मंत्री-विधायक से लगवाया फोन, फिर भी बंद रहना पड़ा खुली जेल में

-कोरोना को लेकर प्रशासन सतर्क, बगैर मास्क के लोगों का किया चालान

By: Narendra Kushwah

Updated: 06 Apr 2021, 12:54 AM IST

गुना। कोरोना संक्रमण काल में बगैर मास्क के घूमने वालों के खिलाफ प्रशासन सतर्क हो गया है। ऐसे लोगों को खुली जेल में शुक्रवार को भी बंद रखा। एक हिन्दू वादी नेता के मामले में रोचक मामला सामने आया जहां बगैर मास्क के पकड़ा गया हिन्दू नेता ने खुली जेल में न जाना पड़े, इससे बचने के लिए गुना विधायक, प्रदेश सरकार के एक मंत्री समेत कई अफसरों को फोन लगाए, इसके बाद भी वह बच नहीं पाया उसे खुली जेल में बंद रहना पड़ा।
अम्बेडकर भवन में प्रशासन ने बगैर मास्क के पकड़े जाने वालों के लिए अस्थाई जेल यानि खुली जेल बना रखी है। कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने बगैर मास्क वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने जिसमें जुर्माना जमा कराए जाना या खुली जेल में ऐसे लोगों को रखवाए जाने के निर्देश दिए हैं।
पुलिस ने पकड़े बगैर मास्क वालों को
रंग पंचमी के अवसर पर कई जगह बगैर मास्क के निकल रहे वाहन चालकों और पैदल चल रहे लोगों को पकड़ा, जिनको पुलिस अपने वाहन में बिठालकर अम्बेडकर भवन स्थित खुली जेल में लाए गए।यहां कुछ लोग तो छूटने के लिए भाजपा और कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं से फोन लगवाते रहे। अम्बेडकर भवन पर मौजूद एक पुलिस कर्मी का कहना था कि खुली जेल में बंद न हों, इसके लिए मास्क नहीं लगा रहे हैं, लेकिन बंद होने की नौबत आते ही मंत्री, नेताओं और वरिष्ठ अफसरों को फोन लगवा रहे हैं।

Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned