होलाष्टक आज से, ८ दिन के लिए शुभ कार्यों पर लगा ब्रेक

धर्म-कर्म: आठ दिन तक मनेगा होलाष्टक, होलिका दहन ९ को

By: Mohar Singh Lodhi

Published: 01 Mar 2020, 09:45 PM IST

गुना. इस साल होलिका दहन ९ मार्च को किया जाएगा। इसकी तैयारी शुरू हो गई है। इससे ठीक ८ दिन पहले यानि २ मार्च से होलाष्टक शुरू होगा। ८ दिन तक शुभ कार्य वर्जित रहेंगे। होलिका दहन के बाद शुभ कार्य शुरू हो सकेंगे। ज्योतिषाचार्य पंडित युवराज राजोरिया ने बताया, होली के 8 दिन पूर्व होलाष्टक लग जाते हैं। इन दिनों में कोई भी शुभ कार्य करना शास्त्र में वर्जित माना है। क्योंकि इन दिनों में सभी ग्रह प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। शास्त्र् अनुसार हिरण्यकश्यप ने भक्त प्रहलाद को मारने होली के आठ दिन पूर्व तैयारी शुरू की थी। इसलिए इन दिनों को शुभ नहीं माना है। इस वर्ष होलाष्टक 2 मार्च से शुरू होकर 9 मार्च तक है। हिंदू धर्म में दो बड़े त्यौहार माने जाते हैं, दीपावली और होली। इन दोनों त्योहारों को बुराई पर अच्छाई की जीत के तौर पर माना जाता है।
९ मार्च को होगा होलिका दहन
होलिका दहन 9 मार्च फाल्गुन सुदी पूनम सोमवार को भद्रा के बाद किया जाएगा। होलिका दहन करने का शुभ मुहूर्त शाम 6.43 से 8.43 तक कन्या लग्न में शुभ रहेगा। होली का त्यौहार 3 दिन मनाया जाता है। पहले दिन होलिका दहन, दूसरे दिन धुलेंडी या रंग होली एवं तीसरे दिन भाई दूज का त्योहार मनाया जाता है।
सौहार्द और भाईचारे का प्रतीक है होली
पंडित राजौरिया ने बताया, जिस किसी को भी मतभेद हो उन्हें दूर करके होली की भस्म का तिलक लगाकर गले मिलना चाहिए। यह त्यौहार सौहार्द एवं भाईचारे का प्रतीक है। होली के दिन अपने जीवन की एक बड़ी बुराई को त्यागना चाहिए। अबीर गुलाल रंगों से शरीर के संक्रामक रोग नष्ट हो जाते हैं।
ये भी करें उपाय
बीमारी से ग्रसित रोगी के सिर से एक मूठी राई को ७ बार होलिका में डालने से अच्छे परिणाम मिलेंगे।
किसी को नजर लगती है या काम में रुकावट आती हो तो वह व्यक्ति सिर से पीली सरसों सात बार कर होलिका दहन में डाल दें।
घर में नकारात्मक माहौल हो तो 5 टिकिया कपूर की सुबह के समय अपने घर में रखें और शाम घर में घुमा कर होलिका दहन में डाल दें।

Mohar Singh Lodhi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned