राशन की दुकानों पर लटका ताला, दर दर भटक रहे उपभोक्ता

राशन की दुकानों पर लटका ताला, दर दर भटक रहे उपभोक्ता

Deepesh Tiwari | Updated: 11 Jul 2019, 12:25:57 PM (IST) Guna, Guna, Madhya Pradesh, India

गरीबों के राशन का मामला: दो लाख गरीब परिवार पर खाद्यान्न का संकट, अधिकारी निष्क्रिय...

गुना. जिले के करीब 2 लाख गरीब परिवारों के समक्ष इस बार खाद्यान्न का संकट आ खड़ा हुआ है। क्योंकि महीने की 10 तारीख तक पीडीएस दुकानों पर खाद्यान्न ही नहीं पहुंच सका है। गरीब व जरुरतमंद उपभोक्ता आए दिन कंट्रोल की दुकान पर चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उन्हें हर दिन दुकान बंद ही मिल रही है।

वहीं इस अव्यवस्था को लेकर सेल्समेनों का कहना है कि जब उन्हें खाद्यान्न ही नहीं मिला है तो वे दुकान खोलकर क्या करेंगे। यदि वे दुकान खोलते भी हैं तो उन्हें उपभोक्ताओं के गुस्से का शिकार होना पड़ता है।

वहीं इस मामले को खाद्य अधिकारी आगामी एक दो दिन में व्यवस्था ठीक होने की बात कह रहे हैं। जिला खाद्य विभाग के अनुसार इस बार शासन ने काफी सख्ती बढ़ा दी है। जिसके तहत शत प्रतिशत उपभोक्ताओं को पीओएस मशीन के माध्यम से ही राशन बांटा जाएगा। लेकिन परेशानी दोनो तरफ है।

एक ओर जहां प्रशासन जिले की कुल 363 पीडीएस दुकानों में से अभी तक 200 पर ही पीओएस मशीन चालू होना बता रहा है। लेकिन इसकी जमीनी हकीकत कुछ और है। वहीं ऐसे उपभोक्ताओं की संख्या भी ज्यादा है जिनके अभी तक आधार नहीं बन सके हैं तो कुछ के में त्रुटि बनी हुई है। ऐसे उपभोक्ता राशन से वंचित हो जाएंगे।

खाद्यान्न आवंटन में यह आ रही परेशानी
उपभोक्ताओं ने बताया कि उन्हें अब तक राशन नहीं मिला है। वे जब भी राशन की दुकान पर जाते हैं तो वह बंद मिलती है। इस शिकायत की जब पड़ताल की गई तो सामने आया कि अभी तक खाद्य आपूर्ति निगम द्वारा खाद्यान्न का आवंटन पीडीएस दुकानों पर ही नहीं हो सका है।

इसके पीछे का कारण टैंडर रेट को लेकर विवाद बताया गया। कुल मिलाकर सरकारी प्रक्रिया की उलझन में लाखों गरीब उपभोक्ताओं को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

शासन के आदेश को दिखा रहे ठेंगा
शासन के स्पष्ट निर्देश हैं कि सभी पीडीएस दुकानें सप्ताह में 6 दिन खुलना अनिवार्य है। लेकिन इसका पालन धरातल पर नहीं हो रहा है। न ही आदेश का पालन कराने के प्रति विभाग के अधिकारी गंभीर हैं। पत्रिका ने बुधवार को शहर के विभिन्न इलाकों में स्थित पीडीएस दुकानों का जायजा लिया।

इस दौरान शहर के रेलवे स्टेशन मार्ग पर स्थित लघु वनोपज सहकारी समिति गुना ग्रामीण की दुकान 11: 53 बजे बंद मिली। 12:03 बजे घोसीपुरा स्थित सुविधा प्राथमिक सहकारी उपभोक्ता भंडार मर्यादित पर ताला लगा मिला।

इस दुकान के जरिए वार्ड 25 एवं 27 के उपभोक्ताओं को राशन दिया जाता है। 12:09 बजे वार्ड क्रमांक 12 की दुर्गा प्राथमिक महिला उपभोक्ता सहकारी भंडार मर्यादित गुना बंद मिली। जबकि दुकान के बोर्ड पर दुकान खुलने का समय सुबह 9 से 1 बजे तक तथा दोपहर 3 से शाम 7 बजे तक लिखा हुआ है।

इसी तरह 12:50 पर वार्ड क्रमांक 2 स्थित राजीव गांधी प्रा. सहा. उप. भंडार भी बंद मिली। यहां बता दें कि नियमित दुकानें न खुलने से उपभोक्ताओं को खाद्यान्न से संबंधित जानकारी नहीं मिल पा रही है। इससे उपभोक्ता परेशान हो रहे हैं।

हमें उधार लेना पड़ रहा राशन
महीने की 10 तारीख भी गुजर गई लेकिन अभी तक कंट्रोल की दुकान से राशन नहीं मिला है। बच्चे हर दिन दुकान पर जाते हैं तो बंद ही मिलती है। कोई बताने वाला नहीं है कि आखिर कब तक राशन मिलेगा। बच्चों का पेट पालन है , उधार राशन लेना पड़ रहा है।
- मेवाबाई, उपभोक्ता घोसीपुरा

 

फैक्ट फाइल -
@ 1.95 लाख : जिले में कुल गरीब परिवार
@ 343 : जिले में कुल सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानें
@ 20 और 35 किलो : प्रति राशन कार्ड अनाज, 4 लीटर केरोसिन मिलता है ।

 

यह बोले जिम्मेदार
हां अभी तक जिले की किसी भी पीडीएस दुकानों पर खाद्यान्न का आवंटन नहीं हो सका है। जिसके कारण उपभोक्ताओं को राशन देने में परेशानी आ रही है। हम व्यवस्था बनाने में लगे हुए हैं। आगामी एक दो दिन में सब कुछ ठीक हो जाएगा। मैं ज्यादा कुछ कहने की स्थिति में नहीं हूं।
- ज्योति बघेल, जिला खाद्य अधिकारी गुना

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned