अस्पताल पहुंचे कलेक्टर ने चखा खाना, मिर्ची तेज लगी तो सिविल सर्जन ने दी सफाई, यहां पर थोड़ा मिर्ची ज्यादा का चलन

  • कलेक्टर ने कहा, सीसीटीव्ही कैमरे के पूरे 40 लोकेशन चालू रहें
  • ओटी, सर्जिकल, ट्रामा सेंटर, पैथोलॉजी लैब, दवा वितरण केंद्र, स्टोर रूम, किचिन, मॉड्यूलर ओटी का निरीक्षण किया

By: Narendra Kushwah

Published: 11 Sep 2021, 09:51 PM IST

गुना। कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए ने जिला चिकित्सालय गुना का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने ओटी, सर्जिकल वार्ड, जनरल वार्ड, ट्रामा सेंटर, पैथोलॉजी लैब, दवा वितरण केंद्र, स्टोर रूम, किचिन, मॉड्यूलर ओटी, ऑक्सीजन प्लांट, सीसीटीव्ही कैमरा आदि का सघन निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने निर्देश दिए कि सभी व्यवस्थाएं दुरूस्त हो। सीसीटीव्ही कैमरे के पूरे 40 लोकेशन चालू रहें। एक स्थान से इनकी मॉनिटरिंग हो। इसी प्रकार ऑक्सीजन प्लांट के लिए स्पेशल केबल आ चुकी है। आज शाम तक बिजली कनेक्शन शुरू करें। इस दौरान सिविल सर्जन एचव्ही जैन, डॉ. अनिल विजयवर्गीय, डॉ. भोला आदि उपस्थित रहे। इस मौके पर कलेक्टर ने मॉड्यूलर ओटी का निरीक्षण किया। काम शीघ्र पूरा करने के कार्यपालन यंत्री को निर्देश दिए। जिला चिकित्सालय में दो मायनर, दो मेजर, चार ओटी निर्माणाधीन है। किचिन का निरीक्षण कर खाना चखकर देखा। मिर्ची तेज होने पर उन्होंने बताया जिस पर सिविल सर्जन ने कहा कि यहां पर थोड़ा मिर्ची ज्यादा का चलन है। उन्होंने मीनू के बोर्ड वार्डो में लगाने के निर्देश दिए।
कलेक्टर ने सर्वप्रथम ओपीडी के लिए पर्चे बनाने वाले काउंटर को देखा। उन्होंने सभी चार काउंटर नियमित रूप से चालू रहने के सख्त निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मरीजों को पर्चे बनवाने में कोई दिक्कत न आये, इस बात का ध्यान रखें। कलेक्टर विभिन्न वार्डो में पहुंचे, जहां उन्होंने मरीजों से बात की। ट्रामा सेंटर में भर्ती रतबाड़ा बमोरी के राधाकिशन बारेला ने बताया कि उन्हें बिजली का करंट लग गया था। वह पांच दिन से उपचार करा रहे हैं। कलेक्टर ने उनसे नियमित रूप से मिलने तथा भोजन के मीनू के बारे में जानकारी ली। राधाकिशन ने बताया कि उन्हें सुबह नाश्ता, दोपहर का भोजन और शाम को भी भोजन मिल रहा है।
यह दिये प्रमुख निर्देश
इस मौके पर कलेक्टर ने सीटी स्केन सेंटर का निरीक्षण किया। बताया गया कि 363 मरीजों का सीटी स्केन पूर्व में तथा 17 का अभी हो चुका है। कलेक्टर ने नियमित रूप से सीटी स्केन संचालन के निर्देश दिए। ट्रामा सेंटर के निरीक्षण के उपरांत स्टॉफ नर्सो से बात की। 46 मरीज होना बताये गये। कलेक्टर ने मरीज की केस सीट का अवलोकन किया। वहीं मेडीसिन डिस्ट्रीब्यूटशन सेंटर के निरीक्षण के दौरान मेडिसिन वितरण की जानकारी ली। उन्होंने दवाओं की आपूर्ति बनाने के लिए सजग रहने के निर्देश दिए। इस मौके पर नरेन्द्र नामदेव ने उनके बच्चे के कान में मशीन लगवाने की बात करते हुए बताया कि बच्चा जन्म से बहरा है। खोपड़ी के अंदर मशीन लगी है। बाहर का सिस्टम खराब हो जाता है, जिस पर 30 से 35 हजार रुपए का खर्च आता है। कलेक्टर ने व्यवस्था बनवाने का आश्वाोसन दिया। कलेक्टर ने स्टोर का निरीक्षण कर निर्देश दिए कि कोरोना की तीसरी लहर के हिसाब से दवाओं का भण्डार करें। दवाओं की एक्सपायरी का विशेष ध्यान रखें।
बीस उप स्वास्थ्य केंद्रों के लिए आवंटित होगी जमीन
इस मौके पर पैथोलॉजी लैब के निरीक्षण के दौरान अत्याधुनिक मशीनों का निरीक्षण किया। ऑपरेटर से पूछताछ की। विभिन्न प्रकार की जांचों के बारे में जानकारी ली। जिसमें सभी प्रकार की जांचें होना बताया गया। स्वास्थ्य विभाग के उपयंत्री विनोद सुनहरे ने बीस उप स्वास्थ्य केंद्रों के लिए भूमि आवंटित होने की बात बतायी। जिसके संबंध में कलेक्टर ने उचित आश्वासन दिया। कलेक्टर ने चिकित्सालय में निकलने वाले लिक्विड मटेरियल के डिस्पोजल के लिए तैयार हो रहे ईटीपी सेंटर के काम को देखा। उन्होंने शीघ्र सिस्टम चालू करने के निर्देश दिए।

Narendra Kushwah Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned