बिजली बिलों में लगा सुरक्षा निधि का झटका

बिजली बिलों में लगा सुरक्षा निधि का झटका
guna

Jagdeesh Ransurma | Updated: 11 Jun 2016, 11:24:00 PM (IST) Guna, Madhya Pradesh, India

 बिजली कटौती से भी परेशान उपभोक्ता


गुना. जून की उमस भरी गर्मी और बिजली कटौती ने लोगों को हाल बेहाल कर रखा थे, ऐसे में बिल में सुरक्षा निधि का एक झटका लग गया। इसके चलते बिल दो गुना हो गया। मई जून में गर्मी के चलते बिल बढ़कर ही आता है, इस बढ़े हुए बिल में ही कंपनी ने सुरक्षा निधि जोड़ दी है।  सुरक्षा निधि बिल के एवरेज के आधार पर एक बिल की लगाई गई है। जो उपभोक्ताओं से दो किस्तों में बसूली जाएगी। कंपनी ने शहर के लगभग 40 हजार उपभोक्ताओं से एक माह के बिल के बराबर धरोहर राशि वसूल कर रही है।
उक्त सुरक्षा निधि दो किस्तों में वसूली जा रही है। गर्मी में बिजली की खपत अधिक होने के कारण पहले से ही बिल बढ़कर आ रहे हैं, इसके बाद सुरक्षा निधि और जोड़ दी गई है। जबकि इस महीना बिजली की दरों में भी परिवर्तन होने से उपभोक्ताओं को झटका लगा रहा है। जिन उपभोक्तओं के बिल छह से सात सौ रुपए तक आते थे उन उपभोक्ताओं को इस माह लगभग दो गुना बिल भरना पड़ सकता है।

कटौती से भी परेशान रहे उपभोक्ता
मई और जून के महीना में बिजली कटौती से उपभोक्ता काफी परेशान रहे हैं, दिन में बिजली की लुकाछिपी के साथ रात में भी लोगों को घंटों बिजली की कटौती झेलने पड़ी है। इसके अलावा कभी मरम्मत के नाम पर तो कभी सोंदर्यकरण के लिए नपा के पोल शिफ्टिंग के नाम पर बिजली की काटौती होती रही है। रात की  कटौती ने तो उपभोक्ताओं की नींद ही हराम कर दी है। इसके अलावा खंबों पर क्षमता से अधिक कनेक् शन होने के कारण फाल्टों की संख्या बढ़ रही है। बताया जाता है कि आईपीसी फैल होने के कारण कई कालोनियों में बाल्टेज बढ़ रहा है तो कहीं पर घटने की शिकायतें आ रहीं हैं।

पूरे शहर में है मात्र दो टीम बिजली कंपनी ने फाल्ट सुधारने के लिए एक गाड़ी को ही तैनात कर रखा है। प्रतिदिन शहर में 50 से अधिक फाल्ट की शिकायतें आ रहीं है। एक गाड़ी होने के कारण घंटों में फाल्ट सुधर रहे हैं। जबकि एक टीम केंट की अलग है। वहीं एक फाल्ट आदि सुधारे के लिए है। शिकायत केंद्र पर आए श्रीराम कालोनी के उपभोक्ता ने बताया कि उनके यहां पर आईपीसी फैल हो गई। बाल्टेज बढ़ घट रहा है। जिससे उपकरण जलने की आशंका बनी हुई है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned