अस्पताल के सभी सफाई कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर, सभी वार्डों में बिखरा पड़ा कचरा

सफाई व्यवस्था चरमराई, वार्डों से नहीं उठा कचरा
अस्पताल प्रबंधन ने नपा से मांगी मदद
दिन भर वैकल्पिक व्यवस्था जुटाने में लगे रहे अधिकारी

By: Narendra Kushwah

Published: 05 Sep 2019, 01:03 PM IST

गुना। जिला अस्पताल के सभी सफाई कर्मचारी बुधवार सुबह अचानक से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। जिससे पूरे अस्पताल की सफाई व्यवस्था बुरी तरह से चरमरा गई। सभी वार्डों में जहां तहां कचरा बिखरा पड़ा रहा। डस्टबिन कचरे से भरे रहे। वहीं दूसरी ओर अस्पताल प्रबंधन वार्डों में सफाई करवाने वैकल्पिक व्यवस्था में जुटा रहा। यही नहीं अधिकारियों ने नपा से भी मदद मांगी है। उल्लेखनीय है सफाई कर्मियों की मांग थी कि उन्हें न तो कलेक्टर रेट पर वेतन दिया जा रहा है और न ही सफाई करने के लिए जरूरी सामान उपलब्ध कराया जाता है।

 

अस्पताल से मिली जानकारी के मुताबिक जिला अस्पताल में कुल 59 सफाईकर्मी तैनात हैं। जिन्हें रोगी कल्याण समिति के तहत रखा गया है। सफाई कर्मियों का कहना है कि वे पिछले लंबे समय से अस्पताल प्रबंधन से मांग कर रहे हैं कि उन्हें कलेक्टर रेट पर वेतन दिया जाए तथा सफाई के लिए जरूरी सामान भी उपलब्ध कराया जाए।


उनकी एक भी मांग नहीं मानी गई
सफाईकर्मियों का कहना है कि आज तक उनकी एक भी मांग नहीं मानी गई है। जबकि वे कई बार लिखित रूप में न सिर्फ सिविल सर्जन बल्कि कलेक्टर से लेकर स्वास्थ्य मंत्री तक को ज्ञापन सौंप चुके हैं। लेकिन फिर भी उनकी जायज मांगों को लगातार अनदेखा किया जा रहा है। इसी से परेशान होकर आज सभी सफाईकर्मी एकजुट हुए और मांगें न मानने तक हड़ताल पर रहने का फैसला किया। इसी के तहत बुधवार सुबह अस्पताल प्रबंधन को जानकारी देकर सभी सफाईकर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए।

गुना अस्पताल के 59 सफाईकर्मी अचानक गए हड़ताल पर

 

सफाईकर्मी रखने में भी गड़बड़झाला
हड़ताली सफाईकर्मचारियों ने अस्पताल प्रबंधन पर आरोप लगाया है कि रजिस्टर में तो कुल 59 सफाई कर्मी दर्ज हैं। इनमें 50 वाल्मीक समाज के हैं जबकि शेष 9 अन्य समाज के हैं। जिन्हें आज तक अस्पताल में सफाई करते हुए उन्होंने नहीं देखा है। कर्मचारियों ने बताया कि उन्हें इस समय 4 हजार रुपए वेतन दिया जा रहा है लेकिन काम 8 घंटे लिया जा रहा है। जबकि सभी सफाईकर्मियों को कलेक्टर रेट पर 7 हजार 700 रुपए वेतन मिलना चाहिए।


जहां था वहीं पड़ा रहा कचरा
अचानक से सफाईकर्मियों के हड़ताल पर चले जाने से अस्पताल के विभिन्न वार्डों की सफाई व्यवस्था बुरी तरह से चरमरा गई। हालात यह बने कि वार्डों में सुबह के समय जो कचरा जहां डला था वह शाम तक उसी स्थान पर पड़ा रहा। कचरे व गंदगी से डस्टबिन भरे पडे रहे। इंजेक्शन की नीडिल से लेकर बॉटल, गंदे चादर भी वार्डों में वहीं पड़े रहे। गंदगी से भरे डस्टबिन खाली न होने से पूरे वार्डों में दुर्गंध आती रही। वहीं दूसरी ओर अस्पताल के व्यवथापक दिन भर वैकल्पिक इंतजाम जुटाने में लगे रहे।


यह बोले जिम्मेदार
जिला अस्पताल के सभी सफाईकर्मी आज अचानक से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। वेतन संबंधी उनकी जो भी मांगें हैं उनसे हम कलेक्टर साहब को अवगत करा चुके हैं। सीएस के आदेश पर हड़ताली कर्मचारियों की आज अनुपस्थिति दर्ज की गई है।
डॉ शिल्पा टांटिया, प्रबंधक जिला अस्पताल गुना


सफाईकर्मियों के अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के बाद हमने नगर पालिका सीएमओ से बात की है। वे हमें सफाईकर्मी उपलब्ध कराएंगे। इसके अलावा जो भी सफाईकर्मी काम करना चाहेगा उसे भी हम रख लेंगे।
डॉ एसके श्रीवास्तव, सीएस


हमारे पास सफाईकर्मियों की कमी है
हां सीएस साहब के कहने पर आज तो हमने व्यवस्था कर दी है लेकिन आगे हम यह सेवाएं नहीं दे पाएंगे। क्योंकि हमारे पास पहले ही सफाईकर्मियों की बहुत कमी है।
संजय श्रीवास्तव, सीएमओ नगर पालिका गुना

Show More
Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned