scriptRussia-Ukraine World War: Papa, now we have left the dangerous zone | रुस-यूक्रेन महायुद्ध : पापा अब हम खतरनाक जोन से निकल चुके हैं | Patrika News

रुस-यूक्रेन महायुद्ध : पापा अब हम खतरनाक जोन से निकल चुके हैं

हंगरी बुड़ापेस्ट एयरपोर्ट से छात्रों ने परिजनों को दी सूचना, तब जाकर राहत की सांस ली

गुना

Updated: March 04, 2022 12:41:04 pm

गुना/राघौगढ़ . यूक्रेन-रूस के बीच चल रहे भीषण युद्ध में धमाकों से निकलकर भारतीय छात्रों की टीम के साथ राघौगढ़-आरोन के दोनों छात्र हंगरी एयरपोर्ट से विषेष विमान द्वारा बुधवार शाम 7 बजे दिल्ली पंहुचे। इस दौरान यूक्रेन से दिल्ली पहुंचे भारतीय छात्र मध्यप्रदेश भवन में ठहरने के बाद कुलदीप धाकड़ और अनिल धाकड़ गुरूवार को पूर्व केबिनेट मंत्री विधायक जयवर्धन सिंह के साथ भोपाल पंहुचे और शुक्रवार को अपने घर पहुंच जाएंगे। इस बीच यूक्रेन के खतरनाक जोन से निकलकर सुरक्षित पंहुचने की खबर के बाद परिजनों ने राहत की सांस ली। इससे पहले पूरे समय
जिले के कलेक्टर, एसपी और राघौगढ़ नगर निरीक्षक लगातार बच्चों की लोकेशन लेते रहे।
गौरतलब है कि रूस और यूक्रेन के बीच हो रहे युद्ध के दौरान यूक्रेन ओडिसा में एम.बी.बी.एस. की पढ़ाई कर रहे राघौगढ़ के बड़ा आमल्या निवासी शैतानसिंह धाकड़ के पुत्र कुलदीप और आरोन के पारूआ निवासी घांसीराम के पुत्र अनिल यूक्रेन में फंसे हुए थे । लेकिन बमों के धमाकों और फायरिंग की दहशत में दोनों छात्र 300 भारतीय छात्रों की टीम के साथ 24 से 28 फरवरी तक सीमाओं तक भटकते रहे। जब 18 घण्टे बाद हंगरी बुड़ापेस्ट एयरपोर्ट पर पंहुचने के बाद भारतीय छात्रों ने राहत की सांस ली। ऐसे हालातों की जानकारी कुलदीप धाकड़ ने दिल्ली में पंहुचने के बाद फोन पर बात करते हुए बयां की। इसके पूर्व कुलदीप और अनिल ने अपने परिजनो को हंगरी बुड़ापेस्ट एयरपोर्ट से परिजनों को सूचना दी थी कि ÓÓ पापा अब हम खतरनाक जोन से निकल चुके है ।
कुलदीप धाकड़ ने फोन पर बताया कि यूक्रेन के हालात इतने खतरनाक हंै कि वहां जान बचाने के लाले पड़े हुए हंै लेकिन हम फायरिंग और धमाकों के साए तीन सीमाओं में जीरो डिग्री तापमान में भटकते रहे। बाद मेें 18 घण्टे भटकने के बाद हंगरी बुड़ापेस्ट एयरपोर्ट तक पंहुचे। उन्होंने बताया कि हमें भारतीय होने का गर्व इसलिए है कि जब हम तिरंगा लेकर भटक रहे थे जब यूक्रेन-रूस दोनों देशों के सैनिकों ने अभद्र व्यवहार से तो नही किया लेकिन सही दिशा भी नहीं बताई कि हम हमें किस ठिकाने से भारत पंहुचना है। दोनों छात्रों ने राहत की सांस लेते हुए कहा कि अब हम पूर्व केबिनेट मंत्री विधायक जयवर्धन सिंह के साथ दिल्ली से प्लेन द्वारा भोपाल पंहुच रहे है।
photo1646319967_1.jpg
gn040330_1.jpg

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.