scriptHeaps of garbage around the residence and office of the officers on wh | पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट : जिन अधिकारियों पर मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी उन्हीं के आवास और कार्यालय के आसपास कचरे के ढेर | Patrika News

पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट : जिन अधिकारियों पर मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी उन्हीं के आवास और कार्यालय के आसपास कचरे के ढेर

- कॉलोनीवासी बोले, कचरा कलेक्शन वाहन मेन सड़क से ही निकल जाता है, कब तक घर में रखें कचरा
- कलेक्टर के आदेश को अधिकारी नहीं ले रहे गंभीरता से
- सुबह के समय मॉनीटरिंग के लिए अलग-अलग अधिकारियों की लगाई गई है ड्यूटी

गुना

Published: February 27, 2022 12:55:07 am

गुना. मार्च माह में स्वच्छ सर्वेक्षण की टीम शहर में सफाई व्यवस्था का जायजा लेने आएगी। लेकिन अब तक शहर की सफाई व्यवस्था दुरुस्त नहीं हो सकी है। वहीं नगर पालिका व प्रशासनिक प्रयास भी औपचारिक रूप में चल रहे हैं। ऐसे में हालात देखकर नहीं लगता कि अधिकारी गुना शहर को प्रदेश के टॉप-10 शहरों में शामिल कराने को लेकर गंभीर हैं। वहीं हाल ही में प्रशासन ने बैठक कर स्वच्छता सर्वेक्षण के तहत जो विभिन्न गतिविधियां आयोजित कराने की बात कही थी, वह भी धरातल पर नजर नहीं आ रही हंै।
जानकारी के मुताबिक स्वच्छता सर्वेक्षण के तहत गुना शहर को साफ और सुंदर बनाने के प्रयास पिछले कई सालों से चल रहे हैं। लेकिन अभी तक नगर के कुल 37 वार्डों में से एक मात्र वार्ड भी न तो कचरा मुक्त हो सका है और न ही डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन व्यवस्था सभी वार्डों तक पहुंच सकी है। यही कारण है कि शहर के किसी भी इलाके में चले जाओ हालात पहले की तरह ही नजर आ रहे हैं। गौर करने वाली बात है कि हर साल जब भी स्वच्छता सर्वेक्षण की गतिवधियां चालू करने की बात आती है तो प्रशासन और नगर पालिका बैठकें कर नए-नए नवाचार सुझाते हैं लेकिन यह सुझाव सिर्फ बैठकों तक ही सीमित होकर रह जाते हैं। इन्हीं में से एक है प्रशासन के विभिन्न विभागों के अधिकारियों को अलग-अलग क्षेत्र में सफाई व्यवस्था की मॉनीटरिंग करने की जिम्मेदारी देना। जिसके तहत अधिकारी कुछ ही दिन अपने वार्ड में सफाई देखने गए लेकिन बाद में यह व्यवस्था भी ढर्रे पर चली गई। जिसका नतीजा है कि इन अधिकारियों के आवास से लेकर कार्यालय के आसपास कचरे के ढेर कभी भी देखे जा सकते हैं।
-
इन स्थानों पर मिले कचरा
शहर में सफाई व्यवस्था के हालात देखना है तो किसी भी दूरस्थ वार्ड में जाने की जरुरत नहीं है। क्योंकि यह स्थिति शहर की पॉश कॉलोनी से लेकर व्हीआईपी कॉलोनी में मौजूद है। पत्रिका टीम को शहर के प्रमुख मार्गों से लेकर वार्ड, कॉलोनी, सरकारी कार्यालय तथा अधिकारियों के सरकारी आवासों के आसपास जो स्थिति मिली वह काफी निराश कर देने वाली थी। क्योंकि हर जगह कचरे के ढेर लगे नजर आए। इससे स्पष्ट हुआ कि नगर के प्रत्येक वार्ड से डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन के दावे झूठे हैं।
-
जनसंख्या और क्षेत्रफल के हिसाब से सफाईकर्मी नहीं
लगातार बैठकों के बाद भी शहर की सफाई व्यवस्था में बदलाव क्यों नहीं आ रहा है ? इसकी मूल वजह जानने के लिए पत्रिका ने अलग-अलग क्षेत्र के नागरिक व निवर्तमान पार्षदों से बात की। जिसमें सामने आया है कि नगर में कुल वार्डों की संख्या 37 है। जिनका क्षेत्रफल और जनसंख्या अलग-अलग है। वहीं भौगोलिक स्थिति भी अलग है। इस हिसाब से सफाई कर्मियों की तैनाती नहीं की गई है। वहीं दूसरा कारण सफाई व्यवस्था का नियमित रूप से सही ढंग से मॉनीटरिंग न किया जाना है।
-
कागजों में सफाईकर्मी, ड्यूटी वाहन चालक की
गुना नगर के सभी 37 वार्डों में सफाई करने के लिए नपा की लिस्ट में 462 सफाई ककर्मी हैं। लेकिन इनमें से करीब 100 सफाई कर्मी ऐसे हैं जो वार्डों में सेवा न देकर अधिकारियों के बंगलों पर वर्षो से सेवाएं दे रहे हैं। यहीं से शहर की सफाई व्यवस्था का सिस्टम बिगडऩा शुरू होता है। कई सफाईकर्मी वाहनों पर चालक के रूप में पदस्थ हैं।
-
बिगड़ी व्यवस्था के लिए यह भी एक कारण
नगर पालिका ने शहर को स्वच्छ और सुंदर बनाने के नाम पर वार्डों से डस्टबिन हटा लिए हैं। ऐसे में कॉलोनीवासियों के पास कचरा फेंकने कोई विकल्प नहीं बचा है। यही कारण है लोग खाली पड़े स्थानों पर कचरा फेंक रहे हैं। जिसे भी नपा नहीं उठवा रही है। जिससे क्षेत्र में गंदगी फैल रही है।
-
यह बोले नागरिक
हमारी कॉलोनी में कचरा लेने गाड़ी कब आती है और कब चली जाती है, पता ही नहीं चलता। ऐसे में घर के अंदर कब तक कचरा रखें। मजबूरी में खाली पड़े प्लॉट में कचरा फेंकना पड़ता है।
उत्तमेश, वार्डवासी
-
शहर के सभी वार्डों व प्रमुख मार्गों पर डस्टबिन रखवाए जाने चाहिए ताकि लोग कचरा सड़क पर न फेंके। वर्तमान में इसी कमी की वजह घरों के आसपास कचरा नजर आ रहा है। क्योंकि वर्तमान में जितने कचरा कलेक्शन वाहन हैं, उनसे हर गली से कचरा एकत्रित किया जाना संभव नहीं है।
राजाराम, वार्डवासी
पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट : जिन अधिकारियों पर मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी उन्हीं के आवास और कार्यालय के आसपास कचरे के ढेर
पत्रिका ग्राउंड रिपोर्ट : जिन अधिकारियों पर मॉनीटरिंग की जिम्मेदारी उन्हीं के आवास और कार्यालय के आसपास कचरे के ढेर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

Punjab Borewell Accident: 8 घंटे के बचाव अभियान के बाद 6 साल के रितिक को बोरवेल से निकाला गया, अस्पताल में भर्तीBJP को सरकार बनाने के लिए क्यूँ जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारी..पुजारा और कार्तिक की टीम में वापसी, उमरान मालिक को भी मिला मौका, देखें दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे का पूरा स्क्वाडपश्चिम बंगाल का पूर्व मेदिनीपुर जिला बम धमाकों से दहला, तलाशी के दौरान बरामद हुए 1000 से अधिक बमआम आदमी पार्टी में शामिल होंगे कपिल देव! हरियाणा चुनाव से पहले AAP का बड़ा दांव, केजरीवाल संग फोटो वायरलपश्चिम बंगाल में BJP को बड़ा झटका, बैरकपुर के भाजपा सांसद अर्जुन सिंह TMC में हुए शामिलएशिया कप हॉकी: पहले ही मैच में भिड़ेंगे भारत और पाकिस्तान, ऐसा है दोनों टीमों का रिकॉर्डचार धाम यात्रा: केदारनाथ में श्रद्धालुओं ने फैलाया कचरा, वैज्ञानिक बोले - यही बनता है तबाही का कारण
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.