शायर मुनब्बर राणा के महर्षि वाल्मीकि को लेकर बिगड़े बोल

आक्रोशित वाल्मीकि समाज ने भाजपा अजा मोर्चा के प्रदेश मंत्री मालवीय के नेतृत्व में एफआईआर कराने सिटी कोतवाली में दिया आवेदन

By: Narendra Kushwah

Published: 21 Aug 2021, 10:02 PM IST

गुना। पहले तालिबान से सहानुभूति फिर तालिबान की तुलना महर्षि वाल्मीकि से करने पर शायर मुनब्बर राणा के खिलाफ जिलेभर में वाल्मीकि समाज सहित विभिन्न संगठनों में आक्रोश है। गुस्साए वाल्मीकि समाज गुना द्वारा शनिवार को राणा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस मौके पर वाल्मीकि समाज के वरिष्ठ सदस्य एवं भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश मंत्री सुनील मालवीय के नेतृत्व में एक ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम जिला प्रशासन को सांैपा। वहीं धार्मिक भावनाएं भड़काने के मामले में सिटी कोतवाली में भी आवेदन देकर एफआईआर की मांग की। इस मौके पर मालवीय के साथ पूर्व विधायक एवं नपाध्यक्ष राजेन्द्र सिंह सलूजा, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष राधेश्याम पारिख सहित बड़ी संख्या में वाल्मिकी समाज के सदस्य एवं भाजपाजन उपस्थित थे।
गौरतलब है कि शायर मुनव्वर राणा ने भगवान वाल्मीकि की तुलना तालिबानियों से की है। मीडिया को दिए बयान में मुनव्वर राणा ने कहा कि तालिबान भी 10 साल बाद वाल्मीकि होंगे। राणा ने कहा कि वाल्मीकि एक लेखक थे। हिंदू धर्म में तो किसी को भी भगवान कह देते हैं।
सुनील मालवीय ने बताया कि यह हिंदू आस्था व दलितों का अपमान है। महर्षि वाल्मीकि न केवल पवित्र ग्रंथ रामायण के रचनाकार थे बल्कि उन्हें हम भगवान मानकर पूजा करते हैं। मालवीय के अनुसार राणा ने यह टिप्पणी कर हिंदू धर्म पर हमला नहीं बोला है बल्कि दलित समाज, वाल्मीकि के अनुयायियों और भगवान वाल्मीकि के खिलाफ विष वमन किया है।
ज्ञापन में वाल्मीकि समाज ने कहा कि मुनब्बर की भद्दी टिप्पणी से हमारी आस्था को चोट पहुंची है। उन्होंने महर्षि वाल्मीकि के करोड़ों अनुयायियों की आस्था पर हमला किया है। इसलिए राणा के खिलाफ धार्मिक आस्था पर भद्दी टिप्पणी करने एवं अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण के तहत मुकदमा दर्ज करने की मांग की।
इस अवसर पर मालवीय के अलावा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य राधेश्याम पारीक, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राजेंद्र सिंह सलूजा, महेश पारोचिया, रवि मालवीय, विशाल मालवीय, महेंद्र बिलारवान, तरुण मालवीय, बसंत धौलपुरिया, रघुवीर करोसिया, सत्यनारायण बिलारवान, नीरज राजोरिया, संजू बिलारवान, मनीष मालवीय, अनिल धौलपुरिया, करण मालवीय, सचिन मालवीय, नीरज बिलारवान, नरेंद्र थनवार, पवन, भगवान बाल्मीकि, सतीश लोहट एवं समाज के महिला एवं पुरुष शामिल थे।

Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned