समिति प्रमुख कैलाश मंथन के मुताबिक अंचल में सभी प्रमुख स्थलों पर पशुओं को पीने के लिए पानी की टंकियां, हरा एवं सूखा चारा, भूसा, खली का इंतजाम किया जा रहा है। कोई भी प्राणी भूखा न रहे इस के लिए तन, मन, धन से प्रयास किए जा रहे हैं। अभावग्रस्त प्राणी मात्र को भोजन, पानी प्रदान करना ही सच्चा मानव धर्म है।
वहीं दूसरी ओर अंचल में नरसेवा नारायण सेवा के तहत अनेकों युवा कार्यकर्ताओं ने अपने जेब खर्च में कटौती करके गरीब परिवारों, झोपडिय़ों तक बेसहारा लोगों, मजदूरों, वृद्धों एवं बच्चों को भोजन प्रदान किया जा रहा है। अंतर्राष्ट्रीय पुष्टिमार्गीय परिषद एवं चिंतन मंच के तहत गौवंश की सेवा की जा रही है। परिषद के कैलाश मंथन ने बताया कि प्रशासन की कंट्रोल रूम व्यवस्था के अलावा अनेक ऐसे लोग अंचल में हैं, जिन्हें कहीं से भी कोई सहायता उपलब्ध नहीं है। आर्थिक रूप से भी अनेक परिवारों की मदद की जा रही है। नरसेवा नारायण सेवा के तहत भोजन के पैकेट प्रतिदिन शहर, बायपास, बाहरी गरीब बस्तियों में वितरण किए गए। गौवंश को प्रतिदिन रात्रि को चारा पानी की व्यवस्था की जा रही है।
हिउस प्रमुख मंथन ने बताया कि अंचल में सेवा प्रदान कर रहे सभी कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करने का निर्णय लिया गया है। उल्लेखनीय है कि कोरोना संकट के कठिन दौर में गुना अंचल में मानवीय संवेदनाओं के चलते असहाय, पीडि़त मजदूर गरीब तबके को राहत सामग्री पहुंचाने के लिए अनेकों संस्थाएं, समाजसेवी एवं युवा वर्ग आगे आ रहे हैं।

Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned