अस्पताल में पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री, हर वार्ड में मिली गंदगी, न डॉक्टर मिले और न स्टॉफ

अस्पताल में पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री, हर वार्ड में मिली गंदगी, न डॉक्टर मिले और न स्टॉफ
- फदे गद्दे और गंदगी चादर देखकर नाराज हुए, मरीजों से पूछीं समस्याएं

बंद कमरे में ली अफसरों की बैठक,54 सफाई कर्मियों को नोटिस

गुना। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट कांग्रेस के कुछ नेताओं के साथ जिला अस्पताल का निरीक्षण गुरुवार को सुबह8.45 करने पहुंचे। उन्हें अस्पताल परिसर में नहीं बल्कि हर वार्ड में गंदगी मिली, पलंग पर फटे गद्दे और गंदी चादरें देखीं, जिन पर नाराज हुए और सिविल सर्जन और सीएमएचओ की तरफ देखकर बोले कि ये क्या है, चादरों की ध्ुालाई नहीं होती। इसके साथ ही कई पलंगों पर मरीज के अटेण्डर सोते हुए मिले। उन्हें मरीजों के अटेण्डरों ने बाहर से जांच कराने और दवाएं मंगाए जाने की शिकायत की। मजेदार बात ये है कि मंत्री अस्पताल का निरीक्षण कर रहे थे, उस समय तक आधे से अधिक डॉक्टर और स्टॉफ ड्यूटी पर नहीं था। आनन-फानन पर मैसेज वायरल हुआ और कुछ ही देर में स्टॉफ वहां पहुंच गया।
कांग्रेसजनों के अनुसार स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट का गुना से काफी पुराना नाता रहा है, इसका कारण ये है कि पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का यह लोकसभा क्षेत्र रहा है, उनके चुनाव में सिलावट बड़ी-बड़ी जि मेदारी निभाते रहे हैं। वे यहां के अस्पताल की व्यवस्थाओं से काफी चिर-परिचित भी हैं। लेकिन वे भी यहां की व्यवस्थाओं को बदलने या सुधारने के लिए एक नहीं कई बार कार्यक्रम या बैठकों के जरिए आदेश देते रहे हैं, इसके बाद भी वहां की व्यवस्थाएं सुधरने को तैयार नहीं हैं। कुछ समय पूर्व जिला अस्पताल परिसर में हुए एक कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री सिलावट ने कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार समेत विभाग के अधिकारियों से कहा कि स्वच्छता अ िायान की शुरूआत जिला अस्पताल से की जाए। इस आदेश की धज्जियां उस समय उनको उड़ी हुई मिलीं, जब उन्हें अस्पताल के निरीक्षण के समय जगह-जगह गंदगी के ढेर और वार्ड में गंदगी मिली। इसकी गाज जिला अस्पताल के वरिष्ठ अधिकारियों की जगह 54 सफाई कर्मचारियों पर नोटिस दिए जाने के रूप में गिरी है।
जब मंत्री से की शिकायत
स्वास्थ्य मंत्री ने एक मरीज से जब स्वास्थ्य सुविधाओं की जानकारी ली तो उसने बताया कि यहां के डॉक्टर जांच के लिए बाहर भेजते हैं। शिकायत सुनने के बाद मंत्री सिलावट ने मौके पर मौजूद डॉक्टर से कहा कि गरीब जनता को परेशान न किया जाए, उसे हर सुविधा अस्पताल में ही मिलनी चाहिए। सूचना मिलने के बाद एसडीएम शिवानी गर्ग और तहसीलदार सोनू गुप्ता अस्पताल पहुंच गए थे। निरीक्षण के दौरान कुछ कर्मचारियों ने मंत्री के समक्ष समयमान वेतनमान की समस्या को रखा। भोजन बनाने वाले और सिक्योरिटी गार्डों ने मंत्री से वेतन न मिलने की शिकायत की।
गंदगी देख नपा के इंजीनियर पर भड़के मंत्री
स्वास्थ्य मंत्री ने करीब एक घंटे तक अस्पताल के सभी वार्डों में जाकर निरीक्षण किया। इस दौरान उन्हें हर जगह गंदगी मिली। जबकि बीते माह भी स्वास्थ्य मंत्री को निरीक्षण में इस तरह की अव्यवस्था मिली थी। उस दौरान उन्होंने कलेक्टर को आदेशित किया था कि वे स्वच्छता अभियान की शुरूआत जिला अस्पताल से ही करें। लेकिन तीन माह बाद भी ऐसा नहीं किया गया। जिसे लेकर मंत्री काफी नाराज हुए और उन्होंने मौके पर मौजूद नगर पालिका के इंजीनियर आरबी गुप्ता की जमकर क्लास ली। जिस पर उन्होंने अगले दिन नपा के सफाई अमले से अस्पताल में सफाई करवाने की बात कही।
मंत्री ने ली बंद कमरे में बैठक
स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने निरीक्षण के बाद बंद कमरे में एक बैठक ली, जिसमें उन्होंने अस्पताल की व्यवस्थाओं और सफाई के बारे में जानकारी ली। इसके साथ ही व्यवस्थाओं को सुधारने के निर्देश दिए। इस बैठक में एसडीएम शिवानी रायकवार, सिविल सर्जन डा. एसके श्रीवास्तव, सीएमएचओ डा. पी. बुनकर आदि उपस्थित थे।
मंत्री बोलें सुधारेंगे व्यवस्थाएं
स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट से जब संवाददाताओं ने पूछा कि निरीक्षण में जो कमी मिली है उन पर क्या कोई कार्रवाई होगी या नोटिस देंगे, इस पर उनका कहना था कि नोटिस देने से व्यवस्थाएं नहीं सुधरेंगे, हम चेतावनी देकर सुधरवाएंगे। डॉक्टरों व स्टॉफ के निरीक्षण समय तक न आने के सवाल पर उनका कहना था कि ऐसा नहीं स्टॉफ आ गया था। उन्होंने कहा कि डॉक्टरों की कमी नहीं हैं। दवाईयां भी भरपूर हैं। जब उनसे पूछा गया कि प्रभारी मंत्री इमरती देवी कलेक्टर से नाराज हैं, इस पर उनका कहना था कि इसकी उनको जानकारी नहीं हैं, वह मेरी बहन है, सबको ठीक कर सकती हैं। मंत्री सिलावट बीती रात को भोपाल से गुना आए थे, यहां उन्होंने रात्रि विश्राम किया, बाद में वे अशोकनगर के लिए रवाना हो गए, जहां पहुंचकर वे पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ कार्यक्रमों में शामिल हुए।

praveen mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned