दस लाख के शव वाहन तो खरीदे अफसरों ने नहीं कराया रजिस्ट्रेशन,लगी दस लाख की चपत


-मानस भवन मांगता रहा वाहन के दस्तावेज, उपलब्ध नहीं करा पाए नपा के अफसर
-दो साल बाद मानस भवन ने वापस कर दिए वाहन, स्वयं खरीदेगा शव वाहन,फिलहाल बनी लोगों के लिए परेशानी

By: praveen mishra

Published: 03 Apr 2021, 12:14 AM IST

गुना। गुना नगर पालिका में वाहनों की संख्या तो आधा सैकड़ा से अधिक है, लेकिन रजिस्ट्रेशन बमुश्किल आठ-दस वाहनों का भी नहीं हैं। ऐसा ही एक मामला हाल ही में दस लाख रुपए की लागत से खरीदे गए शव वाहनों के रूप में देखने को आया है, जिनको खरीदा, लेकिन तत्कालीन सीएमओ और संबंधित अधिकारियों ने उन वाहनों का निर्धारित अवधि में रजिस्ट्रेशन आरटीओ कार्यालय में मुनासिब नहीं समझा।अब ऐसे वाहनों के प्रचलन में न रहने पर रजिस्ट्रेशन करने पर परिवहन विभाग ने रोक लगा दी है। रजिस्ट्रेशन न होने से इन वाहनों की खरीदी पर खर्च किए गए लगभग बारह लाख रुपए डूबत खाते में चले गए हैं। उधर दो शव वाहनों के नगर पालिका परिसर में खड़े रह जाने से दाह संस्कार के लिए बाहर ले जाने शव वाहन नहीं मिल पाएंगे।
ये है मामला
सूत्रों ने बताया कि तीन-चार वर्ष पूर्व तत्कालीन नगर पालिका परिषद की राजेन्द्र सलूजा की अध्यक्षता में हुई बैठक में दो शव वाहन शहर की जरूरत अनुसार खरीदने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी गई थी। इन दोनों शव वाहनों को खरीदने के लिए लगभग बारह लाख रुपए मंजूर हुए थे। तत्कालीन सीएमओ पीएस बुन्देला और संबंधित अधिकारियों ने कागजी कार्रवाई पूरी करने के बाद दो शव वाहन खरीदे थे। नियमानुसार इन वाहनों का रजिस्ट्रेशन आरटीओ कार्यालय में तत्काल होना था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बाद में यह वाहन संचालन के लिए मानस भवन समिति को सौंप दिए थे।
कई बार मांगे दस्तावेज
बताया गया कि मानस भवन संचालन समिति ने इन शव वाहनों को नगर निगम द्वारा सौंपे जाने के बाद अपने स्तर पर चालक को रखा, एवं इन शव वाहनों को बाहर भी भेजा जाने लगा। कई बार शहर से बाहर वाहन के रोके जाने पर रजिस्ट्रेशन आदि की तत्कालीन चालकों को परेशानी हुई, उन्होंने अपनी परेशानी संचालन समिति को बताई। इसके बाद मानस भवन संचालन समिति तत्कालीन सीएमओ और संबंधित अधिकारियों से रजिस्ट्रेशन की कांपी मांगती रही, लेकिन वह अभी तक नहीं मिली। रजिस्ट्रेशन न मिलने से हमें परेशानी आती थी, जिसको देखकर हमने उनके शव वाहन वापस कर दिए और हमारी समिति ने कलेक्टर की अध्यक्षता में निर्णय लिया है कि नया शव वाहन जल्द खरीदेंगे।
नहीं मिलने पर वापस कर दिए शव वाहन:विजयवर्गीय
मानस भवन संचालन समिति के सचिव हरिशंकर विजयवर्गीय ने बताया कि नगर पालिका ने हमको संचालन के लिए दो एम्बुलेंस दी थी। इसके संचालन में रजिस्ट्रेशन न होने से परेशानी आ रही थी, इसको लेकर हमने कई बार नगर पालिका के सीएमओ और अन्य अधिकारियों से बात की, लेकिन किसी ने रजिस्ट्रेशन उपलब्ध नहीं कराया हमने आखिर में वह शव वाहन नगर पालिका को सौंप दिए।
अब नहीं हो पा रहा रजिस्ट्रेशन: यादव
नगर पालिका के सीएमओ तेजसिंह यादव ने शव वाहनों को लेकर पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि उस समय जो सीएमओ रहे उन्होंने शव वाहनों के रजिस्ट्रेशन क्यों नहीं कराए। अब इन शव वाहनों के रजिस्ट्रेशन को लेकर आरटीओ से बात की गई तो उन्होंने ऐसे वाहनों पर अब रजिस्ट्रेशन न होने की बात कही। उन्होंने कहा कि वे वाहन अब बाहर भी नहीं भेजे जा सकते हैं। फिलहाल तो हमने खड़े करवा दिए हैं।
इनका कहना है
- नगर पालिका का पैसा खर्च करके दो शव वाहन खरीदना, फिर उसका रजिस्ट्रेशन न कराना गंभीर है, इस मामले को दिखवाएंगे, जो भी दोषी होगा, उसके विरुद्ध हम कार्रवाई भी करेंगे।
कुमार पुरुषोत्तम प्रशासक नगर पालिका गुना

praveen mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned