पत्रिका बिग इश्यू : शहर में बढ़ता अतिक्रमण, सड़क पर जानवर, बेतरतीब पार्किंग ने आवागमन किया मुश्किल

- प्रशासन का लचर रवैया नागरिकों को आज तक नहीं दिला सका सुगम आवागमन
- नानाखेड़ी और गुना-अशोकनगर रोड डेंजर जोन में हुआ तब्दील
-लोडिंग वाहनों की सड़क किनारे पार्किंग ने मार्ग को किया खतरनाक

By: Narendra Kushwah

Published: 11 Sep 2021, 10:55 AM IST

गुना. शहरवासियों की समस्याएं खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं। शहर में बढ़ते जा रहे अतिक्रमण की समस्या से अब तक जनता को निजात नहीं मिल सकी है। ऐसे में आवारा जानवरों के रूप में दूसरी गंभीर समस्या सामने आ चुकी है। जिसका अब तक प्रशासन तोड़ नहीं निकाल सका है। तीसरी समस्या पार्किंग के लिए जगह न मिल पाने की है। जिसे भी प्रशासन अब तक हल नहीं कर सका है। प्रशासनिक अधिकारियों के लचर रवैए के कारण ये सभी समस्याएं कम होने की वजाए लगातार बढ़ती ही जा रही हैं। गौर करने वाली बात है कि जैसे ही कोई त्यौहार आता तो यह समस्याएं और भी ज्यादा गंभीर रूप से सामने आने लगती हैं। ऐसा ही समय अब आ चुका है। सितंबर माह में सबसे पहले इसकी शुरूआत गणेश उत्सव से हुई है। शहर से गुजरे एबी रोड से लेकर प्रमुख मार्ग व बाजार की गली-गली में गणेश प्रतिमाओं की बिक्री की जा रही है। जिन्हें खरीदने श्रद्धालु वाहन सहित पहुंच रहे हैं। त्यौहार को लेकर शहर में ट्रेफिक बढ़ गया है। जिसके कारण प्रमुख मार्ग से लेकर बाजार में जाम की स्थिति निर्मित हो रही है। परेशानी झेलने के बाद नागरिक प्रशासन को कोस रहे हंै। उनका कहना है कि अधिकारियों ने समय-समय पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई क्यों अंजाम नहीं दी, जिससे आज इतना ज्यादा अतिक्रमण बढ़ गया है कि उसे पूरी तरह से हटाना मुश्किल साबित हो रहा है।
जानकारी के मुताबिक प्रशासनिक अधिकारी बीते कई सालों से अतिक्रमण और पार्किंग की समस्या हल करने बैठकें करते आ रहे हैं। जिनमें समस्या दूर करने कार्ययोजना भी बनाई जाती है और दिशा निर्देश भी दिए जाते हैं लेकिन धरातल पर क्रियान्वयन आज तक ठीक ढंग से नहीं हो पाया है। यही वजह है कि इतने सालों में आज तक किसी भी मार्ग पर एक इंच जगह भी अतिक्रमण मुक्त नहीं हो सकी है। इसके उलट प्रशासन के उदासीन रवैए को देखते हुए अतिक्रामकों के मन में यह धारण बन चुकी है कि अधिकारी आते हैं और एक दो दिन ही अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई अंजाम देते हंै, कुछ दिनों बाद सब कुछ फिर से ढर्रे पर आ जाता है। कोई इस ओर ध्यान नहीं देता। इसलिए अतिक्रामकों में कब्जा करने को लेकर डर की वजाए होड़ सी मच गई है। जिसका नतीजा शहर के प्रमुख मार्ग हैं। जो इस समय पूरी तरह से अतिक्रमण के कब्जे में आ चुके हैं।
-


यह मार्ग डेंजर जोन में हुए तब्दील
शहर के बीच से गुजरे दो प्रमुख मार्ग पहला कैंट रोड क्षेत्र का गुना-अशोकनगर रोड व दूसरा नानाखेड़ी मंडी से मारुति शोरूम तक का मार्ग अतिक्रमण के चलते बेहद खतरनाक स्थिति में पहुंचता जा रहा है। दोनों ही मार्गों पर सबसे ज्यादा आवागमन भारी वाहनों का पूरे समय रहता है। रात 10 बजे के बाद तो इन वाहनों की संख्या और अधिक बढ़ जाती है। ऐसे में दो पहिया वाहन चालकों को इस मार्ग पर वाहन चलाना बेहद खतरनाक रहता है। वर्तमान समय में यदि अतिक्रमण की बात की जाए सबसे ज्यादा कैंट व नानाखेड़ी रोड पर ही है। सड़क के दोनों ओर लोगों ने कच्चा व पक्का अतिक्रमण कर अपनी गुमठियां व वाहन रख लिए हैं। जिससे यह मुख्य मार्ग बेहद संकरा होता जा रहा है। ऐसे में वाहन चालकों को इस मार्ग से वाहन निकालने में बहुत दिक्कत आती है। वहीं दुकानदारों ने फुटपाथ पर कब्जा जमा लिया है। जिससे पैदल चलने वालों को जगह नहीं बची है। अब वे सड़क पर ही पैदल चलते हैं तो उन्हें हर समय बड़े वाहनों से एक्सीडेंट का खतरा बना रहता है। उल्लेखनीय है कि इस मार्ग आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं।
-
अस्पताल से लेकर स्कूल तक अतिक्रमण से घिरे
कैंट क्षेत्र में गुना-अशोकनगर मार्ग पर लगातार अतिक्रमण की संख्या बढ़ती जा रही है। इस मार्ग पर स्थित सरकारी स्कूल से लेकर अस्पताल अतिक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। वहीं अशोकनगर की ओर से आने वाले वाहनों की संख्या अधिक होने की वजह से शहर के कैंट रोड पर ट्रैफिक का दबाव पिछले कुछ समय में और ज्यादा बढ़ गया है। सड़क के दोनों ओर बढ़ते जा रहे अस्थायी अतिक्रमण ने इस मार्ग को पहले ही बहुत ज्यादा संकुचित कर दिया है। वहीं वर्तमान में इस सड़क पर आवारा जानवरों के जमघट ने वाहन चलाना बेहद मुश्किल कर दिया है। चालक के समक्ष दोहरी परेशानी रहती है कि वह जानवरों को बचाए या फिर सड़क के साइड में पैदल चल रहे लोगों को।
-
बीच में डिवाइडर, दोनों ओर वाहनों की पार्किंग
नानाखेड़ी मंडी से अंबेडकर चौराहा तक के मार्ग पर भी आवागमन बहुत मुश्किल होता जा रहा है। इसकी मुख्य वजह है सड़क के बीच में डिवाइडर तो वहीं दोनों और वाहनों की पार्किंग। इसके अलावा सड़क किनारे जो हार्डवेयर की दुकानें हैं, वहां बिल्डिंग मटेरियल पूरे समय वाहनों में लोड होता रहता है। इनमें लोहे के सरिए व चद्दर शामिल हैं। जिनकी वजह से सड़क काफी ज्यादा घिर जाती है। ऐसे में बड़े वाहन के निकलने पर गंभीर दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।

Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned