जर्जर मार्गों ने मुश्किल की राह

जिला मुख्यालय पर कई रास्ते ऐसे हैं, जहां से गुजरने में लोगों को समस्या का सामना करना पड़ता है। पत्रिका ने शहर की कुछ प्रमुख घनी आबादी वाली बस्तियों का जायजा लिया तो पता चला कि कई स्थानों पर अपनी सुविधा के लिए सभी राहगीरों को निकलने में परेशानी खड़ी कर दी है

By: brajesh tiwari

Published: 18 Dec 2018, 07:16 PM IST

गुना. शहर के मुख्य मार्गों पर ही यातायात की हालत खराब नहीं है, बल्कि गलियों से भी निकलना दूभर हो गया है। कहीं निर्माण सामग्री ने चौड़े रास्तों को संकरा कर दिया तो कहीं डामर रोड से झांकती गिट्टी ने यहां से गुजरने वालों की राह मुश्किल बना दी है। जिला मुख्यालय पर कई रास्ते ऐसे हैं, जहां से गुजरने में लोगों को समस्या का सामना करना पड़ता है। पत्रिका ने शहर की कुछ प्रमुख घनी आबादी वाली बस्तियों का जायजा लिया तो पता चला कि कई स्थानों पर अपनी सुविधा के लिए सभी राहगीरों को निकलने में परेशानी खड़ी कर दी है। दरअसल, रोजाना कहीं न कहीं शहर में किसी न किसी भवन का निर्माण कार्य जारी है। ऐसे में लोग निर्माण के दौरान तो सामग्री सड़क पर रखते ही हैं, लेकिन निर्माण खत्म होने के बाद भी बची हुई सामग्री सड़क पर छोड़ दी जाती है, जिससे रास्ता संकरा हो जाता है। इस मामले में न तो नगरपालिका और न ही यातायात पुलिस कार्रवाई करती है, इनका ध्यान केवल हाइवे और प्रमुख चौराहों तक सिमट गया है।


स्कूली बच्चे भी परेशान, दुर्घटना की बनी रहती है आशंका
शहर के प्रताप छात्रावास रोड पर भसुआ और भवन निर्माण सामग्री का कारोबार लंबे समय से किया जा रहा है। हालांकि विक्रेताओं ने रास्ते पर सामग्री डालने का सिलसिला कम कर दिया है। लेकिन स्थानीय लोग खुद समस्या उत्पन्न कर रहे हैं। मुख्य डाकघर के सामने एक घर के सामने निर्माण सामग्री पटकी हुई है। इस मार्ग पर कर्नलगंज, शिवाजी नगर, कोल्हुपुरा सहित विभिन्न मार्गों तक पहुंचा जाता है। यहां से बड़ी संख्या में लोगों का आना-जाना लगा रहता है। इतना ही नहीं एक स्कूल भी इस मार्ग पर स्थित है। सड़क पर निर्माण सामग्री डली होने से स्थानीय नागरिकों के लिए अलावा स्कूली बच्चों को भी परेशानी होती है।


एबी रोड पर भी होती है परेशानी
शहर के अंदरूनी हिस्सों के अलावा एबी रोड पर भी परेशानी हो रही है। निर्माण कार्यों की होड़ के चलते यहां भी राहगीर परेशान हैं। राधा कालोनी में बन रहे एक भवन निर्माण के लिए प्लाट मालिक ने तलघर का निर्माण शुरु किया तो तलघर खुदवाकर खुला छोड़ दिया। हालांकि इसके चारों तरफ हरे रंग की जाली लगा दी है। लेकिन मवेशियों के दुर्घटनाग्रस्त होने की आशंका यहां बनी हुई है। यहां बड़ी दुर्घटना भी हो सकती है।

Show More
brajesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned