Health department : एक टेक्नीशियन को 70 हजार वेतन तो दूसरे को नियमित रूप से 10 हजार भी नहीं

Health department : एक टेक्नीशियन को 70 हजार वेतन तो दूसरे को नियमित रूप से 10 हजार भी नहीं

Narendra Kushwah | Updated: 08 Aug 2019, 04:12:42 PM (IST) Guna, Guna, Madhya Pradesh, India

पत्रिका पड़ताल :
स्वास्थ्य विभाग की यह कैसी व्यवस्था
एक टेक्नीशियन को बिना काम के 70 हजार वेतन तो दूसरे को नियमित रूप से 10 हजार भी नहीं
टीबी अस्पताल में एक्सरे मशीन न होने के बाद भी पदस्थ है रेडियोग्राफर
मरीजों की परेशानी को अनदेखा कर रहा स्वास्थ्य महकमा

गुना. स्वास्थ्य विभाग की व्यवस्थाएं इन दिनों बुरी तरह से गड़बड़ाई हुई हैं। जिम्मेदार अधिकारी मरीजों की परेशानी न देखते हुए निजी स्वार्थों को पूरा करने में लगे हुए हैं। इसी तरह का एक उदाहरण सीएमएचओ कार्यालय में देखने को मिला है। टीबी अस्पताल में पदस्थ रेडियोग्राफर को एक्सरे मशीन के अभाव में बिना काम के ही हर माह 70 हजार रुपए वेतन दिया जा रहा है तो वहीं जिला अस्पताल का एक्सरे विभाग स्टाफ की कमी से जूझ रहा है। यही नहीं सीटी स्केन विभाग में पदस्थ टेक्नीशियन को तो नियमित रूप से 10 हजार रुपए वेतन भी नहीं मिल रहा है। ये तीन तरह की अव्यवस्थाएं जिम्मेदार अधिकारियों की कथित कार्यप्रणाली को उजागर कर ही हैं।


जिला अस्पताल की इमरजेंसी सेवाएं हो रही प्रभावित
जिला अस्पताल में इन दिनों आपातकालीन सेवाएं बुरी तरह से चरमरा गई हैं। क्योंकि एक तरफ शहर सहित अंचल भर के मरीजों का दबाव ऊपर से पैरामेडिकल स्टाफ की बेहद कमी। सीएस के मुताबिक अस्पताल के एक्सरे विभाग में अभी मात्र दो ही रेडियोग्राफर पदस्थ हैं। जिन्हें मजबूरीवश नियमित ड्यूटी के अलावा रात में भी इमरजेंसी ड्यूटी निभानी पड़ रही हैं।

 

इसी तरह जरूरी सेवाओं में से एक सीटी स्केन विभाग आउट सोर्सिंग पर निर्भर है। यहां मात्र एक टेक्नीशिन पदस्थ है। जिसे प्रति माह मिलने वाला 10 हजार रुपए वेतन भी नियमित रूप से नहीं मिल रहा है। ऐसे में उक्त टेक्नीशियन पूरे समय मरीजों को अपनी सेवाएं नहीं दे पा रहा है। उधर दुर्घटना में घायल गंभीर मरीजों की सीटी स्केन नहीं हो पा रही है। जिसके अभाव में मरीज बिना इलाज कराए ही अस्पताल छोड़ रहे हैें।

health news

टीबी अस्पताल में कई सालों से नहीं है एक्सरे मशीन
जानकारी के मुताबिक जिला अस्पताल प्रांगण में स्थित टीबी अस्पताल में बीते कई सालों से एक्सरे मशीन ही नहीं है। ऐसे में यहां पदस्थ रेडियोग्राफर से जिला अस्पताल के एक्सरे विभाग में लंबे समय से सेवाएं ली जा रही थीं। लेकिन बीते माह किसी कारणवश उक्त रेडियोग्राफर को वापस टीबी अस्पताल भेज दिया गया जबकि यहां अभी तक न तो एक्सरे मशीन आई है और न ही उन्हें टीबी अस्पताल में कोई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। ऐसे में शासन द्वारा रेडियोग्राफर को दी जाने वाला भारी भरकम वेतन (70 हजार) पर सवाल खड़े होना लाजिमी है।


यह बोले जिम्मेदार
टीबी अस्पताल में अब एक्सरे मशीन की कोई आवश्यकता नहीं है। क्योंकि यहां अब सीबीनेट मशीन से सभी तरह की जांचें हो जाती हैं। टीबी अस्पताल के रेडियोग्राफर को हमने जिला अस्पताल के एक्सरे विभाग में भेजने पत्र लिख दिया है।
डॉ पुरुषोत्तम बुनकर, सीएमएचओ

हमारे पास केवल 2 ही रेडियोग्राफर हैं जबकि काम अधिक है। मैंने टीबी अस्पताल के रेडियोग्राफर को यहां पदस्थ कराने के लिए सीएमएचओ से कहा था लेकिन उन्होंने हाल ही में पुराना पत्र केंसिल कर उन्हें वापस टीबी अस्पताल भेज दिया।
डॉ एसके श्रीवास्तव, सीएस जिला अस्पताल गुना

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned