सीएम के आदेश से खुशी, अब गुना में भी हो सकेंगीं घरों में ही शादियां

- शादी वाले बोले, पहले तो हमने कैंसिल करने की सोच ही ली थी
बैंड और डीजे को नहीं मिली अनुमति

By: praveen mishra

Updated: 23 Apr 2021, 01:15 AM IST

गुना। हमारा इकलौता बेटा है, जो दिल्ली में नौकरी करता है, हमने उसके बड़े होने और नौकरी लगने के बाद ग्वालियर में संबंध किया। 25 अप्रैल को गुना के ही एबी रोड स्थित एक मैरिज गार्डन में शादी की तैयारी थी। रिश्तेदारों को शादी के कार्ड भिजवा दिए।हमने सोचा था कि बारात में हम डांस करेंगे, रात भर धमाल करेंगे, मेहमानों के साथ मिलकर जमकर खुशी मनाएंगे। इसी बीच कोरोना कफ्र्यू के तहत आदेश में गुना में शादियों पर रोक लग गई। हमने सोच लिया था कि अब शादी ही कैंसिल कर लेते हैं। इससे पहले सीएम साहब ने कोरोना गाइड लाइन से शादियों को कराने का आदेश दे दिया। इस आदेश से हमें बहुत खुशी है। अब हम अपने बेटे की शादी घर में तो कर लेंगे। यह कहना था कैंट क्षेत्र में रहने वाले एक रघुवंशी परिवार का।
ऐसी स्थिति केवल इसी एक परिवार की नहीं है बल्कि गुना शहर और ग्रामीण क्षेत्र के लगभग सौ लोग हैं, जिनके बेटे और बेटी की शादियां 22 अप्रैल से लेकर तीस अप्रैल के बीच होना तय हुई थीं। इन सभी लोगों में सीएम के आदेश के बाद खुशी है कि अब शादी कैंसिल तो नहीं करना पड़ेगी। कोविड गाइड लाइन के तहत हम खुशियों के साथ शादी तो घर में कर सकेंगे।
उल्लेखनीय है कि दो दिन पूर्व कोरोना कफ्र्यू को 26 अप्रैल तक बढ़ाने के आदेश के तहत कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने गुना में मैरिज गार्डन, सार्वजनिक स्थल, धर्मशाला और होटल में होने वाली शादियों पर पूरी तरह से रोक लगा दी थी। उन्होंने शादियों वालों से आग्रह किया था कि वे अपने यहां होने वाली शादी की तिथि को आगे बढ़ा दें अति आवश्यक है तो अपने घर में ही शादी की रस्म अदा करें। सार्वजनिक स्थल या होटलों में शादी के कार्यक्रम होते दिखे तो उनके खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कराई जाएगी। इस आदेश के बाद जिनके परिवार में शादियां थीं वे संकट में आ गए थे। दो दिन पूर्व ही गुना में शादी से पूर्व सगाई कार्यक्रम में कोविड गाइड लाइन का पालन न करने पर दो लोगों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया था।
-
ये है कोविड गाइड लाइन
कोविड गाइड लाइन के तहत गुना में घर में जो भी शादियां होंगी, उनमेंं सीमित लोगों को ही शामिल करना होगा। बैंड बाजों के साथ सड़क पर बारात नहीं निकल सकेगी। मैरिज गार्डन, होटल में शादी के दौरान डीजे बजने की अनुमति नहीं होगी। सड़क पर पार्किंग नहीं होगी। सभी को मास्क लगाकर रखना होगा, सीएम के आदेशानुसार मैरिज गार्डनों में शादियां नहीं हो पाएंगी।
ये कहते हैं मैरिज गार्डन के संचालक
एबी रोड स्थित एक मैरिज गार्डन के संचालक ने पत्रिका को बताया कि हम तो एक साल में बर्बाद हो गए। न तो पिछले वर्ष एक भी शादियां हो पाईं और न ही अभी। अप्रैल में दो बुकिंग थीं सो कोरोना कफ्र्यू ने उन पर रोक सी लगवा दी। हम लोगोंं ने मांग की थी कि संख्या कम निर्धारित कर दी जाए। जिसके बाद 50 लोगों की संख्या निर्धारित हो गई थी। सीएम के वर्तमान आदेश से शादी वालों को तो राहत मिलेगी लेकिन हमें इसका कोई लाभ नहीं है। एक मैरिज गार्डन से कई लोगों की रोजी-रोटी चलती है।
फिर करेंगे कोई धंधा
शहर के एक नामी-गिरामी बैंड पर काम करने वाले कन्हैया ने बताया कि पिछली साल शादियों का सीजन आया। हमने सोचा कि कुछ कमा लेंगे। साल में चार-पांच महीने ही कमाने का सीजन आता है, जिसको हम लोग साल भर बैठकर खाते हैं। पिछली साल तो पूरी कोरोना लील गई, जिसमें हम कहीं बैंड बजाने नहीं गए। उसका कहना था कि मैंने तो पिछले अगस्त-सितम्बर में सब्जी का ठेला लगाकर अपने परिवार का भरण-पोषण किया था। हमने अनुमति मांगी है कि हमें विवाह घर या मैरिज गार्डन के अंदर ही बैंड बाजे बजाने की अनुमति मिल जाए। उसका कहना था कि शादियों में हलवाई, कैटरिंग, डीजे वालों को रोजगार मिलता है, इस बार तो न के बराबर रोजगार मिल पा रहा है।

praveen mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned