scriptInnovation: One cow will do 30 acres of natural farming | नवाचारः एक गाय से होगी 30 एकड़ में प्राकृतिक खेती | Patrika News

नवाचारः एक गाय से होगी 30 एकड़ में प्राकृतिक खेती

गुजरात के मास्टर ट्रेनर दे रहे हैं किसानों को प्रशिक्षण, प्राकृतिक खेती के लिए सुझाए जा रहे हैं उपाय

गुना

Published: May 21, 2022 06:26:02 pm

गुना. प्राकृतिक कृषि विषय पर एक दिवसीय प्रशिक्षण शुक्रवार को कृषि विज्ञान केन्द्र आरोन में आयोजित हुआ। इसमें जिला स्तरीय एवं विकास खंड स्तरीय मैदानी अमले को प्रशिक्षण गुजरात से आए जिला कृषि अधिकारी पीआर मंडानी ने दी। उन्होंने बताया कि प्राकृतिक खेती बिना रसायनों के उपयोग के करना है।

mp_natural_farming_in_30_acres_with_one_cow.png

अच्छी फसल के लिए गाय की 4-5 दिन पुरानी गोबर, 15 दिन पुराना गौ मूत्र, विभिन्न प्रकार के पौधों की पत्तियों से तैयार अर्क आदि का उपयोग किया जाता है। इससे उत्पादन लागत कम होती है। गौ मूत्र में कीटनाशक के गुण पाए जाते हैं। गाय के 1 ग्राम ताजा गोबर में करोड़ों जीवाणु पाए जाते हैं। नीम की पत्ती में एजाडीरेक्टिन कीटनाशक तत्व पाया जाता है। इसी प्रकार तंबाखू, धतुरा, बेशरम, सीताफल की पत्तियों में कीट नियंत्रण के लिए आवश्यक तत्व पाए जाते हैं। इनसे जैविक कीटनाशक तैयार किए जा सकते हैं। एक गाय से 30 एकड़ की प्राकृतिक खेती संभव है।

शून्य बजट प्राकृतिक खेती में जीवामृत जो कि मिट्टी में सूक्ष्म जीवों और केंचुओं की संख्या में वृद्धि करता है। बीजामृत फंगस और मिट्टी से होने वाली बीमारियों से नई जड़ों की रक्षा करता है। आच्छादन से खरपतवार की वृद्धि को रोकने और नमी बनाए रखने के लिए पौधों को ढंकना। वाफसा में सिंचाई की जरूरत कम होती है। इंटर क्रॉपिंग से एक फसल के साथ दूसरी फसल को उगाया जाता है। मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार, इनपुट लागत में कमी आती है।

एक दिवसीय प्रशिक्षण में कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन, मंडी, आत्मा, कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक एवं कृषकों को मास्टर ट्रेनर ने प्राकृतिक कृषि करने के लिए बीजामृत, जीवामृत, नीमास्त्र, ब्रहमास्त्र, अग्निअस्त्र आदि तैयार करने के लिए प्रायोगिक प्रशिक्षण दिया गया। केंचुए से भूमि का सुधार होता है। केंचुआ जमीन के अंदर रहता है, उसको भोजन मिलेगा तो वह ऊपर आ जाएगा। जीवामृत, घन जीवामृत खेत में डालने के बाद 10 से 12 दिन बाद ऊपर आकर कार्य करने लगते है। केंचुए की विस्टा में 5 गुना नाइट्रोजन, 8 गुना फास्फोरस, 13 गुना पोटाश एवं कई प्रकार के वृद्धि हार्मोन पाए जाते हैं। भारतीय देशी नस्ल की गाय साहिवाल, गिर के गोबर में कई प्रकार के जीवाणु, पोषक तत्व पाए जाते हैं। इससे मिट्टी के स्वास्थ्य में सुधार होता है। एक ग्राम देशी गाय की गोबर में 300 करोड़ से ज्यादा जीवाणु पाए गए हैं। नीमास्त्र का उपयोग रस चूसने वाले कीटों के नियंत्रण के किए किया जाता है। इसका उपयोग 6 माह तक कर सकते हैं। नीमास्त्र तैयार करने के लिए 5 किग्रा नीम के पत्ते, देशी गाय का 5 लीटर गौ मूत्र, देशी का गोबर 1 किग्रा पानी 100 लीटर जरूरी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

पंजाब में शुरु हुई सेहत क्रांति की शुरुआत, 75 'आम आदमी क्लीनिक' बन कर तैयार, देश के 75वें वर्षगांठ पर हो जाएंगे जनता को समर्पितMaharashtra: सीएम शिंदे की ‘मिनी’ टीम में हुआ विभागों का बंटवारा, फडणवीस को मिला गृह और वित्त, जानें किसे मिली क्या जिम्मेदारीलाखों खर्च कर गुजराती युवक ने तिरंगे के रंग में रंगी कार, PM मोदी व अमित शाह से मिलने की इच्छा लिए पहुंचा दिल्लीशेयर मार्केट के बिगबुल राकेश झुनझुनवाला की मौत ऐसे हुई, डॉक्टर ने बताई वजहBJP ने देश विभाजन पर वीडियो जारी कर जवाहर लाल नेहरू पर साधा निशाना, कांग्रेस ने किया पलटवारIndependent Day पर देशभर के 1082 पुलिस जवानों को मिलेगा पदक, सबसे ज्यादा 125 जम्मू कश्मीर पुलिस कोहरियाणा में निकली 6600 फीट लंबी तिरंगा यात्रा, मनाया जा रहा आजादी के अमृत महोत्सव का जश्नIndependence Day 2022: लालकिला छावनी में तब्दील, जमीन से आसमान तक काउंटर-ड्रोन सिस्टम से निगरानी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.