scriptThe wall of the kutcha house cracked and fell, two people got injured | कच्चा मकान होने के बाद भी नपा कर्मचारी ने बता दिया पक्का मकान, रेन बसेरा में कराया शिफ्ट | Patrika News

कच्चा मकान होने के बाद भी नपा कर्मचारी ने बता दिया पक्का मकान, रेन बसेरा में कराया शिफ्ट

कच्चे घर की दीवार दरकी और गिर पड़ी, दो लोगों को आईं चोटें

गुना

Published: December 27, 2021 12:12:43 am

गुना। आपको प्रधानमंत्री आवास के तहत कुटीर तभी मिल पाएगी जब आप कुटीर की सूची बनाने और स्वीकृत बनाने वालों को सेवा शुल्क दे देंगे। यदि ऐसा नहीं किया तो आपको कुटीर नहीं मिल पाएगी। ऐसा ही कुछ हुआ बड़े जैन मंदिर के पास रहने वाले एक मुस्लिम परिवार के साथ। जिसने जरूरत होने पर कुटीर के लिए आवेदन लगाया, लेकिन नगर पालिका के कर्मचारी और संबंधित क्षेत्र के पटवारी ने सरकारी दस्तावेजों में आवेदक का पक्का मकान होना बताया, जबकि वह कच्चे मकान में रह रहा था, जिसकी दीवार शनिवार-रविवार की दरम्यानी रात को अचानक भरभराकर गिर गई, डर के कारण परिवार के अधिकतर सदस्य घर के बाहर आ गए। मौके पर पहुंची नगरपालिका की टीम ने परिवार को रैन बसेरा में शिफ्ट कर दिया।जिसमें उस मुस्लिम परिवार के दो लोगों को चोटें आई हैं। मौके पर पहुंची नगरपालिका की टीम ने पन्द्रह से अधिक संख्या वाले व्यक्तियों के परिवार को रेन बसेरा में कलेक्टर के आदेश पर सीएमओ ने ठहराया है।
जैन मंदिर गली में रहने वाले जलील खान,सलीम खान और शौकत खान के अनुसार वह अपने परिवार के साथ कच्चे घर में रहते हैं। उनके साथ मां और उनका परिवार, एक भाई और उनका परिवार, भाभी और उनके बच्चे उसी दो मंजिला घर में रहते हैं। यह घर उनके दादा के समय का है। घर को बने हुए लगभग 100 वर्ष से ऊपर हो चुके हैं। वह घर में ही सिलाई का काम करते हैं। उनका एक भाई है जो कुंभराज में अपने परिवार के साथ रहते हैं। पहले जब घर जर्जर हुआ तो वह घर से चले गए और कुंभराज में रहने लगे।
पीडि़तों मेें शामिल जमील बताते हैं कि शनिवार रात लगभग 8 बजे के आसपास वह नीचे सिलाई का काम कर रहे थे। ऊपर परिवार के सदस्य खाना खा रहे थे और बच्चे सो गए थे। इसी दौरान घर की दीवार से मिट्टी गिरने लगी। अलमारियों में रखे बर्तन और बाकी सामान भी गिरने लगा। उनके भाई ने नीचे आकर उन्हें बताया कि दीवार गिर रही है। आनन-फानन में बच्चों को गोदी में उठाकर बाहर लाया गया। अन्य परिवार के सदस्यों को भी घर से बाहर निकाला गया।
सूचना मिलते ही नगरपालिका की टीम मौके पर पहुंची और परिवार को रैन बसेरा में शिफ्ट किया गया। जलील खान ने बताया कि उन्होंने पक्के आवास के लिए कई बार आवेदन किया। नगरपालिका के चक्कर काटे, लेकिन उन्हें आवास स्वीकृत नहीं हुआ। इसकी वजह है कि नगरपालिका के कर्मचारियों ने उनके दस्तावेजों में पक्का मकान दर्शा दिया है। इस वजह से हर बार उनका आवेदन निरस्त हो जाता है।
रैन बसेरा में शिफ्ट किया गया परिवार।
नगरपालिका के सीएमओ तेजसिंह यादव के अनुसार मकान काफी जर्जर और पुराना है। कुछ दीवारें दरक रहीं थी। एहतियातन परिवार को रैन बसेरा में ठहरा दिया है। उनको आवास क्यों नहीं मिला, इसके क्या कारण रहे, सभी जांच कराकर उन्हें आवास स्वीकृत करने का प्रयत्न किया जाएगा।
कच्चे घर की दीवार दरकी और गिर पड़ी, दो लोगों को आईं चोटें
कच्चे घर की दीवार दरकी और गिर पड़ी, दो लोगों को आईं चोटें

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

शरीयत पर हाईकोर्ट का अहम आदेश, काजी के फैसलों पर कही ये बातभाजपा की नई लिस्ट में हो सकती है छंटनी की तैयारी, कट सकते हैं 80 विधायकों के टिकटRepublic Day 2022: आज होगी वीरता पुरस्कारों की घोषणा, गणतंत्र दिवस से पूर्व राजधानी बनी छावनीRepublic Day 2022 parade guidelines: कोरोना की दोनों वैक्सीन ले चुके लोग ही इस बार परेड देखने जा सकेंगे, जानिए पूरी गाइडलाइन्सDelhi Metro: गणतंत्र दिवस पर इन रूटों पर नहीं कर सकेंगे सफर, DMRC ने जारी की एडवाइजरीकई टेस्ट में भी पकड़ में नहीं आता BA 2 स्ट्रेन, जानिए क्यों खतरनाक है ओमिक्रान का ये सब वेरिएंट13 जिलों में जल्द बनेगी जिला कार्यकारिणी, प्रदेश कांग्रेस ने 28 जनवरी तक मांगे नामपुण्यतिथि पर याद की जा रहीं Vijaya Raje Scindia, 'बेटी' Vasundhara Raje ने कुछ इस तरह से किया 'मां' को याद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.