गुना के जिला विधिक सहायता अधिकारी ने 40 की उम्र में किया 40 वां रक्तदान

रक्तदान से किसी के जीवन को बचाने की खुशी शब्दों में बयांं करना मुश्किल

By: Narendra Kushwah

Published: 28 Jan 2021, 09:40 PM IST

गुना. दान किए गए रक्त की हर एक बूंद का कतरा-कतरा किसी व्यक्ति के नवजीवन का कारगर स्त्रोत बन सकता है। रक्तदान करके जो आत्मसंतुष्टि का भाव और किसी के जीवन को बचाने की जो खुशी मिलती है उसे शब्दों में बयां करना मुश्किल है। यह बात जिला विधिक सेवा प्राधिकरण गुना में पदस्थ जिला विधिक सहायता अधिकारी दीपक शर्मा ने 26 जनवरी को जिला चिकित्सालय में अपना चालीसवां स्वैच्छिक रक्तदान करने के बाद अपने अनुभव के रूप में कही। जिला विधिक सहायता अधिकारी शर्मा द्वारा रक्तदान की अपनी यात्रा के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वर्ष 2004 में जब कमलाराजा हॉस्पिटल में उनकी पत्नी को रक्त की आवश्यकता पड़ी, उस समय उन्होंने 2004 में प्रथम बार रक्तदान किया। तब से परिवारजनों के सकारात्मक सहयोग से यह प्रक्रिया लगातार चल रही है। वर्ष 2013 में मप्र राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर में जिला विधिक सहायता अधिकारी के रूप में पदस्थ होने के बाद से हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस पर रक्तदान करने का संकल्प वर्तमान तक जारी है। गणतंत्र दिवस 2021 को यह स्वैच्छिक रक्तदान 40 यूनिट की संख्या को प्राप्त कर चुका है। शर्मा द्वारा वर्ष 2004 में 01, वर्ष 2005 में 01, वर्ष 2006 में 02, वर्ष 2007 में 03, वर्ष 2008 में 04, वर्ष 2009 में 03, वर्ष 2010 में 04, वर्ष 2011 में 02, वर्ष 2012 में 03 यूनिट तथा वर्ष 2013 से लेकर गणतंत्र दिवस 2021 तक प्रत्येक स्वतंत्रता दिवस व गणतंत्र दिवस तक 17 यूनिट इस प्रकार कुल 40 यूनिट स्वैच्छिक रक्तदान किया है।
रक्तदान करने के अपने अनुभव के आधार पर भय का सामना करने वाले उन सभी लोगों से कहना चाहता हूं कि रक्तदान करने के बाद मुझको अभी तक कोई समस्या नहीं आई है। व्यक्ति के अनमोल जीवन की रक्षा के लिए रक्तदान करना हम सभी लोगों की एक बेहद महत्वपूर्ण नैतिक व सामाजिक जिम्मेदारी है। शर्मा ने बताया कि स्वैच्छिक रक्तदान के प्रति उनकी इस लगन को जिला न्यायाधीश व अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण गुना राजेश कुमार कोष्टा एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण गुना एके मिश्र द्वारा भी उत्साहित किया गया है।
-
न्यायाधीशगण व कर्मचारियों द्वारा भी किया गया 10 यूनिट रक्तदान
कोरोना संक्रमण के आपातकाल में भी किसी की जीवन रक्षा के लिए रक्तदान के प्रति जागरूकता वर्ष 2020 में न्यायालय परिसर में देखने को मिली। वर्ष 2020 में कुल 10 यूनिट रक्तदान किया गया। जिला न्यायालय में विशेष न्यायाधीश प्रदीप मित्तल जो कि वर्तमान में जिला जज श्योपुर के रूप में पदस्थ हैं। उन्होंने 53 साल की उम्र में रक्तदान किया। इसके अलावा अपर जिला न्यायाधीश एके मिश्र, व्यवहार न्यायाधीश भूपेन्द्र सिंह कुशवाह, सुनील खरे, अमोघ अग्रवाल, न्यायालय के कर्मचारी मनोज धाकड़, शिवम सेन, ओमकार तिवारी ने भी रक्तदान किया।

Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned